scorecardresearch
 

दिल्ली: पैसे की हुई जरूरत तो महिला ने गोद देने के लिए कर लिया 2 साल के बच्चे का अपहरण, हुई गिरफ्तार

पुलिस के मुताबिक अपहरण की आरोपी महिला ने पंजाब के एक परिवार से वादा किया था कि वह उन्हें एक बच्चा गोद लेने के लिए दिला देगी. इसके बाद इस महिला ने दिल्ली में अपने एक साथी के साथ मिलकर 2 साल के मासूम बच्चे का अपहरण किया, लेकिन जब वो परिवार को इस बच्चे को सौंपने गई तो परिवार ने बिना कानूनी दस्तावेज के बच्चे को गोद लेने से मना कर दिया.

X
पुलिस ने आरोपी महिला को किया गिरफ्तार पुलिस ने आरोपी महिला को किया गिरफ्तार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पैसों की जरूरत हुई तो महिला ने बच्चे का कर लिया अपहरण
  • दिल्ली पुलिस ने महिला को किया गिरफ्तार, बच्चा सुरक्षित बरामद

दिल्ली के राजौरी गार्डन इलाके से 2 साल के मासूम बच्चे के अगवा होने के बाद पुलिस ने उसे सही सलामत बरामद कर लिया है. दिल्ली पुलिस ने इस केस को सुलझाते हुए अपहरण के मास्टरमाइंड को भी गिरफ्तार कर लिया है.

पुलिस के मुताबिक अपहरण की आरोपी महिला ने पंजाब के एक परिवार से वादा किया था कि वह उन्हें एक बच्चा गोद लेने के लिए दिला देगी. इसके बाद इस महिला ने दिल्ली में अपने एक साथी के साथ मिलकर 2 साल के मासूम बच्चे का अपहरण किया, लेकिन जब वो परिवार को इस बच्चे को सौंपने गई तो परिवार ने बिना कानूनी दस्तावेज के बच्चे को गोद लेने से मना कर दिया.

पुलिस के मुताबिक आरोपी महिला बच्चे के बदले बड़ी रकम हासिल करना चाहती थी. दरअसल  22 दिसंबर को राजौरी गार्डन थाने इलाके में शिकायत दर्ज कराई गई थी कि एक 2 साल के बच्चे को राजा गार्डन फ्लाईओवर के पास से अगवा कर लिया गया है.

राजौरी गार्डन थाना पुलिस ने इस मामले में तुरंत अपहरण की एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी. जांच के दौरान दिल्ली पुलिस ने सबसे पहले उस इलाके की सीसीटीवी फुटेज को चेक किया. 

सीसीटीवी में पुलिस ने देखा कि एक बाइक पर दो लड़के मौका ए वारदात के पास पहुंचते हैं. फिर उनमें से एक बाइक से उतरकर वहीं टहलने लगता है. पुलिस को उस पर शक हो गया जिसके बाद बाइक की पूरी डिटेल निकाली गई.

बाइक की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने आजादपुर सब्जी मंडी से एक लड़के को पकड़ कर उससे पूछताछ की . पकड़ में आने के बाद आरोपी ने इस पूरे मामले का खुलासा कर दिया. आरोपी ने पुलिस को बताया कि इस पूरी साजिश को तनु नाम की एक महिला ने रची थी.

आरोपी तनु पिछले 3 सालों से एक अस्पताल में एग डोनर का काम कर रही थी. पुलिस के मुताबिक सरोगेसी से तनु की बहन ने मोटी रकम हासिल की थी. तनु को भी पैसों की सख्त जरूरत थी. इसी दौरान तनु को एक एजेंट के जरिए पता लगा कि पंजाब के एक परिवार को बच्चे की जरूरत है जिसे वह गोद लेना चाहते हैं और इसके लिए वो पैसे भी देंगे.

इसके बाद तनु ने पूरी साजिश रची और अपने साथियों के साथ मिलकर 2 साल के बच्चे का अपहरण कर लिया. फिर वह एजेंट के साथ परिवार के पास पहुंची लेकिन बच्चे को गोद लेने का कानूनी दस्तावेज नहीं होने के कारण परिवार ने बच्चे को गोद लेने से मना कर दिया.

इसके बाद तनु जाली दस्तावेज बनवाने में जुट गई थी. इससे पहले कि वह जाली दस्तावेज बनवा पाती दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और बच्चे को सही सलामत बरामद कर लिया.

ये भी पढ़ें:


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें