scorecardresearch
 

देखिए जानलेवा मोहब्बत की खौफनाक वारदात

कहते हैं कि मोहब्बत ताकत भी है और कमज़ोरी भी. लेकिन क्या इतनी बड़ी कमज़ोरी कि इंसान इसके चक्कर में मरने-मारने पर उतर आए. मोहब्बत एक ऐसा अल्फाज़ है जो इंसान को जीने का मकसद देती है. मोहब्बत अगर दिल से हो तो वो ताकत बनती है और दिमाग से हो तो वो कमज़ोरी बनते देर नहीं लगती. दिल और दिमाग की इस कशमकश के बीच कुछ हार जाते हैं और कुछ जीत जाते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें