scorecardresearch
 

Gaya: पूर्व मुख्यमंत्री मांझी के क्षेत्र में मिले तीन आईईडी बम, नक्सलियों की बड़ी साजिश हुई नाकाम

गया के इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में मंजरी से परसा चूंआ जाने वाली सड़क पर नक्सलियों द्वारा आईईडी बम प्लांट किये गए थे. सुरक्षाबलों ने चेकिंग के दौरान इन बम को बरामद किया. जिसके बाद मौके पर पुलिस अधिकारी भी पहुंच गए.

इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में मिले आईईडी बम. इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में मिले आईईडी बम.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में मिले आईईडी बम
  • नक्सलियों द्वारा की गई थी बड़ी साजिश
  • सुरक्षाबलों ने चेकिंग के दौरान इन बमों को बरामद किया

बिहार के गया में प्रथम चरण के मतदान से पहले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी के विधानसभा क्षेत्र में तीन आईईडी बम मिले. बताया गया है कि ये आईईडी बम नक्सलियों द्वारा प्लांट किये गए थे. चेकिंग के दौरान सुरक्षाबलों ने आईईडी बम को बरामद कर नक्सलियों की बड़ी साजिश को नाकाम कर दिया है. 

गया के इमामगंज विधानसभा क्षेत्र में मंजरी से परसा चूंआ जाने वाली सड़क पर नक्सलियों द्वारा आईईडी बम प्लांट किये गए थे. सुरक्षाबलों ने चेकिंग के दौरान इन बम को बरामद किया. जिसके बाद मौके पर पुलिस अधिकारी भी पहुंच गए. मामले की जानकारी देते हुए एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि चुनाव को लेकर पुलिस के साथ सीआरपीएफ के जवानों द्वारा सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है.

इस दौरान सुरक्षाबलों ने आईईडी बम को बरामद किया है. तीनों बम को नष्ट कर दिया गया है. उन्होंने बताया कि इसके अलावा सुरक्षाबल अन्य क्षेत्रों में भी सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं. प्रथम चरण के मतदान को लेकर सुरक्षा व्यवस्था और भी सख्त कर दी गई है. 

देखें: आजतक LIVE TV

बता दें कि गया की इमामगंज विधानसभा से बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी चुनाव मैदान में हैं. उनका मुकाबला बिहार विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके उदय नारायण चौधरी से है. गया जिले की 10 विधानसभा क्षेत्रों में प्रथम चरण में 28 अक्टूबर को मतदान होगा.

यहां मतदान कराना पुलिस प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती माना जाता है, क्योंकि यहां का अधिकांश क्षेत्र नक्सल प्रभावित है. हालांकि इमामगंज में तीन आईईडी बम को जिस तरह सुरक्षाबलों ने खोज निकाला है, उसे बड़ी सफलता माना जा रहा है, लेकिन अभी भी सुरक्षा को लेकर अधिकारी कोई ढ़ील नहीं बरतना चाहते हैं. 

 एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि सीआरपीएफ की 207 कंपनी और बिहार पुलिस समेत करीब 25 हजार से ज्यादा सुरक्षाकर्मियों की तैनाती पूरे जिले में की गई है. नक्सल प्रभावित हर एक बूथ पर सीआरपीएफ के जवान तैनात रहेंगे. वहीं अन्य बूथों पर भी सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम रहेंगे. (इनपुट-बिमलेंदु चैतन्य)

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें