scorecardresearch
 

एंटीलिया केस: तिहाड़ में छापेमारी, आतंकी तहसीन अख्तर के बैरक से मोबाइल सीज

सुरक्षा एजेंसियों ने इंडियन मुजाहिदीन के खूंखार आतंकी के बैरक से मोबाइल फोन सीज किया. आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, तिहाड़ में गुरुवार को शाम 6 बजे से रात 9 बजे तक छापेमारी की गई थी.

इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी तहसीन अख्तर (फाइल फोटो) इंडियन मुजाहिदीन का आतंकी तहसीन अख्तर (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • तिहाड़ जेल में तीन घंटे तक चली छापेमारी
  • जेल नंबर-8 के बैरक से मोबाइल फोन सीज

मुंबई स्थित एंटीलिया के बाहर खड़ी स्कॉर्पियो से जिलेटिन की छड़ें बरामद होने के तार दिल्ली के तिहाड़ जेल से जुड़ गए हैं. सुरक्षा एजेंसियों ने इंडियन मुजाहिदीन के खूंखार आतंकी के बैरक से मोबाइल फोन सीज किया. आजतक को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक, तिहाड़ में गुरुवार को शाम 6 बजे से रात 9 बजे तक छापेमारी की गई थी.

जानकारी के मुताबिक, सुरक्षा एजेंसियों ने जेल नंबर-8 में रेड की. इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी तहसीन अख्तर के बैरक से मोबाइल सीज किया गया. इस मोबाइल से टेलीग्राम चैनल एक्टिवेट किया गया था. तहसीन अख्तर, पटना के गांधी मैदान में पीएम नरेंद्र मोदी की रैली में बम धमाके, हैदराबाद में ब्लास्ट, बोधगया बम धमाकों में शामिल रहा है.

तहसीन अख़्तर के बैरक से जो मोबाइल बरामद किया गया, उस मोबाइल में टोर ब्राउज़र के जरिए वर्चुअल नम्बर क्रिएट किया गया और फिर टेलीग्राम अकाउंट बनाया गया, उसके बाद धमकी भरा पोस्टर तैयार किया गया. अब दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल तहसीन अख़्तर को जेल से रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी. इसके लिए कोर्ट में आज अर्जी लगाई जाएगी.

इसके साथ ही एक दूसरा मोबाइल नंबर भी स्पेशल सेल की रडार पर है, ये नम्बर सितंम्बर में एक्टिववेट हुआ था और बाद में बंद कर दिया गया.  सूत्रों के मुताबिक, दो मोबाइल नम्बर फर्जी दस्तावेजों के जरिए खासतौर पर तिहाड़ में बंद कुछ लोगों के लिए खरीदे गए थे.

आपको बता दें कि बीते दिनों एंटीलिया के बाहर से एक लावारिस स्कॉर्पियो बरामद की गई थी. इस स्कॉर्पियो के अंदर जिलेटिन की छड़ें थी. इसके बाद जैश-उल-हिंद का एक टेलीग्राम सामने आया था, जिसमें उसने धमकी दी थी. इस पूरे मामले की जांच महाराष्ट्र एटीएस के साथ एनआईए और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल कर रही है.

जांच के दौरान पता चला था कि जैश-उल-हिंद से जो धमकी दी गई है, उसके तार तिहाड़ जेल से जुड़ रहे हैं. सुरक्षा एजेंसियों ने एक नंबर ट्रैक किया था, जिसका लोकेशन तिहाड़ जेल आ रहा था. इसके बाद तिहाड़ जेल में छापेमारी की गई.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें