scorecardresearch
 

कांग्रेस-लेफ्ट के साथ गठबंधन? पीरजादा अब्बास बोले- 28 फरवरी से पहले हो जाएगा फाइनल 

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए पीरजादा ने तारीख भी स्पष्ट कर दी. उन्होंने कहा कि 28 फरवरी से पहले-पहले गठबंधन फाइनल हो जाएगा. 

पीरजादा अब्बास सिद्दीकी (फोटो-PTI) पीरजादा अब्बास सिद्दीकी (फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले एक और गठजोड़
  • कांग्रेस-लेफ्ट फ्रंट के साथ आने की तैयारी में पीरजादा अब्बास
  • कहा- 28 फरवरी से पहले हो जाएगा गठबंधन

पश्चिम बंगाल के राजनीतिक अखाड़े में एक तरफ जहां पूरी लड़ाई तृणमूल कांग्रेस बनाम बीजेपी दिखाई दे रही है, वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस-लेफ्ट के गठबंधन का विस्तार होता भी दिखाई दे रहा है. फुरफुरा शरीफ के जिन पीरजादा अब्बास सिद्दीकी को असदुद्दीन ओवैसी बंगाल में अपनी पार्टी का चेहरा बनाने की प्लानिंग कर रहे थे, उनका कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन के पाले में जाना लगभग तय हो गया है. 

हाल ही में इंडियन सेकुलर फ्रंट (ISF) के नाम से अपनी अलग पार्टी बना चुके अब्बास सिद्दीकी ने मंगलवार को एक चुनावी जनसभा की. इस जनसभा में उन्होंने इशारों-इशारों में कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन के साथ जाने की बात कही. अब्बास सिद्दीकी ने कहा कि गठबंधन के लिए बातचीत चल रही है और हम उन्हें वहां समर्थन करेंगे जहां हम नहीं लड़ रहे हैं. 

पीरजादा अब्बास सिद्दीकी ने गठबंधन करने की अपनी मंशा पर जनसभा में आई भीड़ से भी मुहर लगवाई. उन्होंने भीड़ से पूछा कि अगर गठबंधन कर लिया जाए तो क्या कोई समस्या है? पीरजादा के इस सवाल पर जनता ने कहा, नहीं. यानी गठबंधन में कोई समस्या नहीं है. 

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए पीरजादा ने तारीख भी स्पष्ट कर दी. उन्होंने कहा कि 28 फरवरी से पहले-पहले गठबंधन फाइनल हो जाएगा. 

टीएमसी को निशाने पर लिया

गठबंधन की डेडलाइन बताने के साथ ही पीरजादा अब्बाद सिद्दीकी ने विरोधियों के बारे में भी स्पष्ट कर दिया. उन्होंने टीएमसी चीफ ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी का नाम लिए बिना कहा कि मैं अपने बैंक बैलेंस या भतीजा होने की वजह से राजनीति करने नहीं आया हूं बल्कि जनता के लिए आया हूं. सिद्दीकी ने कहा कि बात हिंदू या मुसलमान की नहीं है, अगर आप गरीब हैं तो अब्बास सिद्दीकी आपके साथ है. 

गौरतलब है कि एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने जब बंगाल में चुनाव लड़ने की हुंकार भरी और वो बंगाल दौरे पर गए तो उनकी मुलाकात फुरफुरा शरीफ के पीरजादा से हुई थी. तब ये चर्चा हुई थी ओवैसी पीरजादा को बंगाल में अपनी पार्टी का चेहरा बनाएंगे. इस बीच कांग्रेस और लेफ्ट नेताओं की तरफ से पीरजादा को लेकर बयान आने लगे और इसकी नतीजा ये हुआ कि 21 जनवरी को अब्बास सिद्दीकी ने ISF के नाम से अपनी पार्टी बना ली. 

यानी अब पीरजादा अपनी पार्टी के दम पर कांग्रेस और लेफ्ट के सहारे चुनावी मैदान में उतरने की तैयारी में हैं. बताया जा रहा है कि अभी सीटों को चर्चाएं चल रही हैं. बीते 20 फरवरी को ही अब्बास सिद्दीकी ने एएनआई से कहा था कि लेफ्ट फ्रंट और कांग्रेस से हमारी चर्चा चल रही है. खासकर, नॉर्थ 24 परगना और हावड़ा जिले में सीटों को लेकर बातचीत चल रही है. 
(इनपुट- प्रेमा राजाराम)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें