scorecardresearch
 

प्रयागराजः अतीक अहमद के एक और करीबी के अवैध आशियाने पर चला बुलडोजर

जुल्फिकार उर्फ तोता को अतीक गैंग का शॉर्प शूटर कहा जाता है. इन दिनों वह आगरा जेल में बंद है. तोता हिस्ट्रीशीटर है और उस पर गैंगस्टर भी लगा हुआ है. उसके खिलाफ तकरीबन दो दर्जन से अधिक आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इनमें कई मुकदमे हत्या-हत्या के प्रयास, लूट-बलवा करने समेत कई दूसरी गंभीर धाराओं में दर्ज हैं.

अतीक अहमद के एक और करीबी की अवैध संपत्ति जमींदोज (ANI) अतीक अहमद के एक और करीबी की अवैध संपत्ति जमींदोज (ANI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अतीक गैंग का शॉर्प शूटर है जुल्फिकार उर्फ तोता
  • तोता पर लगा गैंगस्टर एक्ट, आगरा की जेल में बंद
  • 500 स्क्वायर यार्ड में बने मकान का नक्शा नहीं पास था
  • अब तक अतीक की 100 करोड़ की संपत्ति जब्त या ध्वस्त

उत्तर प्रदेश में माफियाओं और बाहुबलियों के साथ ही उनके करीबियों और दूसरे मददगारों की अवैध संपत्तियों पर सरकारी बुलडोजर चलाकर उन्हें जमींदोज किए जाने का सिलसिला जारी है. इसी कड़ी में रविवार को प्रयागराज में माफिया घोषित किए गए पूर्व बाहुबली सांसद अतीक अहमद के बेहद करीबी और उसके गैंग के सक्रिय सदस्य जुल्फिकार उर्फ तोता के अवैध आशियाने को ध्वस्त कर दिया गया.

जुल्फिकार उर्फ तोता को अतीक गैंग का शॉर्प शूटर कहा जाता है. इन दिनों वह आगरा जेल में बंद है. तोता हिस्ट्रीशीटर है और उस पर गैंगस्टर भी लगा हुआ है. उसके खिलाफ तकरीबन दो दर्जन से अधिक आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इनमें कई मुकदमे हत्या-हत्या के प्रयास, लूट-बलवा करने समेत कई दूसरी गंभीर धाराओं में दर्ज हैं.

अतीक अहमद के बेहद करीबी कहे जाने वाले जुल्फिकार उर्फ तोता के जिस निर्माण को ध्वस्त किया गया है, वह प्रयागराज शहर के करेली थाना क्षेत्र के कसारी मसारी इलाके में था. तकरीबन 500 स्क्वायर यार्ड में बने इस मकान का नक्शा नहीं पास कराया गया था. प्रयागराज विकास प्राधिकरण ने पिछले दिनों इसके ध्वस्तीकरण का आदेश जारी किया था.

देखें: आजतक LIVE TV 

इसी के तहत रविवार को नगर निगम, विकास प्राधिकरण, प्रशासन, राजस्व, पुलिस और पीएसी की साझा टीमें मौके पर पहुंचीं. ध्वस्तीकरण की कार्रवाई तीन तरफ से की गई और इसमें करीब आधा दर्जन बुलडोजर और जेसीबी मशीनों का इस्तेमाल किया गया.

दरअसल अतीक अहमद और उसके करीबियों पर यह कोई पहली कार्रवाई नहीं है. पहले भी ढेरों कार्रवाई हो चुकी है.

कब और कहां हुई कार्रवाई
24 अप्रैल- अतीक अहमद पर शिकंजा कसने के लिए प्रशासन ने कमर कसा और उसके गुर्गों की ओर से रवि पासी हत्याकांड के गवाह को धमकाने के मामले में FIR दर्ज की गई.
20 जून- अतीक अहमद गैंग के बदमाश विजय कुमार राय को यूपी-एसटीएफ ने किया गिरफ्तार.
4 जुलाई- अतीक अहमद का भाई और पूर्व विधायक अशरफ गिरफ्तार, 1 लाख का था इनाम.
22 जुलाई- बाहुबली अतीक अहमद पर प्रयागराज पुलिस की कार्रवाई, अतीक के चकिया कार्यालय से बरामद हुए थे राइफल और पिस्टल. 
27 अगस्त- बाहुबली अतीक अहमद की 7 संपत्तियां कुर्क.
5 सितंबर- अतीक अहमद के करीबी और 25 हजार इनामी इमरान की बिल्डिंग को किया गया ध्वस्त, करोड़ों रुपये की बिल्डिंग पर चला बुलडोजर.
7 सितंबर- अतीक अहमद की प्रयागराज में गिराई गई एक और बिल्डिंग, चल रहा था फूड रेस्टोरेंट.
11 सितंबर- भांजे हमजा की संपत्ति पर चला बुलडोजर.
12 सितंबर- अतीक अहमद की काली कमाई पर कार्रवाई जारी, 50 करोड़ से ज्यादा की सरकारी जमीन कब्जा मुक्त.
12 सितंबर- एक और अवैध निर्माण पर चला प्रशासन का हथौड़ा.
17 सितंबर- अतीक अहमद के एक और करीबी पर कार्रवाई, मोहम्मद अब्बास खान का मैक टॉवर सील.
20 सितंबर- अतीक अहमद की 3 बड़ी इमारतों को अवैध निर्माण करार देते हुए ढहा दिया गया.
22 सितंबर- अतीक के चकिया स्थित आवास को पीडीए ने किया जमींदोज.
26 सितंबर- माफिया अतीक अहमद को योगी सरकार की एक और चोट मिली. अवैध संपत्ति गिराने का खर्च भी वसूलने का आदेश जारी.
27 सितंबर- अतीक के शूटरों पर प्रशासन ने कसा शिकंजा, शूटर भुट्टो के लॉज पर चला बुलडोजर.
29 सितंबर- अतीक अहमद से अहमदाबाद जेल में दर्ज कराए गए 14 मामलों में बयान
30 सितंबर- अतीक अहमद के करीबी राशिद समेत दो के मकान ढहाए गए.
12 अक्टूबर- बाहुबली अतीक अहमद का शूटर बली पंडित गिरफ्तार, उसके पास से मिले कई देसी बम.
12 अक्टूबर- पूर्व सांसद अतीक अहमद के कोल्ड स्टोरेज पर चला पोकलैंड, बची बिल्डिंग को तोड़ने की हुई कवायद.
18 अक्टूबर- पूर्व बाहुबली अतीक अहमद के करीबी तोता के आशियाने पर चला योगी सरकार का बुलडोजर. करोड़ों की इमारत जमींदोज हुईं. 

100 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति खत्म

माफिया अतीक अहमद की अब तक 100 करोड़ रुपये से ज्यादा की संपत्तियों को यूपी सरकार द्वारा कुर्क, जब्त और ध्वस्त किए जाने के बाद अब अधिकारियों को पता चला है कि नीमसराय में पूर्व सांसद का 420 वर्ग मीटर का एक प्लॉट है. प्लॉट पर चहारदीवारी बनाई गई है.

जांच का दायरा आगे बढ़ाया तो मालूम हुआ कि अतीक ने वर्ष 2006 में इस जमीन को 16 लाख 80 हजार रुपये में अपने नाम करवा लिया था. बताया गया कि अतीक ने अपराध के जरिए कमाए गए धन से इस संपत्ति को खरीदा था. इसलिए जिलाधिकारी भानुचंद्र गोस्वामी ने इस संपत्ति को कुर्क करने का आदेश दिया.

साथ ही 26 अक्टूबर को संपत्ति को कुर्क कर आख्या देने के निर्देश दिए हैं. डीएम ने यह भी कहा की इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा ध्वस्तीकरण पर रोक लगाने के संबंध में जारी आदेश में ये स्पष्ट किया गया है कि जिलाधिकारी के विवेक पर निर्भर करता है और किसी भी अवैध निर्माण पर कार्रवाई करने की स्वतंत्रता दी गई है.

गौरतलब है कि अतीक की 15 से ज्यादा संपत्तियों को प्रशासन कुर्क कर चुका है. आरोप है कि उसने अपनी दबंगई और रसूख के बल पर अवैध तरीके से संपत्तियों को अर्जित किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें