scorecardresearch
 

चेन्नईः महिला डॉक्टर ने की थी अपने पिता को मारने की कोशिश, एक साल बाद खुला राज

कहते हैं बेटियां अपने पिता के सबसे करीब होती है. मगर क्या एक बेटी कभी अपने पिता की मौत का ख्वाब देख सकती है. रिश्तों को तार तार कर देने वाला एक ऐसा ही मामला तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में सामने आया है. जहां एक महिला डॉक्टर ने अपने पिता को जान से मारने की कोशिश की.

पुलिस ने इस मामले में एक साल बाद मुकदमा दर्ज किया है पुलिस ने इस मामले में एक साल बाद मुकदमा दर्ज किया है

कहते हैं बेटियां अपने पिता के सबसे करीब होती है. मगर क्या एक बेटी कभी अपने पिता की मौत का ख्वाब देख सकती है. रिश्तों को तार तार कर देने वाला एक ऐसा ही मामला तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में सामने आया है. जहां एक महिला डॉक्टर ने अपने पिता को जान से मारने की कोशिश की.

जानकारी के मुताबिक, चेन्नई के किलपौक निवासी 83 वर्षीय राजगोपाल पिछले साल अगस्त में बीमार पड़ गए थे. राजगोपाल को उनके बेटे के अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. जहां उन्हें आईसीयू में रखकर इलाज किया जा रहा था. आरोप है कि इसी दौरान उनकी बेटी जयासुधा ने उन्हें आईसीयू में ही मारने की कोशिश की.

दरअसल पेशे से डॉक्टर जयासुधा ने जान बूझकर राजगोपाल को दी जा रही दवाईयों की ड्रिप निकाल दी, जिसकी वजह से राजगोपाल की हालत बिगड़ने लगी. मगर डॉक्टर जयासुधा को इस बात की जरा भी भनक नहीं लगी कि यह पूरा मामला वहां लगे सीसीटीवी में कैद हो रहा था.

तकरीबन एक साल बाद सीसीटीवी फुटेज के सामने आने पर इस बात का खुलासा हुआ. सीसीटीवी फुटेज के सामने आने के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया. पुलिस ने डॉक्टर जयासुधा और उसके बेटे के खिलाफ हत्या की कोशिश का मामला दर्ज कर लिया है.

पुलिस ने बताया कि जयासुधा ने अपने पिता की प्रापर्टी हासिल करने के लिए यह खौफनाक कदम उठाया था. वहीं उसने घटना के दौरान अपने पिता से जबरन कागजातों पर अंगूठा भी लगवाया था. फिलहाल राजगोपाल की हालत ठीक है. पुलिस इस मामले में सीसीटीवी फुटेज के आधार पर कार्रवाई किए जाने की बात कह रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×