scorecardresearch
 

यूपीः सांसद अतुल राय ने बताया था बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से जान का खतरा, खुफिया रिपोर्ट में पुष्टि

यूपी की घोसी लोकसभा सीट बसपा सांसद अतुल राय ने इसी साल अप्रैल में सीएम योगी और एमपी/एमएलए कोर्ट को पत्र लिखकर बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से अपनी जान को खतरा बताया था. सांसद ने मुख्तार अंसारी पर उनके खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया था.

X
मुख्तार अंसारी इस वक्त यूपी की बांदा जेल में बंद हैं, जबकि सांसद अतुल को नैनी जेल में रखा गया है मुख्तार अंसारी इस वक्त यूपी की बांदा जेल में बंद हैं, जबकि सांसद अतुल को नैनी जेल में रखा गया है
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रेप केस में नैनी जेल में बंद हैं सांसद अतुल राय
  • पंजाब से बांदा जेल में शिफ्ट किए गए थे मुख्तार अंसारी
  • खुफिया रिपोर्ट ने अतुल राय की शंका को सच माना

उत्तर प्रदेश से बसपा सांसद अतुल राय ने बाहुबली सांसद मुख्तार अंसारी से अपनी जान को खतरा बताया था. इसी वजह से मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी के नैनी सेंट्रल जेल में शिफ्ट करने के बजाय बांदा भेजा गया. यह खुलासा प्रयागराज के एसपी इंटेलिजेंस की एक गोपनीय रिपोर्ट से हुआ है. उस रिपोर्ट की कॉपी आजतक के हाथ लगी है. बताते चलें कि बीते 5 अप्रैल को इस संबंध में आजतक ने एक खबर भी चलाई थी. जिस पर इस खुफिया रिपोर्ट ने मोहर लगा दी.

यूपी की घोसी लोकसभा सीट बसपा सांसद अतुल राय ने इसी साल मार्च में सीएम योगी और एमपी/एमएलए कोर्ट को पत्र लिखकर बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी से अपनी जान को खतरा बताया था. सांसद ने मुख्तार अंसारी पर उनके खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया था. सांसद अतुल राय ने पत्र में सीएम और कोर्ट से अपील करते हुए कहा था कि मुख्तार अंसारी को नैनी जेल में शिफ्ट ना किया जाए क्योंकि वो उनके लिए खतरा बन सकते हैं. 

इसी के बाद मऊ के विधायक मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से यूपी की बांदा जेल में लाया गया था. दरअसल, सांसद अतुल राय की गुहार पर प्रयागराज के एसपी इंटेलिजेंस ने इस मामले में एक खुफिया जांच की थी. जिसमें उन्होंने अतुल राय की जान को खतरा होने की बात की पुष्टि की थी. उस रिपोर्ट की कॉपी आजतक के हाथ भी लगी है. यह खुफिया रिपोर्ट हाल ही में सामने आई है. 

इसे ज़रूर पढ़ें-- मुख्तार से मुक्त होने की हसरत या सांसद अतुल राय को वाकई अंसारी से जान का खतरा!

जबकि aajtak.in पर इस संबंध में 5 अप्रैल को खबर प्रकाशित की गई थी. सांसद अतुल राय ने यूपी के सीएम को खत लिखकर गुहार लगाई थी कि मुख्तार को नैनी जेल में शिफ्ट ना किया जाए क्योंकि उनसे उनकी जान को खतरा है. उनकी गुहार सुन ली गई या संयोग हो सकता है कि मुख्तार को बांदा की जेल में शिफ्ट किया गया. 

लेकिन अतुल राय के खत के दो मायने निकाले जा रहे हैं. पहला यह कि अतुल राय ने यह लेटर मुख्तार को बचाने के लिए लिखा है. क्योंकि वह उनके ही आदमी हैं. दूसरा यह कि अतुल राय को वास्तव में मुख्तार से खतरा है क्योंकि उन्होंने मुख्तार ही नहीं उनके परिवार का सपना तोड़ा है. परिस्थितियां ऐसी हो गईं कि अतुल राय पर मुख्तार का आदमी होने का ठप्पा लग गया. अब अतुल राय इस ठप्पे से आजादी चाहते हैं. राजनीति में उनकी हैसियत मुख्तार से बड़ी हो चुकी है. आगे की राजनीति करनी है तो मुख्तार की छत्रछाया से बाहर निकलना ही होगा. सांसद अतुल राय रेप के मामले में नैनी जेल में बंद हैं.

गौरतलब है कि 6 मार्च 2020 में वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने सांसद अतुल राय के पिता के पुनर्विवेचना पत्र और साक्ष्यों के आधार पर एसपी सिटी वाराणसी और सीओ भेलूपुर से जांच कराई थी. जिसमें आपराधिक साज़िश की बात सामने आई थी. दोनों ही अधिकारियों ने अग्रिम विवेचना की संस्तुति की थी. लेकिन वाराणसी के पुलिस कमिश्नर ने अग्रिम विवेचना का आदेश पारित नहीं किया था. माना जा रहा था कि मामला विपक्ष के सांसद का है, लिहाजा इस केस में पक्षपात किया गया था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें