scorecardresearch
 

झारखंडः वसूली करने आए तीन बदमाशों को ग्रामीणों ने धुना, पुलिस ने बचाई जान

बदमाश उन लोगों को नहीं पहचानते थे, जिनसे पैसा लेना था. इसलिए तीनों हथियारबंद बदमाश सड़क पर खड़े हो गए और वहां से गुजरने वाले राहगीरों को बारी-बारी से रोककर नाम पूछने लगे.

पुलिस ने तीनों बदमाशों को भीड़ से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया पुलिस ने तीनों बदमाशों को भीड़ से छुड़ाकर अपने कब्जे में ले लिया
स्टोरी हाइलाइट्स
  • गढ़वा जिले के गांव में लेवी वसूल करने आए थे बदमाश
  • सड़क पर खड़े होकर राहगीरों के नाम पूछ रहे थे बदमाश
  • ग्रामीणों ने बदमाशों को घेर कर पकड़ा, जमकर की पिटाई

झारखंड के गढ़वा जिले में पुलिस की मुस्तैदी के चलते मॉब लीचिंग की एक बड़ी वारदात होने से बच गई. पुलिस ने एक गांव में तीन बदमाशों को ग्रामीणों की भीड़ से निकालकर बचाया. तीनों बदमाश वहां हथियार लेकर अवैध वसूली के लिए पहुंचे थे. लेकिन गांववालों ने उन्हें पकड़ लिया और जमकर उनकी पिटाई की. भीड़ में इतना गुस्सा था कि वे उन तीनों बदमाशों को जान से मार देते. लेकिन पुलिस वक्त से मौके पर पहुंच गई. 

मामला गढ़वा जिले के डंडई थाना क्षेत्र का है. जहां बौलिया गांव स्थित भोटवा पहाड़ पर एक गिरोह के तीन बदमाश लेवी वसूलने पहुंचे थे. बदमाश वहां बिछियादामर यूरिया टोला निवासी रामलाल चौधरी, नागेश्वर चौधरी, विजय चौधरी, मुईनुद्दीन अंसारी और रफीक अंसारी से लेवी का पैसा वसूलने पहुंचे थे.

बदमाशों ने इन सभी को पैसा लेकर भोटवा पहाड़ पर बुलाया था. बदमाश उन लोगों को नहीं पहचानते थे, जिनसे पैसा लेना था.

इसलिए तीनों हथियारबंद बदमाश सड़क पर खड़े हो गए और वहां से गुजरने वाले राहगीरों को बारी बारी से रोककर नाम पहचान पूछने लगे. इसी दौरान बदमाशों ने वहां से बाइक पर जा रहे बिसुनिया गांव के संतोष गुप्ता, कमलेश शाह और विजय सिंह को रोका और पिस्टल सटाते हुए कहा कि तुम ही रामलाल चौधरी हो ना? तो तीनों राहगीरों ने कहा नहीं हममें कोई रामलाल चौधरी नहीं है. बदमाशों ने उन्हें आगे बढ़ा दिया.

इसके बाद अपराधियों ने बौलिया गांव निवासी गोपाल सिंह और छोटू कुमार को रोककर वही बात पूछी और पहचान करने की प्रक्रिया दोहराई. ऐसा उन्होंने कई लोगों के साथ किया. राहगीरों ने इस बात की सूचना गांव वालों को दी. इसके बाद ग्रामीण एकजुट हुए और उस पहाड़ को चारों तरफ से घेर लिया. फिर तीनों अपराधियों को पकड़कर उनकी जमकर धुनाई की.

Must Read: बिजली का बिल भरने से बेटे ने किया इनकार, रिटायर्ड फौजी ने गोली मारकर की हत्या 

पुलिस को भी इस घटना की जानकारी मिल गई थी, लिहाजा पुलिस देर किए बिना मौके पर जा पहुंची. पुलिस ने ही तीनों बदमाशों को भीड़ से छुड़ाया. फिर तीनों को गाड़ी में बैठाकर थाने लाया गया. बिछियादामार यूरिया टोला निवासी रामलाल चौधरी ने बताया कि वो एक छोटा ईंट भट्ठा चलाते हैं. 10 दिन पहले कुछ बदमाश उनके पास आए थे और मजदूरों की पिटाई की थी. साथ ही कई मोबाइल फोन लूटकर बदमाश भाग गए थे. 

थाना प्रभारी सुनील कुमार पटेल ने बताया कि ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और तीनों बदमाशों को हिरासत में ले लिया. थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए बदमाशों की पहचान शंकर चौधरी, रंजीत कुमार रवि और रामाधीन राम के तौर पर हुई है. ये तीनों अपराधी एक गिरोह की तरफ से लेवी का पैसा वसूलने का काम करते थे. तीनों को जेल भेज दिया गया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें