scorecardresearch
 

शाह के बाद अब ममता की नजर मतुआ समुदाय पर, बोलीं- आप भी नागरिक, NRC का नहीं होगा असर

बंगाल चुनाव से पहले टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने मतुआ समाज में पहुंचने की कोशिश की है. बनगांव दौरे पर ममता ने मतुआ समाज के लिए किए गए सरकार के कामों को गिनाया, साथ ही कहा कि यहां NRC लागू नहीं होगा.

बनगांव में बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (PTI) बनगांव में बंगाल की सीएम ममता बनर्जी (PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बंगाल चुनाव के लिए दंगल जारी
  • मतुआ समाज पर ममता की नजर
  • शाह भी कर चुके हैं यहां दौरा

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए राजनीतिक दलों ने रणनीति बनाना शुरू कर दिया है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीते दिन बनगांव का दौरा किया, यहां ममता ने मतुआ समुदाय को साधने की कोशिश की. करीब एक महीने पहले गृह मंत्री अमित शाह ने भी मतुआ समुदाय के लोगों से मुलाकात की थी, ऐसे में चुनाव को देखते हुए टीएमसी और बीजेपी की जंग तेज हो रही है. 

नागरिकता संशोधन एक्ट का हवाला देते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि सभी मतुआ इस देश के नागरिक हैं, आपको किसी के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. हमारे राज्य में CAA, NRC या NPR लागू नहीं होगा. बीजेपी बंगाल को गुजरात बनाना चाहती है, जो हम होने नहीं देंगे. 

आपको बता दें कि मतुआ समाज की लंबे वक्त से मांग रही है कि उन्हें परमानेंट सिटिजनशिप चाहिए. अभी उन्हें SC कास्ट में गिना जाता है, मतुआ समाज वो हैं जो बांग्लादेश के बनने के वक्त वहां से बंगाल में आ बसे थे. मुख्य रूप से बंगाल में नॉर्थ और साउथ 24 परगना में इनकी बसावट है और राज्य में दूसरी सबसे बड़ी SC जाति की जनसंख्या है. 

देखें: आजतक LIVE TV  

मतुआ समाज पर बीजेपी की लंबे वक्त से नजर रही है, पीएम मोदी ने लोकसभा चुनाव में अपने कैंपेन की शुरुआत इसी इलाके से की. फिर पिछले महीने अमित शाह भी मतुआ समाज के मंदिर में पहुंचे और लोगों के घर जाकर मुलाकात की. बीजेपी के बाद अब टीएमसी भी इस ओर एक्टिव दिख रही है. 

बनगांव से बीजेपी के सांसद शांतनु ठाकुर ने सीएए में देरी होने से नाराजगी व्यक्त की है, तो वहीं विपक्ष तंज कस रहा है कि चुनाव में नागरिकता देने का वादा किया गया, लेकिन अबतक वो सच नहीं हो सका है. आपको बता दें कि शांतनु ठाकुर हरिचंद ठाकुर के परिवार से ताल्लुक रखते हैं, जो मटुआ समाज के कर्ता-धर्ता माने जाते रहे हैं. 

अब ममता की ओर से ऐलान किया गया है कि 2021 से हरिचंद ठाकुर की जयंती पर हर साल सरकारी छुट्टी रहेगी. साथ ही उनके नाम से कुछ योजनाएं शुरू की जाएंगी. गौरतलब है कि बंगाल में नामशूद्र जाति की करीब 17.4 फीसदी आबादी है, जो बंगाल में राजबोंग्शी के बाद सबसे अधिक है. बंगाल में करीब 99 फीसदी SC वोटर हिन्दू हैं, कुल 42 लोकसभा सीटों में से दस सीटें SC के लिए आरक्षित हैं और लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने 4 पर जीत हासिल की थी.  

एक ओर बंगाल में बीजेपी और टीएमसी में जंग चल रही है, तो दूसरी ओर कांग्रेस नेता शत्रुघ्न सिन्हा ने अपने जन्मदिन के मौके पर ममता सरकार की तारीफ की है. शत्रुघ्न सिन्हा ने ममता सरकार के द्वारे सरकार कैंपेन की तारीफ की है. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि बहुत बढ़िया, बंगाल सरकार. आम लोगों तक पहुंचने के लिए द्वारे सरकार काफी अच्छा कैंपेन है. सरकार की स्कीम आपके दरवाजे पर, इस योजना में काफी खूबियां हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें