scorecardresearch
 

राजसमंद हत्याकांड: 3 डॉक्टरों की टीम ने की आरोपी शंभू की मानसिक जांच

राजस्थान के राजसमंद में लव जिहाद का नाम लेकर एक बेगुनाह की निर्मम हत्या करने वाले आरोपी शंभूनाथ रेगर की मानसिक हालत जांचने के लिए राजस्थान सरकार ने एक कमेटी का गठन किया है. जिसमें उदयपुर के एमबी चिकित्सालय के मानसिक रोग विभाग के एचओडी सहित 3 डॉक्टरों को शामिल किया गया है.

X
हत्यारे के मेडिकल चेकअप की रिपोर्ट कोर्ट को सौंपी जाएगी हत्यारे के मेडिकल चेकअप की रिपोर्ट कोर्ट को सौंपी जाएगी

राजस्थान के राजसमंद में लव जिहाद का नाम लेकर एक बेगुनाह की निर्मम हत्या करने वाले आरोपी शंभूनाथ रेगर की मानसिक हालत जांचने के लिए राजस्थान सरकार ने एक कमेटी का गठन किया है. जिसमें उदयपुर के एमबी चिकित्सालय के मानसिक रोग विभाग के एचओडी सहित 3 डॉक्टरों को शामिल किया गया है. जिन्होंने हत्यारे शंभू की मानसिक जांच की.

राजसमन्द कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस हत्या आरोपी शंभूनाथ रेगर का मेडिकल चेकअप कराने के लिए एमबी चिकित्सालय के मानसिक रोग विभाग में पहुंची. इस दौरान शंभूनाथ रेगर को कड़ी सुरक्षा के बीच वहां लाया गया था. इस मौके पर उदयपुर पुलिस के आलाधिकारी के साथ कई थानों का फोर्स अस्पताल परिसर में मौजूद था.

पुलिस ने सुरक्षा के मद्देनजर शंभू की जांच के चलते पूरे अस्पताल परिसर को छावनी में तब्दील कर दिया था. 3 सदस्यों वाली डॉक्टरों की टीम ने करीब 45 मिनट तक शम्भू का मानसिक परिक्षण किया. इसके पश्चात राजसमन्द पुलिस शम्भू को कड़ी सुरक्षा के बीच वापस लेकर रवाना हो गई. उसे लेकर जाने वाली पुलिस वैन में क्विक रेस्पॉन्स टीम के 10 कमांडो भी तैनात थे.

एमबी चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ विनय जोशी ने बताया कि शंभूनाथ का मानसिक परीक्षण किया गया है. जल्द ही उसकी रिपोर्ट आएगी. जिसे राजसमन्द जिला सेशन न्यायलय में पेश किया जाएगा.

गौरतलब है कि शंभू के वकील समीर व्यास ने कोर्ट में एक प्रार्थना पत्र देकर कहा था कि हत्यारे की मानसिक हालत ठीक नहीं है. इसी को देखते हुए राजसमन्द कोर्ट ने उसकी मानसिक हालत को जांचने के लिए एक कमेटी का गठन कर उसकी मेडिकल जांच के आदेश दिए थे.

डॉ जोशी के मुताबिक शंभूनाथ की जांच के लिए गठित कमेटी में 3 डॉक्टर शामिल हैं. जिन्होंने उसका परीक्षण किया है. जिसकी रिपोर्ट प्रशासन और अदालत को दी जाएगी. डॉक्टरों ने जांच के दौरान शंभूनाथ से अलग-अलग सवाल पूछे. रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें