scorecardresearch
 

Madhubani: मोबाइल लूट का विरोध करने पर गई स्कूल संचालक की जान, आरोपी गिरफ्तार

मधुबनी के झंझारपुर में 24 अक्टूबर को स्कूल संचालक र​विंद्र चौधरी की हत्या कर दी गई थी. इस हत्याकांड को लेकर पुलिस ने जांच शुरू कर दी. पुलिस ने मृतक के गायब हुए मोबाइल को सर्विलांस पर लगा दिया. मोबाइल और सिम का उपयोग होते ही पुलिस अलर्ट हो गई.

मोबाइल लूट के बाद लुटेरों का किया पीछा. मोबाइल लूट के बाद लुटेरों का किया पीछा.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मोबाइल लूट के बाद लुटेरों का किया पीछा
  • लुटेरों ने चाकुओं से गोदकर कर दी हत्या
  • 24 अक्टूबर को रविंद्र चौधरी की चाकू से गोदकर हुई थी हत्या

बिहार के मधुबनी में स्कूल संचालक की हत्या महज एक मोबाइल के लिए ​की गई थी. पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए तीन लुटेरों को भी गिरफ्तार कर लिया है. इनके पास से स्कूल संचालक से लूटा गया मोबाइल, सिम और चाकू भी बरामद किया गया है. 

यहां की है घटना

मधुबनी के झंझारपुर में 24 अक्टूबर को स्कूल संचालक र​विंद्र चौधरी की हत्या कर दी गई थी. इस हत्याकांड को लेकर पुलिस ने जांच शुरू कर दी. पुलिस ने मृतक के गायब हुए मोबाइल को सर्विलांस पर लगा दिया. मोबाइल और सिम का उपयोग होते ही पुलिस अलर्ट हो गई. मोबाइल की लोकेशन के बाद पुलिस ने गौतम पांडे निवासी दीप गांव, राहुल कुमार और गौरीशंकर निवासी रामनगर को गिरफ्तार कर लिया. गिरफ्तार किए गए आरोपियों से स्कूल संचालक का मोबाइल, सिम और हत्या में प्रयोग किया गया चाकू भी बरामद किया गया है.

ये बोले पुलिस अधिकारी

डीएसपी आशीष आनंद ने बताया कि 24 अक्टूबर को रविंद्र चौधरी की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी. रविंद्र चौधरी कानपुर के रहने वाले थे और यहां पर एक प्राइवेट स्कूल चला रहे थे. इस हत्या के मामले में रविंद्र के भाई ने घटना के अगले दिन एफआईआर दर्ज कराई. इसके बाद पुलिस इस हत्याकांड की जांच में जुट गई. स्कूल संचालक से लूटे गए मोबाइल के जरिये पुलिस ने लुटेरों को दबोच लिया. 

देखें: आजतक LIVE TV

इस तरह दिया वारदात को अंजाम
वहीं पुलिस गिरफ्त में आए लुटेरों ने वारदात को कबूल करते हुए पूरा घटनाक्रम बताया. पुलिस ने बताया कि रविंद्र चौधरी समीया ढलान के पास गाड़ी रोककर मोबाइल पर बात कर रहे थे. इसी दौरान बाइक सवार इन लुटेरों ने रविंद्र का मोबाइल छीन लिया और मौके से भागने लगे.

रविंद्र ने लुटेरों का पीछा किया. मोहना जीरोमाइल से मथुरा की ओर जाने वाली सड़क आगे बंद थी, जिसके चलते लुटेरे वहां रुक गए. पीछे से रविंद्र भी वहां पहुंच गये. यहां पर लुटेरों और रविंद्र के बीच हाथापाई हुई. इस दौरान लुटेरों ने रविंद्र पर चाकुओं से वार कर उन्हें मौत के घाट उतार दिया और मौके से फरार हो गए. 

पुलिस टीम को दी गई शाबाशी

इस हत्याकांड का खुलासा करने पर डीएसपी आशीष आनंद ने पुलिस टीम को शाबाशी दी है. डीएसपी ने बताया कि पुलिस निरीक्षक महफूज आलम के नेतृत्व में थाना अध्यक्ष चंद्रमणि के साथ आरक्षी अरविंद कुमार, नीतीश कुमार, मिथिलेश कुमार यादव, रश्मि कुमारी एवं रेनू कुमारी की टीम गठित की गई थी. पुलिस टीम के द्वारा बहुत ही कम समय में हत्या का खुलासा कर सराहनीय काम किया गया है.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें