scorecardresearch
 

झारखंड के आश्रम में साध्वी से गैंगरेप, सरकार पर BJP हमलावर

पीड़ित साध्वी फरवरी में आश्रम में एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने आई थी लेकिन लॉकडाउन के चलते वह वापस नहीं जा सकी. आरोपियों ने जिन साधुओं को कमरे में बंद किया था उन्होंने मोबाइल पर स्थानीय लोगों को घटना की जानकारी दी. लेकिन लोग जब तक मदद के लिए आश्रम पहुंचे, तब तक अपराधी भाग चुके थे.

सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • फरवरी महीने में आश्रम में आई थी साध्वी
  • लॉकडाउन के चलते घर नहीं लौट सकी
  • इस घटना का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

झारखंड के गोड्डा में एक साध्वी से गैंगरेप की खबर है. पुलिस के मुताबिक, मंगलवार की रात कुछ लोग दीवार फांद कर आश्रम में दाखिल हुए और करीब 2.30 बजे इस घटना को अंजाम दिया. यह भी आरोप है कि बंदूक की नोक पर आश्रम में तपस्वियों को बंधक बना लिया गया. जिस वक्त यह घटना हुई, उस समय मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रानीडीह में स्थित आश्रम में चार साध्वियां और एक साधु मौजूद थे.

गोड्डा के एसपी वाईएस रमेश ने बताया कि आश्रम में मौजूद अन्य लोगों को एक रूम में बंद कर दिया गया और साध्वी के साथ गैंगरेप की गई. पीड़ित साध्वी फरवरी से आश्रम में रह रही है. पीड़ित साध्वी फरवरी में आश्रम में एक धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने आई थी लेकिन लॉकडाउन के चलते वह वापस नहीं जा सकी. आरोपियों ने जिन साधुओं को कमरे में बंद किया था उन्होंने मोबाइल पर स्थानीय लोगों को घटना की जानकारी दी. लेकिन लोग जब तक मदद के लिए आश्रम पहुंचे, तब तक अपराधी भाग चुके थे. 

गैंगरेप के बाद इस मामले में राजनीती भी शुरू हो गई है. गोड्डा के बीजेपी विधायक अमित मंडल ने झारखंड सरकार के साथ-साथ स्थानीय प्रशाशन पर गंभीर आरोप लगाए हैं. वहीं पोड़ैयाहाट विधायक और कद्दावर नेता प्रदीप यादव ने पुलिस का बचाव किया है. गोड्डा पुलिस ने गैंगरेप को विशुद्ध अपराध मानते हुए इसका किसी भी अन्य धर्म से कोई संबंध नहीं होने की बात कही है.
 
बता दें जहां गैंगरेप की घटना हुई है वह क्षेत्र गोड्डा विधानसभा में पड़ता है जिसके विधायक बीजेपी के अमित मंडल हैं. अमित मंडल अभी गोड्डा से बाहर  हैं. एक बयान जारी कर उन्होंने झारखंड सरकार और पुलिस प्रशासन को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है. अमित मंडल ने गिरफ्तार अपराधी आशीष राणा को राजनीतिक संरक्षण देने का आरोप लगाया है. झारखंड में हेमंत सोरेन सरकार आने के बाद अपराध में तेजी से बढ़ोतरी पर चिंता जाहिर की है. महागठबंधन सरकार पर अपराध नियंत्रण नहीं करने का आरोप लगाया है. गोड्डा विधायक के मुताबिक अपराध कंट्रोल नहीं होने के पीछे ट्रांसफर -पोस्टिंग का खेल है. उन्होंने आरोप लगाया कि सनातन धर्म पर अंगुली उठाने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. हेमंत सोरेन सरकार की तुष्टिकरण नीति पर भी जोरदार हमला बोला है. 

पड़ैयाहाट विधायक और झारखंड के कद्दावर नेताओं में से एक प्रदीप यादव ने वीडियो जारी कर पुलिस और सरकार का बचाव किया है. घटना की निंदा करते हुए क्षेत्र की जनता को पुलिस का सहयोग करने के लिए धन्यवाद दिया है. साथ ही गोड्डा पुलिस पर पूरा भरोसा जताते हुए त्वरित ट्रायल की मांग की है. इधर पुलिस की जांच जारी है. नामजद दो अभियुक्तों में से एक को गिरफ्तार किया जा चुका है. पुलिस का साफ कहना है की सभी अपराधी स्थानीय हैं. SP गोड्डा ने इस घटना में किसी भी दूसरे धर्म मानने वालों की संलिप्तता से साफ इनकार किया है.

घटना के बाद पुलिस ने पीड़ित महिला को सुरक्षा मुहैया कराई है. पुलिस के मुताबिक मुख्य आरोपी दीपक राणा की गिरफ्तारी हो गई है. पुलिस ने बताया कि राणा का आपराधिक इतिहास रहा है. पीड़ित महिला (30) घटना के बाद सदमे में है लेकिन पुलिस ने उसे भरोसा दिलाया है कि बहुत जल्द सभी आरोपी सलाखों के पीछे होंगे.(गोड्डा से संतोष की रिपोर्ट)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें