scorecardresearch
 

धर्मांतरण केसः दिल्ली के शाहीन बाग में UP ATS का सर्च ऑपरेशन, मौलाना कलीम सिद्दीकी के ठिकानों पर छापेमारी

धर्मांतरण रैकेट के मामले में यूपी एटीएस ने मंगलवार को दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया. जानकारी के मुताबिक, एटीएस की टीम सुबह 9 बजे दिल्ली पहुंची थी और तलाशी के बाद वापस लौट गई है.

X
मौलाना कलीम सिद्दीकी (फाइल फोटो) मौलाना कलीम सिद्दीकी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • धर्मांतरण रैकेट में एटीएस की कार्रवाई जारी
  • दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में तलाशी

यूपी में पकड़े गए धर्मांतरण रैकेट केस (Religious Conversion Case) के मामले में मंगलवार को उत्तर प्रदेश की एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (ATS) ने दिल्ली के शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में सर्च ऑपरेशन चलाया. एटीएस की टीम ने कोर्ट के आदेश के बाद यहां तलाशी ली. 

यूपी एटीएस की टीम कोर्ट के आदेश पर आए दिन दिल्ली-एनसीआर के कई ठिकानों पर छापेमारी और तलाशी अभियान चला रही है. जानकारी के मुताबिक, यूपी एटीएस की टीम मंगलवार सुबह 9 बजे दिल्ली पहुंची थी. कोर्ट के आदेश पर टीम शाहीन बाग इलाके पहुंची. यहां के F-ब्लॉक में टीम ने तलाशी की. इसके अलावा कुछ और जगहों पर जाकर भी सर्चिंग की. 

बताया जा रहा है कि एटीएस ने धर्मांतरण के मामले में गिरफ्तार हुए आरोपी मौलाना कलीम सिद्दीकी की ठिकानों पर छापेमारी की है. कलीम सिद्दीकी के दफ्तर पर भी छापा मारा गया है. यहां से एटीएस को फंडिंग से जुड़े कुछ कागजात बरामद हुए हैं.

ये भी पढ़ें-- धर्मांतरण केस: 'नक्शे सुलेमानी' किताब और तंत्र-मंत्र का डर...लोगों को यूं फंसाता था मौलाना कलीम सिद्दीकी!

यूपी एटीएस ने इसी साल जून में नोएडा से चलने वाले धर्मांतरण रैकेट का भंडाफोड़ किया था. इस मामले में एटीएस ने मौलाना उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी को गिरफ्तार किया था. ये दोनों दिल्ली के जामिया नगर इलाके के रहने वाले हैं. एटीएस के मुताबिक, ये रैकेट देशभर में फैला हुआ है और धर्मांतकरण का ये पूरा खेल दो साल से चल रहा था.

इसी मामले में एटीएस ने 21 सितंबर को मौलाना कलीम सिद्दीकी को भी गिरफ्तार किया था. उसकी गिरफ्तारी के बाद एटीएस ने मोहम्मद इदरिस, मोहम्मद सलीम और कुनाल अशोक चौधरी उर्फ आतिफ को गिरफ्तार किया था. इनमें मोहम्मद इदरिस और मोहम्मद सलीम मुजफ्फरनगर तो आतिफ महाराष्ट्र के नासिक का रहने वाला है. इन तीनों पर मौलाना सिद्दीकी की मदद करने का आरोप है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें