scorecardresearch
 

दिल्लीः उत्तम नगर इलाके से 2 रोहिंग्या गिरफ्तार, 6 लोगों को डिटेंशन सेंटर भेजा

IB, FRRO, स्पेशल ब्रांच और अन्य एजेंसियां दिल्ली में अवैध तरीके से रह रहे लोगों की धड़पकड़ कर रही हैं. अवैध तरीके से दिल्ली में रह रहे रोहिंग्या, बांग्लादेशी, नाइजीरियन और अन्य खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. 

X
पकड़े गए रोहिंग्या जेल भेजे गए (सांकेतिक फोटो) पकड़े गए रोहिंग्या जेल भेजे गए (सांकेतिक फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गणतंत्र दिवस से पहले चलाया गया ऑपरेशन
  • पटपड़गंज में 6 रोहिंग्या के खिलाफ FIR दर्ज
  • MEA के जरिये इन्हें वापस भेजा जाएगा

गणतंत्र दिवस से पहले सुरक्षा एजेंसियों और दिल्ली पुलिस ने घुसपैठियों पर नकेल कसने के लिए बड़ा ऑपरेशन चलाया है. इसके तहत दिल्ली के उत्तम नगर से 2 रोहिंग्या पकड़े गए हैं, जो म्यामांर के रहने वाले हैं. इनकी पहचान हामिद हसैन और नवी हसैन के रूप में हुई है. दोनों को जेल भेज दिया गया है.

वहीं, ईस्ट दिल्ली के पटपड़गंज में 6 रोहिंग्या के खिलाफ FIR दर्ज की गई है. ये सभी अवैध तरीक रह रहे थे. इन्हें लामपुर डिटेंशन सेंटर में भेजा गया है. ये सभी ट्रेन से त्रिपुरा से दिल्ली आए थे. इनके पास भारतीय होने का कोई दस्तावेज नहीं था. MEA के जरिये इन्हें वापस भेजा जाएगा.

बता दें कि देश में अवैध तरीके से रह घुसपैठियों की धरपकड़ जारी है. IB, FRRO, स्पेशल ब्रांच और अन्य एजेंसियां दिल्ली में अवैध तरीके से रह रहे लोगों की धड़पकड़ कर रही हैं. अवैध तरीके से दिल्ली में रह रहे रोहिंग्या, बांग्लादेशी, नाइजीरियन और अन्य के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

बता दें कि साल 2017 में जब म्यांमार से रोहिंग्या संकट शुरू हुआ था, तब दस लाख से अधिक रोहिंग्याओं को बांग्लादेश ने अपने इलाकों में शरण दी थी. तब से रोहिंग्या उसी शेल्टर में हैं. 

देखें: आजतक LIVE TV

म्यांमार से निकाले गए रोहिंग्या आसपास के कई इलाकों में फैले, लेकिन सबसे अधिक बांग्लादेश में गए. तब भारत में भी बड़ी संख्या में रोहिंग्याओं के आने की बात कही गई थी, हालांकि भारत सरकार ने अपनी ओर से स्पष्ट किया कि वो किसी को नहीं आने देंगे. 

बीते साल दिसंबर में भारत और बांग्लादेश के प्रधानमंत्रियों ने वर्चुअल सम्मेलन में हिस्सा लिया था. पीएम नरेंद्र मोदी, पीएम शेख हसीना ने इस दौरान कई विषयों पर चर्चा की. दोनों देशों ने तीस्ता विवाद, कोरोना वैक्सीन और अन्य स्थानीय संकटों पर चर्चा की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें