scorecardresearch
 

चिराग बोले- पापा का था 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला, CM ने बार-बार किया अपमान

आजतक से खास बातचीत में चिराग ने कहा कि पापा (रामविलास पासवान) ने 143 सीटों पर लड़ने का फैसला किया था. एक बेटे के तौर पर मैं बुरी तरह से आहत था, जब मेरे पिता का नीतीश कुमार द्वारा बार-बार अपमान किया गया था.

LJP अध्यक्ष चिराग पासवान (फाइल फोटो-पीटीआई) LJP अध्यक्ष चिराग पासवान (फाइल फोटो-पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • चिराग ने नीतीश कुमार पर फिर हमला बोला
  • चिराग बोले- नीतीश क्यों नहीं चुनाव लड़ते?
  • रामविलास पासवान का निधन हो चुका है

बिहार के चुनावी रण में LJP अध्यक्ष चिराग पासवान ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर फिर तीखा हमला बोला है. चिराग पासवान ने नीतीश कुमार को अहंकारी बताते हुए कहा कि वो खुद क्यों नहीं चुनाव लड़ते? उनको चुनाव लड़ना चाहिए, ताकि जनता का मूड पता चले. 

आजतक से खास बातचीत में चिराग ने कहा कि पापा (रामविलास पासवान)  ने 143 सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया था. एक बेटे के तौर पर मैं बुरी तरह से आहत था, जब मेरे पिता का नीतीश कुमार द्वारा बार-बार अपमान किया गया था. 2019 में नीतीश कुमार ने मेरे सभी छह उम्मीदवारों को हराने की पूरी कोशिश की. उन्होंने कभी हमारे उम्मीदवारों का समर्थन नहीं किया.

चिराग पासवान ने कहा कि 10 नवंबर को नीतीश कुमार सीएम नहीं बनेंगे. नतीजे के बाद बिहार में बीजेपी-एलजेपी सरकार बनेगी और सीएम बीजेपी का होगा. चिराग ने कहा कि मैं 2020 में सीएम नहीं बनना चाहता. मैं 2020 में बीजेपी का सीएम चाहता हूं. नीतीश कुमार इतनी सीटें नहीं जीत पाएंगे कि वह सीएम बन सकें. बीजेपी मेरे खिलाफ नीतीश कुमार के इशारे पर बोल रही है. उन्होंने कहा कि मुझे चुनावों में प्रधानमंत्री की तस्वीरों का इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है. पीएम मेरे दिल में हैं. 

देखें: आजतक LIVE TV

बता दें, केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का इसी महीने 8 अक्टूबर को निधन हुआ था. वो 74 साल के थे और पिछले कुछ दिनों से बीमार थे. पासवान के निधन की सूचना के बाद सियासी गलियारे में शोक की लहर दौड़ गई थी. उनके दिल्ली स्थित आवास पर पीएम मोदी समेत कई बड़े नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे. पीएम मोदी ने पासवान के निधन को निजी क्षति बताया था. 

रोसड़ा सीट पर बीजेपी के खिलाफ LJP

बता दें कि बिहार चुनाव में नीतीश कुमार के अगुवाई वाले एनडीए में सहयोगी दलों के बीच सीट शेयरिंग पर सहमति नहीं बन पाई, जिसके चलते एलजेपी ने 143 सीटों पर अलग चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. चिराग पासवान बिहार में जेडीयू के खिलाफ प्रत्याशी उतारेंगे, लेकिन बीजेपी को समर्थन करेंगे. हालांकि रोसड़ा विधानसभा से बीजेपी के खिलाफ अपने पहले प्रत्याशी की घोषणा कर दी है. चिराग पासवान के चचेरे भाई कृष्ण राज को एलजेपी ने टिकट दिया है.

साल 2000 में बनी थी लोक जनशक्ति पार्टी

साल 2000 में रामविलास पासवान लोक जनशक्ति पार्टी का गठन किया था. रामविलास पासवान बिहार के एकलौते नेता थे, जिन्होंने देश के छह प्रधानमंत्रियों के साथ काम किया. विश्वनाथ प्रताप सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्र कुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, डॉ मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी सरकार में पासवान मंत्री रहे. केंद्र में मंत्री रहते हुए उन्होंने कई ऐतिहासिक काम भी किए, लेकिन अब पार्टी की जिम्मेदारी बेटे चिराग पर आ गई है. 

ये भी पढ़ें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें