scorecardresearch
 

MP: मां की हालत देख चोर लौटा गया तीन दिन पहले चोरी हुआ बच्चा, बैग में सड़क पर मिला नवजात

राजस्थान के बाड़मेर के जिला अस्पताल से तीन दिन पहले चोरी हुआ तीन दिन का बच्चा वापस मिल गया है. तीन दिनों से मां कमला बेसुध पड़ी थी. कमला का रो-रोकर बुरा हाल था. पिछले तीन दिनों से बाड़मेर का पूरा अस्पताल हैरान परेशान था.

स्टोरी हाइलाइट्स
  • बैग में सड़क पर मिला नवजात
  • किसी करीबी के अपहरण में शामिल होने का शक

राजस्थान (Rajasthan) के बाड़मेर (Barmer ) के जिला अस्पताल (District Hospital) से तीन दिन पहले चोरी हुआ तीन दिन (Infant Stolen) का बच्चा वापस मिल गया है. तीन दिनों से मां कमला बेसुध पड़ी थी. कमला का रो-रोकर बुरा हाल था. पिछले तीन दिनों से बाड़मेर का पूरा अस्पताल हैरान परेशान था. बच्चे के मिल जाने से मां की जान में जान आई है.

अस्पताल से चोरी किए गए बच्चे को पुलिस और प्रशासन ढूंढने में लगा हुआ था कि अचानक से बाड़मेर पुलिस चौकी से क़रीब सौ मीटर दूर एक राहगीर रमेश सोनी की नज़र एक बैग पर पड़ी जिसमें बच्चा रखा हुआ था. उसने अस्पताल के स्टाफ को इसकी सूचना दी जिसके बाद बच्चे को अस्पताल लाया गया.

बाड़मेर के मेडिकल कॉलेज के राजकीय चिकित्सालय की पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड से 3 दिन का बच्चा चोरी हो गया था. जिसके बाद पिता जसराज सिंह ने बताया सुबह जब 5:00 बजे उनका बच्चा गायब था. उन्होंने इसकी शिकायत नर्स, अस्पताल प्रशासन से की लेकिन कोई जवाब देने को तैयार नहीं था. फिर इसकी जानकारी अस्पताल पुलिस चौकी में दी गई. सबसे चौंका देने वाली बात तो यह है कि अस्पताल के अंदर लगे सभी सीसीटीवी कैमरे खराब थे और कोई सुरक्षा गार्ड ड्यूटी पर नहीं था.

पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने कहा कि बच्चा दिन भर बैग में नहीं रहा था बल्कि किसी ने लाकर रखा था और बताया है. इसलिए मामले की जांच की जा रही है कि किडनैपर कौन है और बच्चे को कहां- कहां रखा गया था.

पुलिस का मानना है कि कोई जानकार ही बच्चे को किडनैप किया था. जिस तरह से उसके मां की हालत ख़राब हो रही थी उसे देखते हुए हो सकता है उसे दया आई होगी या फिर पुलिस की कार्रवाई से डरकर वह बच्चे को सुरक्षित सड़क किनारे रख गया. डॉक्टरों के अनुसार फ़िलहाल बच्चे की हालत ठीक है पर ऐसा लग रहा है किडनैपर ने बच्चे की देखभाल की है.  पुलिस जल्द इस पूरी वारदात का खुलासा करेगी.

लापरवाही के आरोप में नर्स सस्पेंड 
बाड़मेर के जिला कलेक्टर लोक बंधु ने इस मामले में सीएमओ से रिपोर्ट मांगी जिसमें प्रथम दृष्टया यह पाया गया कि नर्स लापरवाही सामने आई जिस पर कलेक्टर ने नर्स को सस्पेंड कर दिया. इस कार्रवाई के बाद नर्सिंग स्टाफ ने बवाल मचा दिया और नर्सिंग स्टाफ सड़कों पर उतर गए और आखिर में इस मामले में कलेक्टर की ओर से कमेटी बनाई गई.

आज पुलिस करेगी खुलासा
पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने बताया कि पुलिस के हाथ कुछ सबूत लगे हैं जिस पर पुलिस काम कर रही है. आज ही इस पूरी वारदात का खुलासा कर दिया जाएगा.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें