scorecardresearch
 

ओपिनियन पोलः बिहार में नीतीश कुमार के शासन से 52 फीसदी ही लोग खुश

लोकनीति-सीएसडीएस के ओपिनियन पोल में पता चला है कि बिहार में नीतीश कुमार के शासन से 52 फीसदी लोग खुश हैं. वहीं मुख्यमंत्री के रूप में नीतीश कुमार लोगों की पहली पसंद हैं. 31 फीसदी लोगों की पसंद के साथ वो पहले नंबर पर हैं.

नीतीश कुमार को 31 फीसदी लोग बेहतर सीएम मानते हैं (फोटो-Getty Images) नीतीश कुमार को 31 फीसदी लोग बेहतर सीएम मानते हैं (फोटो-Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नीतीश के शासन से 52 फीसदी ही लोग खुश
  • 35 प्रतिशत मोदी सरकार के काम से नाखुश
  • 31 फीसदी ने नीतीश को बेहतर सीएम माना

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर प्रचार की सरगर्मियां तेज है. बिहार चुनाव में एनडीए और महागठबंधन के बीच मुख्य मुकाबला है. इस बीच, लोकनीति-सीएसडीएस के ओपिनियन पोल में चुनाव से पहले लोगों की राय खुलकर सामने आई. ओपिनियन पोल के परिणामों के मुताबिक मुख्यमंत्री के रूप में लोगों की पहली पसंद नीतीश कुमार हैं. 31 फीसदी लोगों की पसंद के साथ वो पहले नंबर पर हैं.

वहीं मुख्यमंत्री पद के लिए नेता प्रतिपक्ष और आरजेडी नेता तेजस्वी यादव 27 फीसदी लोगों की पसंद के साथ दूसरे, एलजेपी के प्रमुख चिराग पासवान 5 फीसदी के साथ तीसरे और बीजेपी नेता सुशील मोदी 4 फीसदी लोगों की पसंद के साथ चौथे स्थान पर हैं.

ओपिनियन पोल से यह भी पता चला है कि बिहार में नीतीश कुमार के शासन से 52 फीसदी ही लोग खुश हैं. इस पोल में 52 फीसदी लोग नीतीश सरकार के काम से संतुष्ट हैं जबकि 44 फीसदी लोग असंतुष्ट हैं. वहीं 61 फीसदी लोग मोदी सरकार के कामकाज से खुश दिखे तो 35 प्रतिशत लोगों ने नाखुशी जताई है.

कैसे किया गया ओपिनियन पोल

लोकनीति-सीएसडीएस के ओपिनियन पोल में 37 विधानसभा सीटों के 148 बूथों को कवर किया गया जिनमें से 3731 लोगों से बात की गई. ये ओपिनियन पोल 10 से 17 अक्टूबर के बीच किया गया इनमें 60 फीसदी पुरुष और 40 फीसदी महिला मतदाताओं से बात की गई. 

देखें: आजतक LIVE TV

पृष्ठभूमि की बात करें तो 90 फीसदी सैंपल ग्रामीण इलाकों से और 10 फीसदी शहरी इलाकों के लोगों से बात की गई. इनमें हर आयुवर्ग के लोग शामिल थे. 18 से 25 साल तक के 14 फीसदी, 26 से 35 साल के 29 फीसदी, 36 से 45 साल के 15 फीसदी, 46 से 55 साल के 15 फीसदी और 56 साल के अधिक के 17 फीसदी लोग शामिल थे. इस सैंपल में 16 फीसदी सवर्ण, 51 फीसदी ओबीसी, 18 फीसदी एससी और 14 फीसदी मुस्लिम शामिल रहे.

गठबंधनः किस खेमे में कौन  

एनडीए में भारतीय जनता पार्टी, जनता दल यूनाइटेड, एचएएम और वीआईपी शामिल हैं जबकि महागठबंधन में राष्ट्रीय जनता दल, कांग्रेस, सीपीआईएमएल, सीपीआई, सीपीएम हैं. इसके अलावा ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट (जीडीएसएफ) राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (आरएलएसपी),  बहुजन समाज पार्टी (बसपा), असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम, समाजवादी जनता दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, जनतांत्रिक पार्टी सोशलिस्ट का गठबंधन है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें