scorecardresearch
 

गिरफ्त में हनीप्रीत, अब खुल सकते हैं राम रहीम के कई राज

25 अगस्त को रेप केस में राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद से फरार चल रही राम रहीम की हनीप्रीत आखिरकार 38 दिनों बाद पंजाब के मोहाली में गिरफ्तार हो गई.

राम रहीम की हनीप्रीत राम रहीम की हनीप्रीत

25 अगस्त को रेप केस में राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद से फरार चल रही राम रहीम की हनीप्रीत आखिरकार 38 दिनों बाद पंजाब के मोहाली में गिरफ्तार हो गई. पंजाब पुलिस ने हनीप्रीत को हरियाणा पुलिस को सौंप दिया है. राम रहीम की सबसे राजदार हनीप्रीत के गिरफ्त में आने से अब राम रहीम के कई राज खुल सकते हैं. गिरफ्तारी से पहले आजतक को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में हनीप्रीत ने कहा कि उसे जिस तरह दिखाया जा रहा है, उसके बाद उसे खुद से डर लगने लगा है. उसे देशद्रोही कहा गया, जो बिल्कुल गलत है.

राम रहीम के साथ उसके रिश्ते पाक हैं. उसने कहा, 'मुझे समझ में नहीं आता है कि बाप-बेटी के पवित्र रिश्ते को उछाला जा रहा है. मेरे मुख्य डर का कारण ही यही था कि हनीप्रीत को क्या प्रेजेंट किया. एक बाप-बेटी के रिश्ते को ऐसे तार-तार कर दिया. क्या एक बाप बेटी के सिर पर हाथ नहीं रख सकता है. क्या बेटी बाप से प्यार नहीं कर सकती है.'

हनीप्रीत ने कहा कि राम रहीम के जेल जाने के बाद वह डिप्रेशन में चली गई थी. उसे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करे. उसे लोगों ने जैसा बताया उसने वही किया. उसे कोर्ट पर पूरा भरोसा है. वह न्याय के लिए हरियाणा-पंजाब हाईकोर्ट जाएगी. हनीप्रीत के इस बयान के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि वह हाईकोर्ट में सरेंडर करेगी.

हनीप्रीत से बाबा के राज का पर्दाफाश

हनीप्रीत यदि सरेंडर कर देती है, तो राम रहीम के कई राज भी दुनिया के सामने आ सकते हैं. हनीप्रीत राम रहीम के सबसे करीबी रही है. डेरा सच्चा सौदा में उसकी नंबर दो की हैसियत थी. उसके इशारे पर सारे काम होते थे. 25 अगस्त को वह सिरसा डेरे के हेडक्वार्टर पहुंची थी. वहां से वह ब्रीफकेस, बैग, लैपटॉप, मोबाइल और डायरी लेकर गायब हुई थी.

लैपटॉप, मोबाइल और डायरी में राज

राम रहीम के लैपटॉप, मोबाइल और डायरी में उसके कई भयानक राज दफन हैं. मोबाइल में राम रहीम के साथ कई बड़े राजनेताओं की कॉल रिकॉर्डिंग मौजूद है. उसकी पर्सनल डायरी में कई बड़े लोगों के फोन नंबर, रुपयों के लेन-देन की डिटेल और नेताओं से मीटिंग और फंड की जानकारी है. हनीप्रीत की गिरफ्तारी के बाद मिले ये राज पुलिस के काम आ सकते हैं.

बातचीत रिकॉर्ड करता था राम रहीम

सूत्रों के मुताबिक, राम रहीम ने कई बड़े नेताओं से बातचीत रिकॉर्ड कर रखी थी. बाबा हर बड़े आदमी से बातचीत को रिकॉर्ड कर लेता था. इन रिकॉर्डिंग में हरियाणा में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान कई नेताओं से बातचीत और पैसों के लेनदेन का ब्योरा भी है. हनीप्रीत की गिरफ्तारी के बाद ही इन राजों पर से पर्दाफाश होगा. इसलिए हनीप्रीत की सरगर्मी से तलाश है.

पुलिस को आजतक से पता चला

पंचकूला के पुलिस कमिश्नर एएस चावला ने आजतक से बातचीत में कहा कि पुलिस के पास हनीप्रीत के सरेंडर से संबंधित कोई सूचना नहीं है. चैनल के माध्यम से पता चला है कि वह पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट में सरेंडर करना चाहती है. यदि ऐसी कोई याचिका कोर्ट में दायर की जाती है, तो पुलिस अपना पक्ष रखेगी. फिलहाल हम अपने इनपुट पर काम कर रहे हैं.

पंचकूला में पुलिस की नाकेबंदी

उधर, पंचकूला की सड़कों पर हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को ढूंढने के लिए नाकेबंदी शुरू कर दी है. हर जगह बैरिकेटिंग लगाए गए हैं. गाड़ियों को रुकवाकर उनकी तलाश ली जा रही है. आजतक पर हनीप्रीत को देखे जाने के बाद हरियाणा पुलिस हरकत में आ गई है. उनका कहना है कि हनीप्रीत पंचकूला में हो सकती है. उसकी जोरों पर तलाश की जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×