scorecardresearch
 

भाई से बोली उन्नाव गैंगरेप पीड़िता- मैं जीना चाहती हूं, दोषियों को छोड़ना मत

गैंगरेप पीड़िता को 5 आरोपियों ने जिंदा जलाने की कोशिश की थी, जिसके बाद उसे लखनऊ में भर्ती कराया गया लेकिन बाद में दिल्ली ले आया गया.

उन्नाव रेप पीड़िता को सफदरजंग अस्पताल लाया गया था (फोटो: PTI) उन्नाव रेप पीड़िता को सफदरजंग अस्पताल लाया गया था (फोटो: PTI)

  • उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की हालत गंभीर
  • अस्पताल में भाई से कहा- अभी जीना चाहती हूं
  • डॉक्टरों के मुताबिक अगले 48 घंटे अहम

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता का दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज जल रहा है. 90 फीसदी जलने के बाद भी पीड़िता ने जीने की उम्मीद नहीं छोड़ी है और अपने भाई से कहा है कि वह मरना नहीं चाहती है. गैंगरेप पीड़िता को 5 आरोपियों ने जिंदा जलाने की कोशिश की थी, जिसके बाद उसे लखनऊ में भर्ती कराया गया लेकिन बाद में दिल्ली ले आया गया.

शुक्रवार को इलाज के दौरान पीड़िता ने अपने भाई से कहा, ‘मैं मरना नहीं चाहती हूं... दोषियों को बिल्कुल भी छोड़ना नहीं है.’

अगले 48 घंटे काफी अहम!

गौरतलब है कि शुक्रवार को ही सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों का बयान सामने आया था कि पीड़िता जब अस्पताल पहुंची तो 90-95 फीसदी जली हुई थी. लेकिन अभी तक उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ है, वह लगातार वेंटिलेटर पर बनी हुई है. डॉक्टरों का कहना है कि पीड़िता के लिए अलगे 48 घंटे काफी अहम हैं.

खुद पुलिस को फोन कर बताया

बता दें कि उन्नाव की गैंगरेप पीड़िता को आरोपियों ने जिंदा जलाने की कोशिश की थी, जिंदा जलने के बाद भी करीब एक किमी. तक भागती हुई गई थी. बाद में खुद ही पुलिस को फोन किया और अपनी हालत के बारे में बताया. जिसके बाद युवती को लखनऊ रेफर किया गया और फिर बाद में तुरंत एयर एंबुलेंस दिल्ली पहुंचाया गया.

घटना के सामने आने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा था और युवती के लिए इंसाफ मांगा था. गुरुवार दोपहर को ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में रिपोर्ट तलब की थी और 24 घंटे में एक्शन लेने की बात कही थी.

उन्नाव की गैंगरेप पीड़िता के साथ दिसंबर, 2018 में गैंगरेप हुआ था. लेकिन मार्च 2019 में इस मामले में केस दर्ज किया गया था, गुरुवार को पीड़िता इसी मामले की सुनवाई के लिए कोर्ट जा रही थी लेकिन तभी आरोपियों ने बीच रास्ते में ही उसपर हमला कर दिया. पांचों आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें