scorecardresearch
 

तीन दिन के लिए एनआईए को मिला संदिग्ध का रिमांड

मुंबई में गिरफ्तार किए गए संदिग्ध आतंकी को अदालत ने तीन दिन के लिए रिमांड पर एनआईए के हवाले कर दिया. एनआईए कुछ दस्तावेजों के संबंध में उससे पूछताछ करना चाहती है.

एनआईए पूरे देश में संदिग्धों की धरपकड़ कर रही है एनआईए पूरे देश में संदिग्धों की धरपकड़ कर रही है

एनआईए को विशेष अदालत से मुंबई में गिरफ्तार किए गए संदिग्ध आतंकी का रिमांड मिल गया है. एनआईए के वकील ने अदालत में अर्जी लगा कर तीन दिन के लिए उसके रिमांड की मांग की थी, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया. इसके साथ ही अन्य संदिग्धों को भी दिल्ली लाने की कवायद की जा रही है.

एनआईए ने संदिग्धों के खिलाफ चलाए जा रहे अपने अभियान के तहत एम. मुश्ताक शेख नामक संदिग्ध को शुक्रवार की अल सुबह करीब तीन बजे मुंबई के ठाणे से गिरफ्तार किया था.

एनआईए के वकील ने विशेष अदालत में कहा कि इस संबंध में एनआईए ने दिल्ली में मामला दर्ज कर रखा है. उन्होंने बताया कि शेख की भूमिका उसके पास बरामद कुछ दस्तावेज और सामग्री की वजह से संदिग्ध है.

वकील ने कहा कि इस मामले में एनआईए शेख को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में पेश करेगी. इस लिए हम उसके ट्रांजिट रिमांड की मांग कर रहे हैं.

इस दौरान अदालत में जज ने आरोपी से पूछा कि तुम्हे किस वक्त गिरफ्तार किया गया? उसने जवाब दिया कि देर रात में. जज ने आरोपी से फिर पूछा कि क्या तुम्हे कुछ और कहना है? उसने जवाब देते हुए कहा, नहीं.

महाराष्ट्र सरकार के विशेष अधिवक्ता ने अदालत में कहा कि आईएसआईएस भारत और अन्य देशों के नौजवानों को अपने संगठन में भर्ती कर रहा है. एनआईए की जानकारी के मुताबिक शेख मुश्ताक पढ़ा लिखा बेरोजगार युवक था.

अदालत में एनआईए की तरफ से विशेष अधिवक्ता आनंद सुखदेव पेश हुए थे.

एनआईए और आईबी के सूत्रों का कहना है कि देशभर से पकड़े गए संदिग्धों ने आईएसआईएस का समर्थन करने वाला एक नया संगठन जुनूद-अल-खलीफा-ए-हिंद बनाया है. ठाणे में पकड़ा गया एम. मुश्ताक शेख खुद को उस संगठन का अमीर कहता है.

गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक यह संगठन देश में कई जगहों पर बड़ी घटनाओं को अंजाम देने की साजिश रच रहा था. इस संगठन से जुड़े संदिग्धों को पकड़ने के लिए राज्य पुलिस की मदद भी ली गई.

अब देश में शुक्रवार को हिरासत में लिए गए और गिरफ्तार किए गए संदिग्धों को राजधानी दिल्ली लाया जाएगा. ताकि उनसे एक साथ पूछताछ की जा सके. और उनके संगठन के बारे में विस्तार से जानकारी मिल सके.

एनआईए और आईबी की टीम ने संगठन के अमीर यानी मुखिया के पास से 8 और अन्य सभी से मिलाकर कुल 42 मोबाइल फोन बरामद किए हैं. सूत्रों का कहना है कि इस नए संगठन को हवाला के जरिए फंडिंग की जा रही थी.

इसके अलावा एजेंसियों ने छापे के दौरान विस्फोटक सामग्री, डेटोनेटर, तार, बैटरी और हाइड्रोजन पेरोक्साइड के अलावा जिहादी साहित्य भी बरामद किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें