scorecardresearch
 

मनीष गुप्ता हत्याकांड: फरार चल रहे पुलिसकर्मियों पर 25 हजार से बढ़ाकर 1 लाख किया गया इनाम

कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता की गोरखपुर में पुलिसकर्मियों ने पीट पीट कर हत्या कर दी थी. इस मामले में गोरखपुर के 6 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया गया है. हालांकि, सभी आरोपी फरार चल रहे हैं. ऐसे में मनीष गुप्ता हत्याकांड की जांच कर रहे डीसीपी ने इंस्पेक्टर जगत नारायण समेंत फरार चल रहे सभी 6 पुलिसकर्मियों पर इनाम घोषित किया है.

मनीष गुप्ता की गोरखपुर में पुलिसकर्मियों ने पीट पीट कर हत्या कर दी थी. मनीष गुप्ता की गोरखपुर में पुलिसकर्मियों ने पीट पीट कर हत्या कर दी थी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कानपुर के व्यापारी की गोरखपुर में हुई पीट पीट कर हत्या
  • इस मामले में गोरखपुर के 6 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया गया

कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता की गोरखपुर में हत्या के मामले में फरार चल रहे पुलिसकर्मियों पर इनाम को बढ़ाकर 1-1 लाख रुपए कर दिया गया है. इससे पहले हत्याकांड में फरार चल रहे 6 पुलिसकर्मियों पर 25-25 का इनाम घोषित किया गया था. इनमें इंस्पेक्टर जगत नारायण भी शामिल है. 

कानपुर के व्यापारी मनीष गुप्ता की गोरखपुर में पुलिसकर्मियों ने पीट पीट कर हत्या कर दी थी. इस मामले में गोरखपुर के 6 पुलिसकर्मियों को आरोपी बनाया गया है. हालांकि, सभी आरोपी फरार चल रहे हैं. ऐसे में मनीष गुप्ता हत्याकांड की जांच कर रहे डीसीपी ने इंस्पेक्टर जगत नारायण समेंत फरार चल रहे सभी 6 पुलिसकर्मियों पर 25-25 का इनाम घोषित किया था. अब इसे बढ़ाकर 1-1 लाख रुपए कर दिया गया. 

क्या है मामला?

हाल ही में कानपुर के प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की गोरखपुर पुलिस द्वारा पिटाई से मौत का मामला सामने आया था. आरोप है कि मनीष गुप्ता अपने दोस्तों के साथ गोरखपुर के होटल में रुके थे. उसी वक्त चेकिंग के नाम पर कुछ पुलिसकर्मी उनके कमरे में आते हैं और उनके साथ मारपीट करते हैं. इसके बाद मनीष गुप्ता की मौत हो गई. इस मामले में गोरखपुर पुलिस के 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया जा चुका है. हालांकि, अभी इस मामले में गिरफ्तारी नहीं हुई है. 

इस हत्याकांड को एक हफ्ते से ज्यादा हो गया है. इस मामले में एसआईटी जांच कर रही है. हालांकि, अभी तक एक भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हो सका है. शनिवार को कानपुर से गोरखपुर पहुंची एसआईटी टीम ने मौका-ए-वारदात समेत कई जगहों पर जांच पड़ताल की. एसआईटी का दावा है कि सभी बिन्दुओं पर छानबीन करने के बाद बहुत से ऐसे सबूत उनके हाथ लगे हैं, जो बहुत जल्द इस पूरे मामले का खुलासा भी कर सकते हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×