scorecardresearch
 

बिहार में 12 रेल परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे पीएम, कोसी मेगा ब्रिज करेंगे राष्ट्र को समर्पित

बिहार में चुनाव की तारीखोें के ऐलान से पहले सौगातों की शुरुआत हो गई है. प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी सूचना के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 सितंबर को दोपहर 12 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऐतिहासिक कोसी रेल महासेतु (मेगा ब्रिज) राष्ट्र को समर्पित करेंगे.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर बिहार को देंगे कई नई सौगात (फाइल-पीटीआई) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर बिहार को देंगे कई नई सौगात (फाइल-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम में शामिल होंगे मोदी
  • 1934 में बाढ़-भूकंप की वजह से कोसी रेल लिंक हो गया था बर्बाद
  • चुनाव की तारीखों से पहले बिहार के लिए कई योजनाएं भी शुरू करेंगे

कोरोना संकट के बीच बिहार विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के दिन जैसे-जैसे नजदीक आ रहे हैं वैसे-वैसे राजनीतिक हलचल बढ़ती जा रही है. बिहार के लिए सौगातों का ऐलान होना शुरू हो गया है. इसी कड़ी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 सितंबर को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्र को कोसी रेल महासेतु समर्पित करेंगे. साथ ही प्रधानमंत्री बिहार में यात्री सुविधाओं से संबंधित 12 रेल परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे.

प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) की ओर से जारी सूचना के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 सितंबर को दोपहर 12 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऐतिहासिक कोसी रेल महासेतु (मेगा ब्रिज) राष्ट्र को समर्पित करेंगे.

साथ ही प्रधानमंत्री मोदी बिहार के यात्रियों की सुविधा के लिए 12 रेल परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे. इनमें किऊल नदी पर 1 नया रेलवे पुल, 2 नई रेलवे लाइनें, 5 विद्युतीकरण परियोजनाएं, 1 इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव शेड और बरह-बख्तियारपुर के बीच तीसरी लाइन परियोजना शामिल हैं.

कोसी रेल महासेतु का राष्ट्र को समर्पण बिहार के इतिहास और उत्तर पूर्व को जोड़ने वाले पूरे क्षेत्र में एक वाटरशेड क्षण है. 1887 में, निर्मली और भपटियाही (सरायगढ़) के बीच मीटर गेज लिंक बनाया गया था. 1934 में भारी बाढ़ और भारत-नेपाल में आए भूकंप की वजह से यह रेल लिंक बर्बाद हो गया और उसके बाद इस रेल लिंक को बहाल करने का कोई प्रयास नहीं किया गया था.

2003-04 में कोसी योजना को मंजूरी

2003-04 के दौरान भारत सरकार द्वारा कोसी मेगा ब्रिज लाइन परियोजना को मंजूरी दी गई थी. कोसी रेल महासेतु 1.9 किलोमीटर लंबा है और इसकी निर्माण लागत 516 करोड़ रुपये आई. भारत-नेपाल सीमा से सटे होने के कारण इस पुल का सामरिक महत्व है. इस परियोजना को कोरोना संकट के दौर में पूरा किया गया जिसमें बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों का योगदान रहा.

महासेतु के राष्ट्र को समर्पण के साथ, प्रधानमंत्री सुपौल स्टेशन से सहरसा-आसनपुर कूप डेमो ट्रेन को भी हरी झंडी दिखाएंगे. एक बार नियमित ट्रेन सेवा शुरू हो जाने के बाद, यह सुपौल, अररिया और सहरसा जिलों के लिए बेहद फायदेमंद साबित होगी. इससे क्षेत्र के लोगों के लिए कोलकाता, दिल्ली और मुंबई के लिए लंबी दूरी की यात्रा करना भी आसान हो जाएगा.

प्रधानमंत्री मोदी हाजीपुर-घोसवर-वैशाली और इस्लामपुर-नटेश्वर में 2 नई लाइन परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे. मोदी बाढ़-बख्तियारपुर के बीच करनौटी-बख्तियारपुर लिंक बाइपास और तीसरी लाइन का भी उद्घाटन करेंगे.

प्रधानमंत्री मोदी मुजफ्फरपुर के सीतामढ़ी, कटिहार-न्यू जलपाईगुड़ी, समस्तीपुर-दरभंगा-जयनगर, समस्तीपुर-खगड़िया, भागलपुर-शिवनारायणपुर खंडों के रेलवे विद्युतीकरण परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें