scorecardresearch
 

पटना के Khan Sir कौन हैं? RRB NTPC विवाद में दर्ज हुआ है केस, जानें क्यों हैं प्रशासन के निशाने पर

RRB NTPC Result Row: आरआरबी एनटीपीसी रिजल्ट के बाद छात्रों के उग्र प्रदर्शन के मामले में पुलिस ने पटना के खान सर समेत कई कोचिंग संस्थानों के मालिकों के खिलाफ केस दर्ज किया है. पुलिस के मुताबिक, खान सर के अलावा कोचिंग संस्थानों के मालिकों ने छात्रों को भड़काने का काम किया है.

X
पटना के पत्रकार नगर थाने में दर्ज हुआ केस. (फाइल फोटो) पटना के पत्रकार नगर थाने में दर्ज हुआ केस. (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • खान सर पर पटना में FIR दर्ज
  • छात्रों को भड़काने का आरोप
  • पहले भी विवादों में रहे हैं खान सर

RRB NTPC Result Row: आरआरबी एनटीपीसी रिजल्ट में धांधली का आरोप लगाते हुए अभ्यर्थियों का उग्र प्रदर्शन जारी है. छात्रों को भड़काने का आरोप कोचिंग संचालकों पर लगा है. इसी बीच पुलिस ने पटना के खान सर (Khan Sir) के खिलाफ FIR दर्ज की है. पुलिस ने सिर्फ खान सर ही नहीं, बल्कि कई कोचिंग संचालकों के मालिकों समेत 400 अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है. ये केस पटना के पत्रकार नगर थाने में दर्ज हुआ है.

दरअसल, ये एफआईआर छात्रों के बयान के आधार पर दर्ज की गई है. पुलिस के मुताबिक, सोमवार और मंगलवार को हुई हिंसा के बाद कुछ छात्रों को हिरासत में लिया गया था. इन छात्रों से जब पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें कथित तौर पर खान सर RRB NTPC की परीक्षा रद्द नहीं होने पर छात्रों को आंदोलन करने के लिए उकसा रहे थे.

FIR के मुताबिक, हिरासत में लिए गए अभ्यर्थियों के बयानों और पुलिस के हाथ लगे वीडियो के आधार पर ये साफ हुआ कि कोचिंग संस्थान के मालिकों के साथ आंदोलनकारी छात्रों ने प्लानिंग से पटना में बड़े पैमाने पर हिंसा करने और लॉ एंड ऑर्डर बिगाड़ने की साजिश रची.

ये भी पढ़ें-- Explainer: बिहार से यूपी तक सड़कों पर क्यों हैं छात्र? जानें RRB NTPC Result को लेकर क्या है विवाद?

खान सर का क्या है कहना?

एफआईआर दर्ज होने से पहले खान सर ने बिहार तक से बातचीत में कहा था कि अगर हिंसा में उनकी भूमिका है तो प्रशासन उन्हें गिरफ्तार कर ले. उन्होंने इस हिंसा के लिए आरआरबी को जिम्मेदार ठहराया था. खान ने कहा कि आरआरबी ने बेवकूफी की. इंटरमीडिएट और ग्रेजुएट वाले का एक जैसा रिजल्ट दे दिया. इससे ग्रेजुएट छात्रों को लाभ हुआ. उन्होंने कहा कि आंदोलन के उग्र होने में गलती आरआरबी की है.

कौन हैं खान सर?

खान सर कौन हैं? इस बारे में पब्लिक डोमेन में ज्यादा जानकारी नहीं है. वो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं बताते हैं. उनके बारे में इतना पता है कि खान सर एक टीचर हैं जो जनरल स्टडीज की कोचिंग देते हैं. उनका एक यूट्यूब चैनल है जिसमें भी उनका नाम खान सर ही लिखा है. यूट्यूब चैनल पर पटना का पता दर्ज है. यूट्यूब पर उनके 1.45 करोड़ सब्सक्राइबर्स हैं.

फैजल खान या अमित सिंह?

खान सर के नाम को लेकर पिछले साल जमकर विवाद हुआ था. खान सर ने पिछले साल पाकिस्तान में हो रही हिंसा को लेकर एक वीडियो बनाया था. इसमें उन्होंने एक बच्चे की तस्वीर को पॉइंट करते हुए कहा था, 'बाबू लोग, तुम लोग पढ़ लो. अब्बा के कहने पर मत आओ. अब्बा तो पंचर साट ही रहे हैं.'

इसके बाद सोशल मीडिया पर दावा किया गया कि खान सर का असली नाम अमित सिंह है. उन्होंने अभी तक अपना नाम नहीं बताया है. लेकिन ऐसा बताया जाता है कि उनका पूरा नाम फैजल खान हैं और वो यूपी के गोरखपुर में पैदा हुए हैं. 

पटना में Khan GS Research Centre में उनके साथ पढ़ाने वाले टीचर महेंद्र सागर से आजतक की टीम ने बात की. महेंद्र सागर ने आजतक को बताया था क‍ि वह चार सालों से इस सेंटर में पढ़ा रहे हैं. खान सर का नाम फैजल खान है. ज‍िस ब‍िल्ड‍िंग में यह सेंटर है, उसके माल‍िक के पास सारे डॉक्यूमेंट हैं ज‍िसमें उनका असली नाम ल‍िखा है.  

कहा जाता है कि खान सर एनडीए में जाना चाहते थे, लेकिन फिजिकल क्लियर नहीं हुआ तो लोगों को पढ़ाने के लिए यूट्यूब चैनल शुरू किया, जो उनके पढ़ाने के अंदाज और अच्छी रिसर्च के चलते काफी हिट हुआ.

यूपी के देवरिया से की स्कूली पढ़ाई

खान सर ने यूपी के देवरिया जिले के भाटपाररानी कस्बे के परमार मिशन स्कूल से स्कूली पढ़ाई की. स्कूल में उनके साथ रहे सलीम अली ने बताया क‍ि मैंने और खान सर ने इसी स्कूल से हाईस्कूल पास किया है. उनका नाम फैजल खान ही है. 

भाटपाररानी में हार्ट बीट नाम से रेस्टॉरेंट चलाने वाले शख्स ने बताया क‍ि जब भी खान सर यहां आते हैं तो उनके ही रेस्टोरेंट में खाना खाने आते हैं. उनका यहां मालवीय गेट के पास बापू रोड पर खुद का मकान है. प‍िछली बार के लॉकडाउन में उनका यहीं स्टूड‍ियो हुआ करता था और वह वहीं से ऑनलाइन क्लास लेते थे.  उनके एक नरेश नाम के म‍ित्र हैं, उनके यहीं टोटल एड‍िट‍िंग और म‍िक्स‍िंग होती थी. 

नाम को लेकर क्या कहते हैं खान सर?

पिछले साल जब नाम को लेकर विवाद हुआ तो खान सर ने बताया था कि एक कोचिंग संस्थान ने उन्हें पढ़ाने के लिए बुलाया. कोचिंग वाले ने कहा कि छात्रों को अपना न नाम बताना है और न ही नंबर देना है. इसके बाद कुछ छात्रों ने उन्हें खान सर बुलाना शुरू कर दिया. तो कुछ लोग अमित सिंह कहकर बुलाते थे. उन्होंने कहा था कि मैंने अपना पूरा नाम कभी नहीं बताया. टाइम आएगा तो सबको पता चल ही जाएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें