scorecardresearch
 

Mumbai: चार महीने की बच्ची को किडनैप कर तमिलनाडु में बेचा, मुंबई पुलिस ने किया बरामद

एक चार महीने की बच्ची को मुंबई से किडनैप कर लिया गया था. उसे 4.8 लाख रुपये में ​तमिलनाडु के एक दंपति को बेच दिया गया था. एक महिला ने इस मामले की शिकायत पुलिस से की तो पुलिस ने छानबीन शुरू की. बच्ची इस शिकायत करने वाली महिला के पास ही थी. बच्ची की मां इस महिला के पास बच्ची को छोड़कर गायब हो गई थी.

X
मामले से जुड़े 11 आरोपियों को मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार.   (Photo: Aajtak) मामले से जुड़े 11 आरोपियों को मुंबई पुलिस ने किया गिरफ्तार. (Photo: Aajtak)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बच्ची को 4.8 लाख रुपये में बेचा गया था
  • मामले से जुड़े 11 आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

मुंबई से एक चार महीने की बच्ची को अगवा कर ​तमिलनाडु में बेच दिया गया. पुलिस ने अब बच्ची को बरामद कर लिया है. 11 आरोपी भी गिरफ्तार किए गए हैं. बच्ची की मां बच्ची को एक महिला के पास छोड़कर गायब हो गई थी. पुलिस उसका भी पता लगा रही है. वहीं मामले का एक आरोपी युवक बच्ची का पिता होने का दावा कर रहा है. पुलिस अब उसका डीएनए कराएगी.

मुंबई पुलिस (Mumbai police) की टीम ने एक चार महीने की बच्ची को बरामद किया है. आरोप है कि बच्ची का किडनैप कर उसे 4.8 लाख रुपये में तमिलनाडु के एक निःसंतान दंपत्ति को बेच दिया गया था. अगवा कर बेचने का आरोप बच्ची के पिता होने का दावा करने वाले शख्स व उसके साथियों पर लगाया गया है.

वीपी रोड थाने में 3 जनवरी को दर्ज शिकायत के अनुसार, 50 वर्षीय अनवारी शेख ने बताया कि 27 दिसंबर को आरोपी 32 वर्षीय इब्राहिम शेख बच्ची को टीकाकरण के बहाने उसके घर से ले गया था, लेकिन वह वापस नहीं लौटा. इसके बाद उसने पुलिस से मामले की शिकायत की. नवजात मां ने बच्ची को अनवारी शेख के पास छोड़ दिया था. आरोपी इब्राहिम शेख और नवजात मां लिव इन रिलेशनशिप में थे. काम को लेकर कुछ दिक्कतों के चलते बच्ची की मां ने बच्ची को 1 दिसंबर को अनवारी शेख के पास छोड़ा था. उसके बाद से वह वापस नहीं लौटी. पुलिस बच्ची की मां का पता लगाने का प्रयास कर रही है.

पुलिस टीमों ने छापेमारी कर आरोपियों को पकड़ा

मुंबई पुलिस के जोन 2 के डीसीपी सौरभ त्रिपाठी ने कहा कि अपराध की गंभीरता को देखते हुए हमने पुलिस इंस्पेक्टर विनायक पाटिल के नेतृत्व में एक टीम बनाई. तकनीक और खुफिया तंत्र की मदद से टीमों ने इब्राहिम शेख को पकड़ लिया. उससे पूछताछ की गई. इसके बाद धारावी, सायन, नागपाड़ा, मलाड, जोगेश्वरी, कल्याण और ठाणे में छापेमारी की गई. मामले से जुड़ी दो और महिलाओं और चार पुरुषों को गिरफ्तार किया गया.

गिरफ्तार आरोपी ने खुलासा किया कि वह बच्ची को कर्नाटक ले गया था, उसके बाद तमिलनाडु के सलेम जिले के एक गांव में पहुंचा. इस सूचना पर पुलिस टीम भी तमिलनाडु गई. वहां कोयंबटूर के पास सेलवनपट्टी गांव से एक दंपत्ति के पास से बच्ची को बरामद किया. पुलिस ने तमिलनाडु में एक महिला और चार पुरुषों को गिरफ्तार किया. उनसे पूछताछ में पता चला कि बच्ची को 4.80 लाख रुपये में बेचा गया था.

दंपति को डॉक्टर ने दिलाया था बच्चा दिलाने का भरोसा 

छानबीन के दौरान पता चला कि तमिलनाडु के एक निःसंतान दंपति से एक डॉक्टर ने बच्चे को लेकर बात की थी. डॉक्टर ने फिर अन्य महिलाओं से संपर्क किया. इसके बाद मुंबई के इब्राहिम शेख तक बात पहुंची. इब्राहिम ने ही चार महीने की बच्ची के बारे में बेचने की बात कही थी. इस साजिश के तहत इब्राहिम ने बच्ची को अनवारी शेख से ले लिया और अन्य आरोपियों को सौंप दिया था. इब्राहिम शेख ने यह भी दावा किया कि वह बच्ची का पिता है. इस दावे के बाद पुलिस डीएनए टेस्ट कराएगी. बच्ची को बाल कल्याण समिति के सामने पेश किया जाएगा और उसकी सुरक्षा और रखरखाव के लिए आगे निर्णय लिया जाएगा.

इन आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पुलिस ने मामले में कुल 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, इनमें 32 वर्षीय इब्राहिम शेख, 39 वर्षीय मोहम्मद उर्फ ​​शेरू खान, 28 वर्षीय लक्ष्मी मुर्गेश कौंडर, 26 वर्षीय सद्दाम शाह, 38 वर्षीय अमजद शेख, 35 वर्षीय ताहिरा उर्फ ​​रेशमा शेख, 31 वर्षीय कार्तिक राजेंद्रन, 23 वर्षीय चित्रा कार्तिक, 36 वर्षीय तमिल थंगराज, 39 वर्षीय मूर्ति सामी और 44 वर्षीय आनंदकुमार नागराजन शामिल हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें