scorecardresearch
 

गिरफ्त में इनामी डकैत, लूट और कत्ल के आरोपों में थी तलाश

यूपी एसटीएफ की नोएडा युनिट को शनिवार की सुबह जानकारी मिली थी कि छेमार गैंग के कुछ बदमाश किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के इरादे से ग्रेटर नोएडा इलाके में आने वाले हैं. इसके बाद पुलिस ने इलाके की घेराबांदी कर दी.

गिरफ्तार ठग गिरफ्तार ठग

नोएडा पुलिस ने मुठभेड़ के बाद डकैतों के एक बड़े गैंग के 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक पकड़ में आए चारों डकैत घूमंतू जनजाति के छेमार गैंग के हैं. इन पर कत्ल और डकैती जैसे संगीन केस दर्ज हैं. पकड़ में आए डकैतों के नाम दिलवाला उर्फ़ गोखड़ा उर्फ़ दिलशाद, नौशाद, राजमियां उर्फ़ नून्ना उर्फ़ जुर्रात उर्फ अजगर और तौहीद उर्फ़ गोबाला है.

यूपी एसटीएफ की नोएडा युनिट को शनिवार की सुबह जानकारी मिली थी कि छेमार गैंग के कुछ बदमाश किसी बड़ी वारदात को अंजाम देने के इरादे से ग्रेटर नोएडा इलाके में आने वाले हैं. इसके बाद पुलिस ने इलाके की घेराबांदी कर दी. कई पुलिस वाले सादी वर्दी में इलाके में तैनात हो गए. जैसे ही इन डकैतों पर नजर पड़ी पुलिस ने पकड़ने की कोशिश की. लेकिन ये भागने लगे और पुलिस पर गोली चलाने की भी कोशिश की, लेकिन पुलिस ने इन्हें दबोच लिया.

पुलिस के मुताबिक पकड़ में आए दिलवाले पर 25 हजार का इनाम भी था. आरोप है कि इसने अपने साथियों के साथ मिलकर 2003 में सहारनपुर में एक घर में डकैती डालने के दौरान दो लोगों की हत्या कर दी थी. इसके बाद से ही पुलिस इसकी तलाश में थी, लेकिन ये एक बार भी पकड़ में नहीं आया.

पुलिस ने बताया कि दिलवाले का साथी राजमियां उर्फ अजगर कत्ल और लूट के मामले में 8 साल जेल में रह चुका है. एक साल पहले ही बाहर आया है. अब पुलिस इनसे ये जानने में जुटी है कि पिछले सालों में इन सबने कहां-कहां और कितने वारदातों को अंजाम दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें