scorecardresearch
 

दिल्ली में सेना के अधिकारी ने की आत्महत्या, कोर्ट मार्शल की आशंका से थे परेशान

दिल्ली में सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल ने द्वारका इलाके में अपने घर के बाहर आत्महत्या कर ली. उनके परिजनों ने पुलिस को बताया कि वह इस बात को लेकर तनाव में थे कि शायद उन पर जल्द ही कोर्ट मार्शल की कार्यवाही की जा सकती है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

पुलिस मामले की छानबीन कर रही है पुलिस मामले की छानबीन कर रही है

दिल्ली में सेना के लेफ्टिनेंट कर्नल ने द्वारका इलाके में अपने घर के बाहर आत्महत्या कर ली. उनके परिजनों ने पुलिस को बताया कि वह इस बात को लेकर तनाव में थे कि शायद उन पर जल्द ही कोर्ट मार्शल की कार्यवाही की जा सकती है. पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.

मामला दक्षिण पश्चिमी दिल्ली का है. जहां द्वारका के सलारिया अपार्टमेंट्स में 46 वर्षीय सैन्य अधिकारी लेफ्टिनेंट कर्नल जगदीश प्रकाश अपने परिवार के साथ रहते थे. उनके खिलाफ असम के सिलीगुड़ी में धन के दुरुपयोग का मामला चल रहा है. परिवार के मुताबिक इसी बात से वह तनाव में थे.

पुलिस उपायुक्त (दक्षिण पश्चिम) सुरेंद्र कुमार ने बताया कि अभी तक कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. लेकिन प्रथम दृष्टया यह आत्महत्या का मामला लग रहा है. उनके मुताबिक इस संबंध में सेक्टर 20 के सलारिया अपार्टमेंट्स से आज सुबह करीब सात बजे पीसीआर को एक फोन कॉल मिली थी.

पुलिस को बताया गया था कि लेफ्टिनेंट कर्नल जगदीश प्रकाश अपने घर की ओर जाने वाली सीढ़ियों के समीप ग्रिल से लटके हुये मिले हैं. प्रकाश पिछले सात वर्षों से अपनी पत्नी और दो बच्चों के साथ इस सेक्टर में रह रहे थे. उनकी पत्नी ने पुलिस को बताया कि वह पिछले कुछ सप्ताह से परेशान थे.

उनकी पत्नी के मुताबिक वह ठीक से सो भी नहीं पा रहे थे. तड़के तीन बजे घर से निकल जाते थे और फिर वापस आ जाते थे. शुक्रवार को भी वह उसी समय नीचे उतरे, लेकिन वापस नहीं आए. जब उनकी पत्नी उठी तो उन्होंने अपने पति को फोन लगाने की कोशिश की लेकिन वह अपना फोन घर पर ही छोड़ गए थे.

उन्होंने अपने पति को सभी जगह ढूंढा, फिर वह बाहर आई और उन्होंने घर के बाहर अपने पति को फांसी पर लटके देखा. इसके बाद उन्होंने शोर मचाया और उनके पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दी. प्रकाश को पास के एक अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया.

पुलिस के मुताबिक लेफ्टिनेंट कर्नल जगदीश प्रकाश सेना की कोर ऑफ इंजीनियर्स से थे और यहां राजाजी मार्ग पर कश्मीर हाउस में तैनात थे. मूल रूप से वह केरल के रहने वाले थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें