scorecardresearch
 

गोल्डन बाबा की कहानी, कैसे हिस्ट्रीशीटर से महंत बन बैठे

वैसे तो ये देश ही बाबाओं का है. इस देश में बाबाओं ने नामालूम कैसे-कैसे गुल खिलाए हैं. लेकिन बाबाओं की इस भीड़ में अपने गोल्डन बाबा का कुछ अलग ही जलवा है.

गोल्डन बाबा के खिलाफ करीब 3 दर्जन मुकदमे गोल्डन बाबा के खिलाफ करीब 3 दर्जन मुकदमे

वैसे तो ये देश ही बाबाओं का है. इस देश में बाबाओं ने नामालूम कैसे-कैसे गुल खिलाए हैं. लेकिन बाबाओं की इस भीड़ में अपने गोल्डन बाबा का कुछ अलग ही जलवा है. बाबा साल भर धंधा-पानी करते हैं. लेकिन सावन का महीना आते-आते वैरागी चोले में ऐसा गोल्डन अवतार धारण कर लेते हैं कि देखने वालों की आंखें चौंधिया जाती हैं.

नाम- सुधीर कुमार मक्कड़ उर्फ गोल्डन बाबा
उम्र- 54 साल
पहचान- महंत, पंचदशनाम जूना अखाड़ा, बरेली

बाबा की जिंदगी विरोधाभास का कितना बड़ा पिटारा है, ये बाबा की ये पहचान ही अपने-आप बता देती है. कहने को तो बाबा महंत हैं, अखाड़ा चलाते हैं. संतों की जिंदगी जीते हैं. लेकिन इन बाबा का भी एक अतीत है. ये अतीत बाबा के उस व्यापार का है. जिसकी आड़ में गुनाह करने का. लेकिन ये शायद बाबा की खासियत ही है कि बाबा ने सिर्फ गुनाह किया ही नहीं, खुले दिल से कुबूला भी. बाबा पूर्वी दिल्ली के पुराने हिस्ट्रीशीटर हैं. हिस्ट्रीशीट बोले तो थाने में खोला गया बाबा के नाम का वो बही-खाता जिसमें उनके तमाम छोटे-बड़े गुनाहों का पूरा हिसाब-किताब दर्ज हैं. और किसी भी शख्स के नाम पुलिस हिस्ट्रीशीटर तभी तैयार करती है, जब पुलिस को ये यकीन हो जाता है कि ये शख्स सुधर नहीं सकता और ये शख्स के आदतन अपराधी है. यानी पेशेवर गुनहगार और इत्तेफाक से अपने गोल्डन बाबा के साथ भी कुछ ऐसी ही बात है.

गोल्डन बाबा के खिलाफ करीब 3 दर्जन मुकदमे
वैसे भी बाबा गुनाहों की दुनिया में कैसी ठौर रखते हैं, इसका अंदाजा बस इसी एक बात से लग जाता है कि इस वक्त भी बाबा के खिलाफ हर तरह गुनाहों के तकरीबन तीन दर्जन मुकदमे अलग-अलग अदालतों में चल रहे हैं और इन मुकदमों में अपहरण, फिरौती, जबरन वसूली, मारपीट, जान से मारने की धमकी जैसे तमाम छोटे-बड़े गुनाह शामिल हैं. आज गोल्डन बाबा बेशक अपने जिस्म पर करोड़ों के जेवर लाद कर घूमते हों, हर ऊंगली पर सोने की अंगूठियां पहनते हों और कभी-कभी सोने की शर्ट से भी अपना मन बहलाते हों, लेकिन गोल्डन बाबा ने भी कभी फाका किया करते थे. ऐसे में ये समझना मुश्किल नहीं है कि कौड़ियों से शुरू कर करोड़ों में खेलने तक के बाबा के सफर में बाबा ने कैसे-कैसे गुल खिलाए होंगे और कैसे इतनी दौलत इकट्ठा की होगी.

दर्जी का काम करते थे गोल्डन बाबा
दरअसल, बाबा पूर्वी दिल्ली के गांधीनगर इलाके के रहनेवाले हैं, उसी गांधीनगर के जहां कपड़ों का अच्छा काम है और कभी बाबा गांधी नगर के इसी कपड़ा मार्केट की एक मामूली सी दर्जी हुआ करते थे. लेकिन बाबा को जानने वाले लोग बताते हैं कि बाबा के अरमान शुरू से ही काफी बड़े थे. जल्द ही बाबा ने बाबा ने ट्रैक चैंज कर लिया कुछ दिनों तक प्रॉपर्टी काम भी करते रहे. लेकिन इसी बीच एक रोज बाबा अंतर्ध्यान हो गए और सीधे हरिद्वार में जा बसे. फिर जब वहां से लौटे तो बाबा का नया अवतार सामने आ चुका था. अब धंधा पानी छोड़ कर बाबा का मन बाबागिरी में लग चुका था. बाबा ने गांधीनगर में मंदिर बनवा लिया और धीरे-धीरे इसे आश्रम में बदल कर खुद इसके महंत बन बैठे. लेकिन महंत बनने के बावजूद सोने की चमक बाबा को लुभाती रही. बाबा आश्रम के लिए दान भी लेते तो सोने की शक्ल में, और कुछ इसी तरह बाबा ने इतना सोना बटोरा कि इस सोने ने रातों-रात बाबा को गोल्डन बाबा बना दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें