scorecardresearch
 

जासूसी कांड: न्यायिक हिरासत में भेजे गए 5 आरोपी

जासूसी कांड के आरोपी बीएसएफ के हेड कांस्टेबल अब्दुल राशिद, सेना के हवलदार (सेवानिवृत्त) मुनव्वर अहमद मीर, सरकारी स्कूल शिक्षक साबर, सैनिक फरीद अहमद और लाइब्रेरी सहायक कैफेतुल्ला खान उर्फ मास्टर रजा को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया.

पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI को भेजते थे सूचना पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI को भेजते थे सूचना

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को जासूसी कांड में गिरफ्तार पांच लोगों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. इन आरोपियों में बीएसएफ का एक हेड कांस्टेबल भी शामिल है. इन पर आरोप है कि इन्होंने महत्वपूर्ण भारतीय दस्तावेज पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई तक पहुंचाए हैं. पुलिस हिरासत खत्म होने के बाद इन्हें अदालत में पेश किया गया था.

मुख्य महानगर दंडाधिकारी संजय खानाग्वाल ने बीएसएफ के हेड कांस्टेबल अब्दुल राशिद, सेना के हवलदार (सेवानिवृत्त) मुनव्वर अहमद मीर, सरकारी स्कूल शिक्षक साबर, सैनिक फरीद अहमद और लाइब्रेरी सहायक कैफेतुल्ला खान उर्फ मास्टर रजा को न्यायिक हिरासत में भेजा. दिल्ली पुलिस ने अदालत से कहा कि आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की अब जरूरत नहीं है.

बताते चलें कि फरीद अहमद को पश्चिम बंगाल से पकड़ा गया था. वहीं मीर तथा साबर को दिल्ली पुलिस और जम्मू एवं कश्मीर पुलिस के संयुक्त अभियान में पकड़ा गया था. राजौरी के रहने वाले 44 वर्षीय कैफेतुल्ला के बारे में कहा जा रहा है कि वह आईएसआई एजेंट है. उसे 26 नवंबर को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से पकड़ा गया. कैफेतुल्ला से पूछताछ के बाद राशिद को पकड़ा गया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें