scorecardresearch
 

खुलासाः मौलाना इलियास क़ादिरी के भाषणों से प्रभावित होकर दावत-ए-इस्लामी से जुड़ा था अशरफ

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस की टीम कोलकाता जा सकती है. पुलिस के मुताबिक जब अशरफ बांग्लादेश के रास्ते भारत में दाखिल हुआ था, तब आईएसआई के अफसर नासिर ने अशरफ को कोलकाता में एक शख़्स के घर पर रुकवाया था. वो शख्स भी आईएसआई से जुड़ा हुआ है.

कई एजेंसियां अशरफ से लगातार पूछताछ कर रही हैं कई एजेंसियां अशरफ से लगातार पूछताछ कर रही हैं
स्टोरी हाइलाइट्स
  • संदिग्ध पाकिस्तानी से लगातार जारी है पूछताछ
  • दावत-ए-इस्लामी से जुड़ा था अशरफ
  • दावत-ए-इस्लामी में है ISI की घुसपैठ

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के अधिकारी लगातार संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद अशरफ से पूछताछ कर रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक अशरफ ने नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में रहने वाले कुछ लोगों के संपर्क में था. अब पुलिस उन सबसे पूछताछ करने की तैयारी में है. साथ ही पुलिस की एक टीम बिहार और कोलकाता भी जाएगी.

इससे पहले पूछताछ में खुलासा हुआ था कि पकड़ा गया संदिग्ध आतंकी अशरफ कोडिंग करने में महारत रखता है. वो आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए कोड वर्ड का इस्तेमाल करता था. स्पेशल सेल के साथ-साथ जम्मू कश्मीर पुलिस, मिलिट्री इंटेलीजेंसी और आईबी की टीम भी उससे लगातार पूछताछ कर रही है.

सूत्रों के मुताबिक दिल्ली पुलिस की टीम कोलकाता जा सकती है. पुलिस के मुताबिक जब अशरफ बांग्लादेश के रास्ते भारत में दाखिल हुआ था, तब आईएसआई के अफसर नासिर ने अशरफ को कोलकाता में एक शख़्स के घर पर रुकवाया था. वो शख्स भी आईएसआई से जुड़ा हुआ है. उसकी तलाश में एक टीम वहां जाएगी.

इसे भी पढ़ें--- महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने NCB पर क्यों लगाए गंभीर आरोप, जानिए समीर खान से जुड़ा पूरा मामला 

जानकारी के मुताबिक दिल्ली पुलिस की टीम बिहार के वैशाली जाएगी. जहां से वो अशरफ के मददगारों को गिरफ़्तार कर सकती है. ये वो लोग हैं, जिन्होंने अशरफ के लिए फर्ज़ी दस्तावेज तैयार किए थे. दिल्ली पुलिस की एक-एक टीम अजमेर और जम्मू कश्मीर भी जाएगी. जहां अशरफ काफी वक्त तक रुका था. वहां उसका नेटवर्क खंगाला जाएगा.

अशरफ़ ने पूछताछ में बताया है कि वो एक इस्लामिक संगठन दावत-ए-इस्लामी से जुड़ा हुआ था और दावत-ए-इस्लामी संगठन की जमात के साथ वो दुबई और नेपाल गया था. लेकिन एजेंसी का मानना है कि अशरफ जमात की आड़ में नेपाल और दुबई जाकर आईएसआई के लोगों से मिला था और वहां नेटवर्क खड़ा कर रहा था.

अशरफ का दावा है कि वो मौलाना मोहम्मद इलियास क़ादिरी के भाषणों से बेहद प्रभावित होकर दावत-ए-इस्लामी के साथ जुड़ा था. एजेंसियों का मानना है कि दावत-ए-इस्लामी संगठन में आईएसआई ने अपने स्लीपर सेल की घुसपैठ करवाई हुई है और उन्हीं से पाक एजेंसी आतंकी गतिविधियों को अंजाम दिलवा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें