scorecardresearch
 

बिहार: अपहरण से रंगदारी तक, विकास से आरक्षण तक, 4 रैलियों में पीएम मोदी ने इन मुद्दों पर RJD-कांग्रेस को घेरा

छपरा की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार ने वो दौर देखा है, जब बिहार के नौजवानों को उनकी मां बचपन में कहा करती थीं. वो कहती थीं- घर के भीतर ही रहो, बाहर मत निकलना, बाहर ‘लकड़सुंघवा’ घूम रहा है. बच्चों की माताएं उन्हें लकड़सुंघवा से क्यों डराती थीं? उन्हें डर था अपहरण करने वालों से, किडनैपिंग करने वालों से. 

छपरा की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो- पीटीआई) छपरा की रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो- पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार में दूसरे चरण का प्रचार समाप्त
  • छपरा, समस्तीपुर, मोतिहारी, चंपारण में PM की रैली
  • जंगलराज के खौफ से लेकर नए बिहार की सपना

बिहार में दूसरे चरण के लिए प्रचार समाप्त हो गया है. प्रचार के आखिरी दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बिहार में धुआंधार एक के बाद एक चार रैलियां की. पीएम ने अपने भाषणों में बिहारवासियों को आत्मनिर्भर बिहार का स्वपन दिखाया और कहा कि बिहार को जिन लोगों ने कभी बीमार बनाया है उन्हें फिर से भूलकर भी सत्ता न सौंपे. 

पीएम मोदी ने अपने भाषणों में जगंलराज, अपहरण, रंगदारी, छठ पूजा, डबल इंजन सरकार और युवराज जैसे मुद्दों पर चर्चा की. 

'एक तरफ जबल इंजन की सरकार एक और डबल-डबल युवराज'

छपरा में प्रधानमंत्री ने नरेंद्र मोदी ने कहा कि बिहार में एक ओर विकास का डबल इंजन है तो दूसरी ओर डबल-डबल युवराज भी हैं. इनमें से एक डबल युवराज तो जंगलराज का युवराज है. पीएम ने कहा कि इस युवराज से अलर्ट रहने की जरूरत है. 

पीएम ने कहा कि डबल इंजन वाली एनडीए सरकार, बिहार के विकास के लिए प्रतिबद्ध है, हमें आत्मनिर्भर बिहार बनाना, सशक्त बिहार बनाना है, तो ये डबल-डबल युवराज अपने-अपने सिंहासन को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि यूपी में एक बार डबल युवराज काले कोट पहनकर बस के ऊपर चढ़कर लोगों के सामने हाथ हिला रहे थे. यूपी की जनता ने वहां उन्हें घर लौटा दिया था. वहां के एक युवराज अब जंगलराज के युवराज से मिल गये हैं. यूपी में जो डबल-डबल युवराज का हुआ, वो ही बिहार में होगा. 

'छठ की तैयारी करो मां, तुम्हारा बेटा दिल्ली में बैठा है'

बिहार के लोकपर्व छठ का मुद्दा उठाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोरोना संकट में किसी को चिंतित होने की जरूरत नहीं है,  पीएम ने कहा कि कोरोना काल में किसी मां को ये चिंता करने की जरूरत नहीं है कि छठ पूजा को कैसे मनाएंगे. अरे मेरी मां! आपने अपने बेटे को दिल्ली मैं बैठाया है, तो क्या वो छठ की चिंता नहीं करेगा! मां! तुम छठ की तैयारी करो, दिल्ली में तुम्हारा बेटा बैठा है. 

'सावधान...बाहर लकड़सुंघवा धूम रहा है'

प्रधानमंत्री कहा कि बिहार ने वो दौर देखा है, जब बिहार के नौजवानों को उनकी मां बचपन में कहा करती थीं. वो कहती थीं- घर के भीतर ही रहो, बाहर मत निकलना, बाहर ‘लकड़सुंघवा’ घूम रहा है. बच्चों की माताएं उन्हें लकड़सुंघवा से क्यों डराती थीं? उन्हें डर था अपहरण करने वालों से, किडनैपिंग करने वालों से. 

 

'रंगदारी की शिकायत करने पर देनी होती थी डबल रंगदारी'

पीएम ने पश्चिमी चंपारण में जंगलराज का मुद्दा फिर से उठाया. उन्होंने कहा कहा कि याद कीजिए जंगल राज को जब लोग अपने घरों को सामने से सजाते नहीं थे, बड़े घर बनाते नहीं थे, अपने ही घर को सामने से पुराना करके रखते थे. उन्हें डर था, खौफ था. घर जितना अच्छा, किडनैपिंग उतनी जल्दी. घर जितना बड़ा, रंगदारी भी उतनी बड़ी.

देखें: आजतक LIVE TV

पीएम ने कहा कि जब लोग नई गाड़ी खरीदते थे तो उसमें खुद खरोंच लगा देते थे, ताकि किसी की नजर न पड़े. पीएम ने कहा कि बिहार ने वो दिन भी देखे हैं जब रंगदारी की शिकायत करने के लिए, लोग किसी के पास जाते थे, तो उन्हें डबल रंगदारी देनी पड़ती थी. गाड़ी लूटी जाने की शिकायत करने के लिए लोग, जिसके पास अर्जी लेकर जाते थे, वो खुद लुटेरों के साथ घर में बैठा मिलता था. 

'पुलवामा पर पाक के कबूलनामे ने चेहरे से नकाब हटा दिया'

अपनी दूसरी रैली समस्तीपुर में पीएम मोदी ने शनिवार की तरह आज भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को भी पुलवामा हमले का मुद्दा उठाया और कहा कि इस बारे में पाकिस्तान ने जो कुछ स्वीकार किया, उससे भारत के कई लोगों के चेहरे से नकाब हट गए.

'सरदार पटेल का स्मरण करने में पेट में चूहे दौड़ने लगे'

पीएम नरेंद्र मोदी सरदार पटेल को लेकर एक बार फिर से कांग्रेस पर हमला बोला. पीएम ने कहा कि सरदार साहब कांग्रेस पार्टी के थे कि नहीं? फिर भी कांग्रेस पार्टी सरदार पटेल की जन्म जयंती पर उनका स्मरण तक नहीं की. उनके पेट में चूहे दौड़ने लगे. पीएम ने कहा कि सरदार पटेल, बीजेपी के नहीं थे, संघ के नहीं थे और न ही जनसंघ के थे. 

चुनाव आते ही गरीब-गरीब जपना शुरू कर देते हैं- मोदी

पीएम ने कहा कि विपक्ष के लिए गरीब और गरीबी सत्ता प्राप्ति का साधन हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि इन लोगों को गरीब की परेशानी, उसकी मुसीबतों से कोई लेना देता नहीं है. इन्हें गरीब सिर्फ और सिर्फ चुनाव में याद आते हैं. जब चुनाव आते हैं तो ये माला जपना शुरू कर देते हैं- गरीब, गरीब, गरीब...जब चुनाव पूरा हुआ तब ये बस अपने परिवार का कुनबा लेकर बैठ जाते हैं. ये वही लोग हैं जो सत्ता में आने पर रिश्तेदारों में जिला बांटते हैं.

'मातृभाषा में होगी मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई'

प्रधानमंत्री ने कहा कि बिहार में कई ऐसे छात्र हैं जिन्हें भाषा की समस्या है, और भाषा की बाध्यता की वजह से वे मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई नहीं कर पाते हैं लेकिन हमने वादा किया है कि सत्ता में आने पर हम हिन्दी भाषा में मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई उपलब्ध कराएंगे. पीएम ने कहा कि अब रेलवे और बैंकिंग जैसी परीक्षा के लिए एक ही प्रतियोगिता परीक्षा होगी, इससे छात्रों को सुविधा होगी. 

'जंगलराज और टुकड़े-टुकड़े वाले साथ हो गए'

मोतिहारी में पीएम मोदी ने कहा कि बिहार के युवाओं को बिहार में ही अच्छा और सम्मानजनक रोजगार मिले, ये बहुत जरूरी है. सवाल ये है कि ये कौन दिला सकता है? वो लोग जिन्होंने बिहार को अंधेरे और अपराध की पहचान दी? वो लोग जिनके लिए रोजगार देना करोड़ों की कमाई का माध्यम है. 

उन्होंने कहा जंगलराज की हालत तो ये थी कि जो उद्योग, जो चीनी मिले, दशकों से चंपारण और बिहार का अहम हिस्सा रही हैं, वो भी बंद हो गई. अब तो इस चुनाव मे जंगलराज वालों के साथ नक्सलवाद के समर्थक, देश के टुकड़े-टुकड़े करने की चाहत रखने वालों के समर्थक भी शामिल हो गए हैं. 

'CAA और 370 पर झूठ फैला गया'

पश्चिमी चंपारण में विपक्ष पर हमला करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि झूठ बोलकर, लोगों को डराकर ये लोग हमेशा अपने स्वार्थ की सिद्धि करते रहे हैं, आप लोगों का विश्वास तोड़ते रहे हैं. पीएम ने कहा कि जब नागरिकता संशोधन कानून आया तो इन्होंने झूठ फैलाया कि बहुत सारे भारतीयों की नागरिकता चली जाएगी. अब एक साल होने को है, लेकिन क्या किसी भी भारतीय नागरिक की नागरिकता गई. 

पीएम ने कहा कि इसी तरह का झूठ अनुच्छेद 370 को लेकर फैलाया गया. लोग कह रहे थे कि कश्मीर में अस्थिरता आ जाएगी, हिंसा होगी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ बल्कि जम्मू कश्मीर प्रगति के रास्ते पर आगे बढ़ चुका है. 

'SC/ST का आरक्षण 10 साल बढ़ाया, सामान्य वर्ग को भी आरक्षण दिया'

प्रधानमंत्री ने पश्चिमी चंपारण ने कहा कि अफवाहें उड़ाई गई कि दलितों का आरक्षण खत्म कर दिया जाएगा, लेकिन हमारी सरकार ने न सिर्फ SC/ST का आरक्षण 10 साल के बढ़ा दिया, बल्कि सामान्य वर्ग को भी आरक्षण दिया. 

बता दें कि 3 नवंबर को बिहार विधानसभा की 94 सीटों पर वोट डाले जाएंगे. इसके लिए सारी तैयारियां पूरी हो गई है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें