scorecardresearch
 

कोसी रेल महासेतु: लालू पर PM मोदी का निशाना, कहा- जिनके पास रेल मंत्रालय था, उन्हें बिहार की फिक्र न थी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मिथिलांचल को जोड़ने वाले कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन किया. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि आज बिहार में रेल कनेक्टिविटी के क्षेत्र में नया इतिहास रचा गया है. इससे रेलवे में मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो-PTI) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो-PTI)

बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले केंद्र सरकार की ओर से सौगात देने का सिलसिला जारी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मिथिलांचल को जोड़ने वाले कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन किया. इस मौके पर पीएम मोदी ने कहा कि आज बिहार में रेल कनेक्टिविटी के क्षेत्र में नया इतिहास रचा गया है. इससे रेलवे में मेक इन इंडिया को बढ़ावा मिलेगा.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि करीब साढ़े आठ दशक पहले भूकंप की एक भीषण आपदा ने मिथिला और कोसी क्षेत्र को अलग-थलग कर दिया था. आज ये संयोग ही है कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के बीच इन दोनों आंचलों को आपस में जोड़ा जा रहा है. आज कोसी महासेतु होते हुए सुपौल-आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन सेवा शुरू होने से सुपौल, अररिया और सहरसा जिले के लोगों को बहुत लाभ होगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अटल जी की सरकार जाने के बाद इस प्रोजेक्ट की रफ्तार कम हो गई. अगर दूसरी सरकार को बिहार के लोगों की फिक्र होती और जो लोग तब रेल मंत्री थे उन्हें अगर चिंता होती तो काम पहले ही हो जाता. लेकिन वो ऐसा करना नहीं चाहते थे, पीएम बोले कि अगर दृढ़ निश्चय हो और नीतीश जैसा साथी हो तो सबकुछ संभव है.

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 5-6 साल में हमने समस्याओं का हल ढूंढा है. 4 साल पहले उत्तर-दक्षिण बिहार को जोड़ने वाले दो महासेतु को शुरू किया गया. पीएम ने कहा कि भूकंप की आपदा ने मिथिला और कोसी को अलग किया था, आज कोरोना महामारी के बीच इन दोनों को फिर से जोड़ा जा रहा है. ये प्रोजेक्ट अटल जी और नीतीश बाबू का ड्रीम प्रोजेक्ट है. 

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि आत्मनिर्भर भारत के मिशन के तहत बिहार में रेल नेटवर्क को बढ़ाया जा रहा है और बिजलीकरण किया जा रहा है. पीएम ने बताया कि 2014 से पहले के पांच साल में सिर्फ सवा तीन सौ किमी. रेल लाइन शुरू हुई, लेकिन 2014 के बाद के पांच साल में 700 किमी. रेल लाइन कमीशन हो चुकी है. अभी भी एक हजार किमी. नई रेल लाइन का निर्माण हो रहा है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें