scorecardresearch
 

पड़ोसी वकील से था झगड़ा, हत्या के लिए DRDO वैज्ञानिक ने रोहिणी कोर्ट में रखा बम!

दिल्ली पुलिस की जांच में सामने आया है कि भारत भूषण का वकील अमित वशिष्ट के साथ करीब एक दशक पुराना झगड़ा है. अभी तक वकील अमित ने भारत भूषण पर 7 मुकदमे दर्ज कराएं हैं, जबकि भारत भूषण की तरफ से अमित के खिलाफ 5 केस दर्ज कराए गए हैं.

X
रोहिणी कोर्ट में 9 दिसंबर को ब्लास्ट हुआ था (फाइल फोटो) रोहिणी कोर्ट में 9 दिसंबर को ब्लास्ट हुआ था (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आरोपी भारत भूषण का वकील अमित वशिष्ट के साथ करीब एक दशक पुराना झगड़ा
  • दोनों ने एक दूसरे के ऊपर दर्ज कराए कई केस
  • केसों से परेशान होकर वैज्ञानिक ने रखा कोर्ट में बम

रोहिणी कोर्ट ब्लास्ट मामले में पुलिस ने हाल ही में दिल्ली से एक साइंटिस्ट को गिरफ्तार किया है. पकड़े गए डीआरडीओ (DRDO) साइंटिस्ट ने पुलिस पूछताछ में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं. साइंटिस्ट का दावा है कि उसका उसी की बिल्डिंग में रहने वाले वकील से काफी पुराना विवाद चल रहा है. ऐसे में उसने वकील की हत्या के लिए यह पूरी साजिश रची और कोर्ट नंबर 102 में बम रखा.

दिल्ली पुलिस की जांच में सामने आया है कि भारत भूषण का वकील अमित वशिष्ट के साथ करीब एक दशक पुराना झगड़ा है. पहले दोनों के बीच छोटी मोटी बातों पर झगड़ा होता था, लेकिन करीब 6 साल पहले लिफ्ट लगाने को लेकर के दोनों के बीच मनमुटाव ज्यादा बढ़ गया. अभी तक वकील अमित ने भारत भूषण पर 7 मुकदमे दर्ज कराएं हैं, जबकि भारत भूषण की तरफ से अमित के खिलाफ 5 केस दर्ज कराए गए हैं. ऐसे में वह परेशान हो गया था और उसके पास खुद को मारने या वकील की हत्या के अलावा कोई चारा नहीं बचा था. ऐसे में उसने कोर्ट में ही वकील की हत्या करने की प्लानिंग की. 

कैसे बढ़ता गया झगड़ा?
2018 में डीआरडीओ में भारत भूषण के खिलाफ किसी ने एक आरटीआई लगाई. आरटीआई में भारत भूषण के पिछले 3 साल के काम की जानकारी मांगी गई थी. इस आरटीआई के लगाने के ठीक 1 साल बाद यानी 2019 में किसी ने भारत भूषण कटारिया के खिलाफ उनके ऑफिस में शिकायत की कि वे घर पर बैठे रहते हैं और प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करता हैं. इतना ही नहीं शिकायतकर्ता ने दावा किया था कि उसके पास भूषण के खिलाफ सीसीटीवी फुटेज समेत तमाम सबूत भी हैं.

भारत भूषण को लगा कि इन सब के पीछे वकील अमित वशिष्ट का हाथ है और फिर उसने वकील अमित वशिष्ट से पीछा छुड़ाने के तरीके खोजने शुरू कर दिया. इस बीच लॉक डाउन लग गया. सितंबर 2021 में रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टर की हत्या हुई थी. इसके बाद भारत भूषण कटारिया को लगा कि वह भी वकील के ड्रेस में कोर्ट में जा सकता है और अमित को अपने रास्ते से हटा सकता है. 

एक ही बिल्डिंग में रहते हैं दोनों
भारत भूषण और अमित दोनों चार फ्लोर की एक ही बिल्डिंग में रहते हैं. फर्स्ट फ्लोर पर वकील और चौथी मंजिल पर भारत भूषण रहता है. इस मामले में दिल्ली पुलिस के कमिश्नर राकेश अस्थाना ने बताया था कि सुबह 9:33 पर भारत भूषण कोर्ट परिसर में दाखिल हुआ था और 1 घंटे बाद 10:35 पर वह कोर्ट से बाहर निकला. भारत भूषण कोर्ट में दाखिल हुआ, उसके पास दो बैग थे, जब वह बाहर निकल रहा था तो उसके हाथ में सिर्फ एक बैग ही था. 

क्या है मामला?
रोहिणी कोर्ट में 9 दिसंबर को ब्लास्ट हुआ था. यह ब्लास्ट 102 नंबर कोर्ट में हुआ था. विस्फोटक को लैपटॉप बैग में रखा गया था. इस मामले में पुलिस ने भारत भूषण को गिरफ्तार करने से पहले पुलिस ने इस मामले में हर एंगल से जांच की. सीसीटीवी कैमरे के 1000 घंटों की फुटेज की जांच की. 1000 कारों की जांच की. आसपास के इलाके के डंप मोबाइल डाटा को खंगाला. फिर जब पुलिस की टीम भारत भूषण के घर पहुंची तो वहां से पुलिस को कई महत्वपूर्ण सुराग भी मिले जिनसे बम बनाए गए.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें