scorecardresearch
 

बायोमकेनिक्स में करियर बनाने के हैं अनगिनत मौके

जानिए बायोमकेनिक्स में करियर, जॉब के मौकों के बारे में.....

symbolic image symbolic image

बायोलॉजी पढ़ने के पीछे ज्यादातर स्टूडेंट्स का डॉक्टर बनने का मकसद होता है, लेकिन नए जमाने के कोर्सेज ने उनके लिए ऑप्शन के दरवाजे खोल दिए है. आज बायोलॉजी के स्टूडेंट्स के पास बायोइंफोर्मेटिक्स, बायो इंजीनियरिंग, बायोफिजिक्स जैसे कई ऑप्शन मौजूद है. ऐसे ही बेहतरीन ऑप्शन में से एक है बायोमकेनिक्स का ऑप्शन.

क्या है बायोमकेनिक्स?
बायोमकेनिक्स विषय में जैविक प्रणालियों के मकेनिक्स सिद्धांत की स्टडी की जाती है. जैविक प्रणाली यानी मानव, जीव, पेड़-पौधों के शरीर के अंगों की स्टडी भौतिक शास्त्र की परिभाषाओं के आधार पर किया जाता है. इन अध्ययनों का फायदा दुर्घटनाओं में क्षति ग्रस्त हुए अंगों को ठीक करने के किया जाता है.

क्या है योग्यता?
बायोमकेनिक्स कोर्स करने के लिए स्टूडेंट्स के पास बायोलॉजी, इंजीनियरिंग या संबंधित अन्य साइंस स्ट्रीम में कम से कम ग्रेजुएट की डिग्री होनी चाहिए. एक बार इसमें एडमिशन लेने के बाद सबसे ज्यादा जरूरत है आपमें रिसर्च करने की क्षमता होनी चाहिए. बायोलॉजी के साथ-साथ आपके पास मैथ्स, फिजिक्स, कैमेस्ट्री की भी नॉलेज होनी आवश्यक है.

क्या है जरूरी स्किल्स?
इस फील्ड में आने के लिए आपको हमेशा थ्योरी के साथ-साथ प्रैक्टिस की जरूरत होगी. आप इस क्षेत्र में जितनी ज्यादा प्रैक्टिस करेंगे उतना ही ज्यादा आगे बढ़ेंगे. आपके पास सेमिनार, वर्कशॉप, शॉर्ट टर्म कोर्स करने की इच्छा शक्ति होनी चाहिए.

कहां मिलेगा जॉब?
आपको सरकारी, प्राइवेट हॉस्पिटल में नौकरी मिलेगी. इसके अलावा आप ऑर्थोपेडिक इंडस्ट्री में कृत्रिम अंग निर्माण के काम कर सकते हैं. कई रिसर्च इंस्टीट्यूट में भी नौकरी की ढ़रों संभावनाएं मौजूद हैं.

कहां से करें पढ़ाई?
तमिलनाडु फिजिकल एजुकेशन एंड स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी
राष्ट्रीय प्रौद्योगिक संस्थान कालिकट
भारत रत्न इंदिरा गांधी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें