scorecardresearch
 

हिमाचल प्रदेश: लैब में प्रैक्टिकल के दौरान छात्र ने फेंका तेजाब, 3 छात्राएं झुलसीं

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में दसवीं के छात्र ने लैब में अपने ही सहपाठियों पर कथित तौर पर तेजाब फेंक दिया. इस हमले में 3 लड़कियां झुलस गईं, वहीं नौवीं में पढ़ने वाला एक छात्र भी झुलस गया है. पुलिस इस मामले में जांच कर रही है.

केमेस्ट्री लैब में छात्र ने फेंका तेजाब (प्रतीकात्मक तस्वीर) केमेस्ट्री लैब में छात्र ने फेंका तेजाब (प्रतीकात्मक तस्वीर)

  • लैब में चल रही थी प्रायोगिक परीक्षा
  • छात्र ने सहपाठियों पर ही फेंका तेजाब
  • अब तक कोई पुलिस केस दर्ज नहीं

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर में दसवीं के एक छात्र ने कथित तौर पर अपने सहपाठियों पर तेजाब फेंक दिया. जिन पर तेजाब फेंका गया, उनमें 3 लड़कियां हैं.  तेजाब फेंकने से 1 छात्र और 3 छात्राएं घायल हो गई हैं. हमीरपुर के उतपुर स्थित एक स्कूल में यह घटना हुई है.

तीनों छात्राएं दसवीं में पढ़ती हैं. जिस छात्र पर तेजाब फेंका गया है, वह नौवीं में पढ़ता है. छात्र आंशिक तौर पर जल गया है. पुलिस का दावा है कि तेजाब फेंकने के बाद आरोपी फरार हो गया. स्कूल देर शाम तक खुला रहा, जहां वार्षिक प्रायोगिक परीक्षाएं चल रही थीं. घायल नौंवी के छात्र का कहना है कि उसका सीनियर स्कूल खत्म होने के बाद साइंस लैब में आया और बीकर के जरिए तेजाब छात्र पर ही फेंक दिया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक नौंवी के छात्र ने कहा कि वह 3 लड़कियों के साथ क्लास के बाहर बैठा था. जब यह घटना हुई तभी लड़कियों ने कहा कि उनके चेहरे पर जलन हो रही है. लड़कियों के मुंह पर तेजाब पड़ गया था.

यह भी पढ़ें: वाराणसीः एसिड अटैक की शिकार लड़कियों ने खोला रेस्त्रां, बताई आपबीती

इलाज के बाद भेजा गया घायलों को घर

हमीरपुर के एसपी अर्जित सेन ठाकुर का कहना है कि जैसे ही घटना की सूचना मिली, पुलिस घटना स्थल पर जांच करने के लिए पहुंची.  उन्होंने कहा कि अब तक पुलिस ने किसी से शिकायत दर्ज नहीं कराई है.

पुलिस सोशल मीडिया पर चल रही खबरों के बाद अलर्ट में आई है. जहां चारो छात्र आंशिक रूप से जले हैं, जिनका इलाज स्थानीय अस्पताल में हो रहा है. इलाज के बाद एक स्थानीय क्लिनिक में छात्र-छात्राओं का इलाज किया गया. जिसके बाद उन्हें घर भेज दिया गया.

यह भी पढ़ें: यूपी: हापुड़ में नाबालिग बलात्कार पीड़िता पर फेंका तेजाब, परिवार में दहशत

प्रधानाचार्य ने मानी हमले की बात

स्कूल के प्रधानाचार्य ने इस घटना की पुष्टि की है. हालांकि जब उनसे घटना के संबंध में विवरण मांगा गया तो उन्होंने देने से इनकार कर दिया. स्कूल से जुड़े सूत्रों का कहना है कि लैब में डाइल्यूट हाइड्रोक्लोरिक एसिड(एचसीएल) रखा गया था, जो छात्रों पर फेंका गया है. यह और ज्यादा खतरनाक तब होता अगर छात्र ने कंसन्ट्रेटेड एसिड फेंका होता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें