scorecardresearch
 

बिहार चुनाव के बीच मां दुर्गा की उपासना में लीन हुए लालू यादव, देंगे तीन बकरों की बलि!

इस वक्त लालू यादव जेल के बदले रांची के रिम्स में स्थित 1 केली बंगले में अपनी सजा काट रहे हैं. इस बंगले के बाहर लालू यादव का सहयोगी इरफान दो काले बकरों के साथ अंदर जाता दिख रहा है, तभी से ये कयास लगाया जा रहा है कि लालू यादव नवमी के दिन बकरों की बलि देने वाले हैं.

RJD अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो-पीटीआई) RJD अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (फाइल फोटो-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • क्या नवमी को बकरों की बलि देंगे लालू यादव?
  • 1 केली बंगले में ले जाए गए 2 काले बकरे
  • रांची में 1 केली बंगले में सजा काट रहे लालू

आरजेडी चीफ और चारा घोटाले में दोषी लालू यादव मां दुर्गा के अनन्य भक्त हैं और नवरात्रि के दौरान देवी दुर्गा की उपासना में लगे हैं. लालू यादव के एक नजदीकी सहयोगी ने हमें बताया है कि लालू यादव नवमी के दिन तीन बकरों की बलि देने वाले हैं, ताकि माता का आशीर्वाद निरंतर बना रहे और उनकी अधूरी इच्छाएं पूरी हो सकें. बता दें कि बिहार झारखंड में नवमी के दिन बकरों की बलि देने की प्रथा है.

इस वक्त लालू यादव जेल के बदले रांची के रिम्स में स्थित 1 केली बंगले में अपनी सजा काट रहे हैं. इस बंगले के बाहर लालू यादव का सहयोगी इरफान दो काले बकरों के साथ अंदर जाता दिख रहा है, तभी से ये कयास लगाया जा रहा है कि लालू यादव नवमी के दिन बकरों की बलि देने वाले हैं. 

बता दें कि चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू यादव इलाज के लिए रांची के रिम्स में भर्ती हैं. संक्रमण से बचाने के लिए उन्हें रिम्स निदेशक के 1 केली बंगले में शिफ्ट किया गया है. 

देखें: आजतक LIVE TV

पहला बकरा NDA की हार के लिए, दूसरा तेजस्वी को CM बनाने के लिए

जानकारी मिली है कि लालू यादव नवमी यानी 25 अक्टूबर को तीन बकरों की बलि चढ़ाने वाले हैं. पहले बकरे की बलि बिहार में एनडीए को हराने के लिए है, दूसरा बकरा उनकी दूसरी इच्छा की पूर्ति होने के लिए है कि उनके बेटे तेजस्वी यादव बिहार की सत्ता के केंद्र में आ जाएं मतलब बिहार के मुख्यमंत्री बन जाएं और तीसरा बकरा उनकी जेल से रिहाई के लिए है. 

1 केली बंगले में बकरे ले जाता लालू यादव का सहायक (फोटो- आजतक)

2 मामलों में लालू को मिल चुकी है बेल 

बता दें कि लालू यादव को केस में बेल मिल चुकी है. ये मामला चाईबासा कोषागार से अधिक नकासी का और देवघर कोषागार से अधिक निकासी का है. जबकि डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में सुनवाई जारी है. यदि लालू को दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ रुपये के अवैध निकासी के मामले में बेल मिल जाता है तो वो जेल से बाहर आ सकते हैं. 

दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में उन्हें 7 साल की सजा हुई है. इस मामले में पिछले मंगलवार को झारखंड हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की गई है. लालू के वकील प्रभात कुमार ने आजतक को कहा कि लालू यादव अपनी सजा का आधा हिस्सा जेल में काट चुके हैं और इसी के आधार पर उन्होंने बेल के लिए आवेदन किया है. 

6 नवंबर के बाद ही जमानत पर फैसला संभव

झारखंड हाई कोर्ट 6 नवंबर को दुर्गा पूजा की छुट्टी के बाद खुलने वाला है. इसके बाद लालू की याचिका पर सुनवाई हो सकती है. 

बीजेपी ने उठाए सवाल

रांची में लालू के समर्थक कहते हैं कि जेल में कैदियों को पूजा करने का अधिकार है. हालांकि 1 केली बंगले में बकरों की बलि दी जाएगी, इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है. बीजेपी प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने इस बाबत सवाल उठाए हैं और कहा है कि जेल में ऐसी प्रथाओं की अनुमति है क्या? 

इस बीच इरफान भी इस बात से इनकार कर रहा है कि वो कोई बकरा लेकर बंगले के अंदर गया है, सूत्र भी बताते हैं कि विवाद से बचने के लिए जेल प्रशासन ऐसे किसी कर्मकांड की अनुमति नहीं देगा. 

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें