scorecardresearch
 

इकबाल मिर्ची की संपत्तियां होंगी नीलाम, 19 नवंबर को ऑक्शन

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के सहयोगी इकबाल मिर्ची से जुड़ी दो संपत्तियों की नीलामी होगी. ये संपत्तियां मुंबई के सांताक्रूज में हैं. नीलामी वित्त मंत्रालय द्वारा कराई जाएगी.

इकबाल मिर्ची (फाइल) इकबाल मिर्ची (फाइल)

  • मिल्टन अपार्टमेंट में फ्लैट नंबर 501 और 502 की होगी नीलामी
  • निरीक्षण के लिए 7 और 8 नवंबर को खोली जाएंगी संपत्तियां
  • फ्लैटों का आरक्षित मूल्य 3.45 करोड़ रुपये, 19 नवंबर को नीलामी

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के सहयोगी इकबाल मिर्ची से जुड़ी दो संपत्तियों की नीलामी होगी. ये संपत्तियां मुंबई के सांताक्रूज में हैं. नीलामी वित्त मंत्रालय द्वारा कराई जाएगी. इसके तहत दो फ्लैटों के लिए आरक्षित मूल्य 3.45 करोड़ रुपये रखा गया है. नीलामी 19 नवंबर को नरीमन पॉइंट में कम्पीटेंट अथॉरिटी के दफ्तर में होगी.

मिल्टन अपार्टमेंट में फ्लैट नंबर 501 और 502, जुहू तारा रोड, सांताक्रूज वेस्ट इलाके में स्थित हैं. रिकॉर्ड्स के मुताबिक, दोनों फ्लैट्स का रकबा 1245 स्क्वेर फीट में हैं. नीलामी तीन फॉर्मैट्स में कराई जाएगी. इसमें ई-ऑक्शन, टेंडर और पब्लिक ऑक्शन शामिल जैसे फॉर्मैट्स शामिल हैं. वहीं संपत्तियां निरीक्षण के लिए 7 और 8 नवंबर को खोली जाएंगी.

नीलामी में शामिल होने के लिए पहले अपना टेंडर सबमिट करना होगा. साथ ही बयाने के लिए मनी डिपॉजिट 15 नवंबर तक सबमिट कराना होगा. मनी डिपॉजिट की रकम 86.50 लाख रुपये तय की गई है.

NCP नेता प्रफुल्ल पटेल को दोबारा ED का समन

इकबाल मिर्ची के साथ कथित लैंड डील मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार(18 अक्टूबर) को वरिष्ठ एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल से 12 घंटे तक पूछताछ की. इस मामले में ईडी दोबारा प्रफुल्ल पटेल को समन जारी कर सकती है.

सूत्रों के मुताबिक, प्रफुल्ल  पटेल को अगले हफ्ते दोबारा पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है. बता दें पटेल को इकबाल मिर्ची के खास आदमी हुमायूं मर्चेंट और उसके साले मुश्ताक मेमन के स्टेटमेंट भी दिखाए गए थे.

दोनों ने अपने बयान PMLA सेक्शन 50 के तहत दर्ज कराए और बताया कि कैसे मिर्ची ने संपत्तियां छीन ली थीं. सूत्रों के मुताबिक, पटेल ने इकबाल मिर्ची के साथ किसी भी तरह का संबध होने की बात को नकार दिया है.

साथ ही मर्चेंट या मेमन से मिलने की बात से भी इनकार किया है. पटेल ने ईडी को बताया कि उन्होंने सेल डीड पर सिर्फ इसलिए हस्ताक्षर किए थे क्योंकि उनके पास पावर ऑफ अटॉर्नी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें