scorecardresearch
 

राजौली विधानसभा सीट: कभी RJD तो कभी BJP ने मारी बाजी, इस बार कौन पड़ेगा भारी?

1967 से अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित इस सीट से वर्तमान में आरजेडी के प्रकाश वीर विधायक हैं. उससे पहले 2005 और 2010 में बीजेपी का सीट पर कब्जा था.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

राजौली विधानसभा सीट, बिहार राज्य का 243 विधान सभा क्षेत्रों में से एक है. राजौली, नवादा जिले में आता है. राजौली विधानसभा क्षेत्र में रजौली, सिरदला और मेसकौर प्रखंड हैं. 1967 से अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित इस सीट से वर्तमान में आरजेडी के प्रकाश वीर विधायक हैं. उससे पहले 2005 और 2010 में बीजेपी का सीट पर कब्जा था.

राजौली विधानसभा सीट का राजनीति इतिहास
राजौली विधानसभा सीट पर 1957 में पहला चुनाव हुआ था और कांग्रेस के आरपी यादव जीते थे. इसके बाद 1959 में उपचुनाव हुआ, जिसमें भी आरपी यादव जीते. इसके बाद 1962 के चुनाव में भी आरपी यादव जीते. 1967 में यह सीट आरक्षित हो गई और कांग्रेस की ही एस देवी जीतीं. फिर 1969 में बीजेएस के बाबू लाल, 1972 में कांग्रेस के बनवारी राम, 1977 में बाबू लाल, 1980 और 1985 के चुनाव में बनवारी राम जीते. 1990 में इस सीट पर बीजेपी का खाता खुला और बाबू लाल जीते.

1995 में जनता दल के टिकट पर बाबू लाल जीते. इसके बाद 2000 में आरजेडी के टिकट पर राजाराम पासवान जीते. 2005-फरवरी में आरजेटी के टिकट पर नंद किशोर चौधरी जीते. 2005-अक्टूबर में बीजेपी के टिकट पर बनवारी राम जीते. 2010 में बीजेपी के टिकट पर कन्हैया कुमार जीते. 2015 में आरजेडी के टिकट पर प्रकाश वीर जीतने में कामयाब हुए.

सामाजिक तानाबाना
रजौली विधानसभा सीट की कुल आबादी 2,83,937 हैं. इसमें 1,49,346 पुरुष और 1,34,582 महिलाएं हैं. इसमें करीब 90 फीसदी आबादी ग्रामीण और 10 फीसदी आबादी शहरी है. इस सीट पर अनुसूचित जाति की संख्या करीब 30 फीसदी है. 2015 के चुनाव में इस सीट पर करीब 51 फीसदी मतदान हुआ था.

कौन-कौन है मैदान में?
भारतीय जनता पार्टी- कन्हैया कुमार
राष्ट्रीय जनता दल- प्रकाश वीर
राष्ट्रीय लोक समता पार्टी- मिथलेश राजवंशी

कब होना है चुनाव? 
पहला चरण – 28 अक्टूबर
नतीजा – 10 नवंबर

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें