scorecardresearch
 

चेन्नई पुलिस ने किया लोन ऐप रैकेट का भंडाफोड़, चीन के दो नागरिक समेत चार गिरफ्तार

पुलिस ने चीन के 2 नागरिक समेत 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्त में आए चारों शख्स लोन ऐप के जरिए ज्यादा ब्याज पर लोन देते थे और वसूली के लिए धमकी भरे कॉल भी करते थे. 

पुलिस ने चीन के दो नागरिक समेत चार लोगों को किया गिरफ्तार पुलिस ने चीन के दो नागरिक समेत चार लोगों को किया गिरफ्तार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पुलिस ने चीन के दो नागरिकों को किया गिरफ्तार
  • ऐप के जरिए ज्यादा ब्याज पर देते थे लोन
  • वसूली के लिए करते थे धमकी भरे कॉल

तमिलनाडु पुलिस ने लोन ऐप रैकेट का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने चीन के 2 नागरिक समेत 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्त में आए चारों शख्स ऐप के जरिए ज्यादा ब्याज पर लोन देते थे और वसूली के लिए धमकी भरे कॉल भी करते थे. 

दरअसल, ऑनलाइन लोन देने और धमकी भरे कॉल के बारे में एक शिकायत के आधार पर चेन्नई सेंट्रल क्राइम ब्रांच ने जांच शुरू की. शिकायतकर्ता ने कहा कि लॉकडाउन के कारण वह अत्यधिक वित्तीय संकट में था और सोशल मीडिया पर विज्ञापन के माध्यम से उसे एम रुपया ऐप के बारे में पता चला. ये तुरंत लोन देने वाला ऐप था. 

शिकायतकर्ता ने 5 हजार रुपये उधार लिया. हालांकि इसके लिए उससे 1500 रुपये ब्याज लिया गया था और 3500 रुपये उसके अकाउंट में ट्रांसफर किया गया. इसके बाद शिकायतकर्ता से 100 रुपये पर 2 प्रतिशत ब्याज लिया गया.  बाद में उसे धमकी भरी कॉल भी आने लगीं.

चेन्नई क्राइम ब्रांच ने मामले की जांच करनी शुरू की. कई ऑनलाइन हस्ताक्षरों के आधार पर, आरोपियों के बेंगलुरु के एक कॉल सेंटर के बारे में मालूम पड़ा. कॉल सेंटर कॉल ट्रू किंडल टेक्नॉलॉजी प्राइवेट लिमिटेड, प्रमोदा और पावन द्वारा संचालित किया जा रहा था, जिसमें करीब 110 लोग काम कर रहे थे. ये लोग 9 अलग-अलग ऐप से लोन देने का काम कर रहे थे. 

देखें- आजतक LIVE TV

इनके निशाने पर वित्तीय संकट का सामना कर रहे लोग होते थे. ये उन्हें ज्यादा ब्याज पर लोन देते थे और पेमेंट के लिए धमकी देते थे. जांच के बाद प्रमोदा और पावन ने कथित तौर पर चीन के दो नागरिकों के लिए काम करने की बात कबूल की. चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें