scorecardresearch
 
बिहार विधानसभा चुनाव

बक्सरः गुप्तेश्वर पांडे की मां बोलीं- मेरा बेटा गरीबों का मसीहा है

DGP Gupteshwar Pandey Mother is happy for his son
  • 1/5

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे के चुनाव को लेकर राज्य की राजनीति में एक अलग मोड़ आ गया है. इस बीच बक्सर जिले में उनके पैतृक गांव गेरुवा बान में खुशी की लहर है. पूर्व डीजीपी की मां गुलरिया देवी कहती हैं कि वो अपने बेटे के फैसले पर खुश हैं. उनके बेटे ने गरीबों की मदद की है. गांव में जब भी आता है, लोग उसे घेर लेते हैं. वह सब की मदद करता है. उसकी कई गरीब परिवार की बेटियों की शादियां भी कराई हैं. (रिपोर्टः पुष्पेंद्र पांडेय)

DGP Gupteshwar Pandey Mother is happy for his son
  • 2/5

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लेकर बिहार चुनाव का गियर ही बदल दिया है. चुनाव लड़ने का कयास तो पहले ही लगा लिया गया था. अब बेटे के चुनाव मैदान में उतरने की बातों के बीच डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे की मां का बयान बिहार चुनाव को नया रंग दे रहा है. 

DGP Gupteshwar Pandey Mother is happy for his son
  • 3/5

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे की मां गुलरिया देवी ने अपने बेटे का पक्ष लेते हुए कहा कि मेरा बेटा गरीबों का मसीहा है. जब भी गांव आता है गरीबों की मदद करता है. गरीबों की बेटियों की शादी कराता है. गरीबों का दुलारा है. मां ने कहा मेरे तीन बेटे हैं. उसमें गुप्तेश्वर पांडे जब भी गांव में आते हैं तो अपने हाथों से अपने यहां काम करने वालों या गांव के गरीबों को कपड़ा देता है. अन्य तरह की मदद करता है. 

DGP Gupteshwar Pandey Mother is happy for his son
  • 4/5

गांव गेरुआ बान के रहने वाले राम नारायण पांडे ने कहा कि अगर वो चुनाव में आते हैं तो हम लोग उनका स्वागत करेंगे, क्योंकि वो हमारे गांव के हीरो हैं. वो लड़कियों की शादी कराते हैं. लोगों के दुख-सुख में शामिल होते हैं. गांव की अनेक समस्याओं का समाधान करते हैं. ऐसे में अगर वह चुनाव में आते हैं तो वह स्वागत योग्य है. 

DGP Gupteshwar Pandey Mother is happy for his son
  • 5/5

उमाकांत पांडे कहते हैं कि फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से यह बात सामने आ रही है कि पूर्व डीजीपी चुनाव लड़ना चाहते हैं. हम बक्सर के नागरिक होने के नाते उनका स्वागत करते हैं लेकिन वह किस पार्टी से आते हैं यह देखने वाली बात है. ऐसे में लोगों को उनके चुनाव में आने का इंतजार है.