scorecardresearch
 

School Reopen: कई राज्यों में खुले स्कूल, छात्र संख्या काफी कम, जानें- इन राज्यों का हाल

School Reopen: कोरोना महामारी के कारण करीब डेढ़ साल से देशभर में स्कूल बंद हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से कहा है कि वे चाहें तो स्कूल खोल सकते हैं. जानिए- जहां स्कूल खुले, वहां कैसी रही उपस्थि‍त‍ि....

प्रतीकात्मक फोटो (Getty) प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कई राज्यों में खुले स्कूल
  • MP में 47,000 से अधिक निजी स्कूल

School Reopen: देश में महामारी में गिरावट को देखते हुए बच्चों के लिए स्कूल खोले जाएं या नहीं, इस पर बहस छिड़ी हुई है.  वहीं केंद्र सरकार ने इससे दूर रहने का फैसला किया है. स्कूल खोलने पर कोई विचार नहीं किया गया है.  जिन राज्यों में स्कूल खुले भी हैं, वहां छात्रों की उपस्थ‍ित‍ि काफी कम रही. 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय नं कहा है कि यह संभावना नहीं है कि मामले बढ़ने पर भी बच्चे गंभीर रूप से प्रभावित होंगे, लेकिन चिंता यह है कि बच्चे काफी प्रभावी ट्रांसमीटर हो सकते हैं. इंडिया टुडे ने मंगलवार को नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल से पूछा कि क्या स्कूलों में काम करने वाले कर्मचारियों के लिए टीकाकरण शुरू करने की सुविधा के लिए राज्यों को विशेष निर्देश दिए गए हैं. स्कूल लंबे समय से बंद हैं और जिससे बच्चे ऑफलाइन क्लास के जरिये सीख नहीं पा रहे हैं. 

मध्य प्रदेश सरकार ने कोविड -19 महामारी और देशव्यापी लॉकडाउन के चलते एक साल से अधिक समय तक बंद स्कूल सोमवार को कक्षा 12 के छात्रों के लिए फिर से खोल दिए. स्कूल में फिजिकल क्लासेज खुलने के पहले दिन कोविड -19 के कारण कक्षाओं में उपस्थिति कम थी, जिनके मामले राज्य में काफी कम हो गए हैं. लेकिन कुछ माता-पिता जिनके बच्चे स्कूलों में गए थे. उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी का डर अभी भी मन में है.  

एमपी प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन (एमपीबीएसई) के अध्यक्ष अजीत सिंह ने पीटीआई को बताया कि मध्य प्रदेश में 47,000 से अधिक निजी स्कूल हैं. कुछ स्कूलों में एक भी छात्र नहीं आया. कुछ स्कूलों में एक, पांच, या दस छात्र पहुंचे. 

बता दें क‍ि देश के कई राज्यों में स्कूल खोलने की तैयारी पूरी हो चुकी है. देश के अधिकतर राज्य कक्षा 10-12 के छात्रों के लिए खुलेंगे. यहां 50% अटेंडेंस के साथ स्‍कूल खोले जाएंगे. बता दें कि आईसीएमआर और तमाम स्वास्थ्य विशेषज्ञ दूसरी लहर के बाद बच्चों के लिए स्कूल खोलने की सिफारिश कर चुके हैं.  एम्स निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने भी कहा है कि छोटे बच्‍चे कोविड-19 से लड़ने में कहीं ज्‍यादा सक्षम हैं. कई राज्‍य इसी का हवाला देकर स्‍कूल खोल रहे हैं. ये प्रोटोकॉल लागू होगा. 

राजस्थान की बात करें तो यहां भी कोरोना से पैदा हुए गंभीर हालात अब सामान्य हो चुके हैं. राजस्‍थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने गुरुवार को कहा कि राज्‍य में सभी स्‍कूल 2 अगस्‍त से खुल जाएंगे. कैबिनट बैठक के बाद अधिकारियों ने कहा कि स्कूल रीओपन को लेकर प्रोटोकॉल और गाइडलाइंस जल्‍द ही गृह विभाग की तरफ से जारी की जाएंगी. लेकिन अभी कोचिंग संस्‍थानों और यूनविर्सिटीज को खोलने पर फैसला नहीं हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें