scorecardresearch
 

कर्नाटक के IPS अधिकारी का नंबर बना हेल्पलाइन, मजदूरों को पहुंचा रहे खाना

झारखंड के रहने वाले सीमांत कुमार सिंह वर्तमान में कर्नाटक में आईजी (एडमिन) के रूप में कार्यरत हैं. कर्नाटक और आस-पास फंसे सैकड़ों प्रवासी मजदूर उन्हें फोन करके भोजन और राशन मांगते हैं.

गरीबों को IPS अफसर से मिल रही मदद (प्रतीकात्मक तस्वीर) गरीबों को IPS अफसर से मिल रही मदद (प्रतीकात्मक तस्वीर)

  • गरीबों की मदद करते हैं पुलिस अधिकारी सीमांत
  • मजदूर और गरीब खाने के लिए करते हैं कॉल

लॉकडाउन के दौरान होने वाली घटनाओं के बीच इत्तेफाक से कर्नाटक के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी सीमांत कुमार सिंह का व्यक्तिगत फोन नंबर बिहार में लीक हो गया. अब कर्नाटक और आस-पास फंसे सैकड़ों प्रवासी मजदूर उन्हें फोन करके भोजन और राशन मांगते हैं. पुलिस अधिकारी सीमांत भी उनकी हरसंभव मदद कर रहे हैं. उनका नाम इन दिनों खूब सुर्खियां बटोर रहा है.

दरअसल, झारखंड के रहने वाले सीमांत कुमार सिंह वर्तमान में कर्नाटक में आईजी (एडमिन) के रूप में कार्यरत हैं. कुछ दिन पहले ही अचानक उनके पास बिहार से एक कॉल आई. फोन करने वाले ने कहा कि बेंगलुरु में 400 मजदूर फंस गए हैं. इस मामले का सत्यापन करने के बाद आईजी सीमांत ने अपने सहयोगी अधिकारियों से इस संबंध में बात की, जिनमें एक एडीजी भी शामिल थे.

उनके सीनियर और कर्नाटक के एडीजी दयानंद ने सीमांत की बात सुनकर तुरंत 400 फूड पैकेट का इंतजाम किया और मजदूरों के लिए भिजवाया. जब फूड पैकेट सफलतापूर्वक वहां पहुंच गए तो तब बिहार की स्थानीय मीडिया में सीमांत के बारे में लिखा गया और उनका निजी नंबर अखबार में छाप दिया गया. नतीजा ये हुआ कि 30 मार्च के बाद से बिहार, झारखंड, कर्नाटक और केरल में व्हाट्सएप ग्रुप्स में हर जगह IPS सीमांत का नंबर वायरल हो गया.

ये भी पढ़ें- कोरोनाः 'डर के आगे ड्यूटी है', दिल्ली पुलिस की महिला टीम ने की पेट्रोलिंग

देखते ही देखते उनका नंबर कई मजदूरों के फोन तक जा पहुंचा. वो लगातार मजदूरों की मदद करने लगे. उनका नंबर समर्पित "हेल्पलाइन" नंबर के रूप में मशहूर हो गया. हैरानी की बात ये है कि किसी भी कॉल करने वाले को यह नहीं पता था कि वो कर्नाटक के एक बड़े आईपीएस अधिकारी से बात कर रहे हैं.

सीमांत बताते है कि उन्हें नहीं पता था कि उनके साथ क्या होने जा रहा है. लोग फोन करते हैं और कहते हैं कि आज खाना भेज दें प्लीज. मजदूरों से रोज सैकड़ों कॉल आते हैं. कोई कहता है कि मुझे राशन चाहिए. किसी को ट्रेन पास चाहिए. कोई कहता है "मेरे पास राशन कार्ड है, क्या आपके पास राशन है, जो मुझे मिल सकता है?

आईपीएस अफसर सीमांत कुमार सिंह ने बताया "पहले दो दिन मैं हैरान था और कॉल आने से चिढ़ गया था. लोग बिना ये जाने कि मैं एक पुलिस अधिकारी हूं, लगातार कॉल कर रहे थे. खाना मांग रहे थे. उन्हें लगा कि यह खाने के लिए हेल्पलाइन है. सीमांत के पास आने वाली हर कॉल खाने के लिए थी.

कोरोना पर भ्रम फैलाने से बचें, आजतक डॉट इन का स्पेशल WhatsApp बुलेटिन शेयर करें

सीमांत स्थानीय पुलिस की मदद से ज़रूरतमंदों तक आवश्यक सामान पहुंचाते रहे. इस काम के लिए उन्होंने कई लोकल पुलिस स्टेशनों, एनजीओ और अन्य संगठनों की मदद ली और मजदूरों तक खाना पहुंचाना शुरू किया. इस दौरान सीमांत ने लगभग 4000 लोगों को एनजीओ और पुलिस की मदद से खाना खिलाया. अब उनके पास शहर में अलग-अलग स्थानों पर फंसे 4000 मजदूरों का डेटा है, ये सभी विभिन्न उत्तर भारतीय राज्यों के रहने वाले हैं.

आईजी सीमांत कुमार सिंह ने मजदूरों और ज़रूरतमंदों का डेटा अब स्थानीय सरकार के अधिकारियों को दिया है. ताकि सरकार की तरफ से उन्हें खाना या राशन सुव्यवस्थित तरीके से दिया जा सके. उनका व्यक्तिगत नंबर केरल और तमिलनाडु भी पहुंच गया है. वहां से भी बिहार के मजदूरों ने उन्हें खाने के लिए कॉल्स किए हैं. सीमांत ने केरल में अपने समकक्ष अधिकारी की मदद से उन लोगों तक खाना पहुंचाना सुनिश्चित किया.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

सीमांत के मुताबिक लोगों की मदद करना उनका कर्तव्य है. लेकिन उन्होंने ज्यादातर ऐसा तब किया, जब वे अपने घर में थे. अगर उन्हें दिन में एक कॉल भी आई तो काम के समय कॉल ना लेकर दफ्तर के बाद उसे सीमांत ने वापस कॉल किया और उनकी समस्या सुनी. जांच की और पुष्टि हो जाने पर मदद की. अब इस काम में मदद करने के लिए खाने के पैकेट प्रायोजित करने वाले तैयार हैं. उन्होंने कहा, हम स्थानीय पुलिस या सरकार के अधिकारियों की सहायता से इस काम को अंजाम दे रहे हैं. बिहार और झारखंड के कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने उन्हें फोन करके उनके काम के लिए बधाई दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें