scorecardresearch
 

बिना इजाजत निकाली गई थी जहांगीरपुरी में शोभायात्रा, VHP और बजरंग दल पर FIR

जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जन्मोत्सव पर शनिवार शाम शोभायात्रा पर पथराव के बाद भड़की हिंसा मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी अंसार समेत 24 लोगों को गिरफ्तार किया है.

X
स्टोरी हाइलाइट्स
  • हनुमान जयंती के मौके पर हुई थी जहांगीरपुरी में हिंसा
  • हिंसा के 24 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है

हनुमान जयंती के मौके पर राजधानी दिल्ली के जहांगीरपुरी में हुई हिंसा मामले (Violence in Jahangirpuri) में पुलिस ने बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. विहिप और बजरंग दल पर बिना इजाजत के शोभायात्रा निकालने का आरोप लगा है.

इस मामले में दिल्ली पुलिस ने विश्व हिंदू परिषद के जिला सेवा प्रमुख प्रेम शर्मा को भी गिरफ्तार किया है. पुलिस अधिकारियों ने कहा कि विहिप के जिला सेवा प्रमुख प्रेम शर्मा ने बिना पुलिस इजाजत के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के मौके पर शोभायात्रा निकाली थी.

डीसीपी एनडब्ल्यू उषा रंगनानी ने कहा, 17 अप्रैल को विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल के दिल्ली प्रांत के आयोजकों ने बिना अनुमति के शोभायात्रा निकाली थी, इस मामले में दोनों ही संगठनों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है. विश्व हिंदू परिषद के जिला सेवा प्रमुख आरोपी प्रेम शर्मा के खिलाफ भी पुलिस ने एक्शन लिया है और उन्हें गिरफ्तार कर लिया है.

क्या है पूरा मामला?
जहांगीरपुरी इलाके में हनुमान जन्मोत्सव पर शनिवार शाम शोभायात्रा पर पथराव के बाद भड़की हिंसा मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी अंसार समेत 24 लोगों को गिरफ्तार किया है. इनके अलावा 2 नाबालिग भी पकड़े गए हैं. गृह मंत्रालय ने सीआरपीएफ एवं आरएएफ की पांच अतिरिक्त कंपनियां तैनात कर दी हैं.

इलाके में फिलहाल तनावपूर्ण शांति का माहौल है. गृह मंत्रालय ने एहतियात के तौर पर सीआरपीएफ और आरएएफ की पांच और कंपनियां भेजी हैं. दिल्ली पुलिस ने पूरे मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी है. वहीं, इस मामले के 4 और आरोपियों को दिल्ली पुलिस ने रोहिणी कोर्ट में पेश किया. इन सभी को कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. जबकि हिंसा के मुख्य आरोपी अंसार और असलम की पुलिस कस्टडी को दो दिन के लिए बढ़ा दिया गया है.

9 लोग जख्मी, इनमें 8 पुलिसकर्मी
जहांगीरपुरी में हुई हिंसा मामले में दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना ने बताया कि हिंसा में 9 लोग जख्मी हुए हैं, इनमें 8 पुलिसकर्मी हैं. ये दर्शाता है कि पुलिस ने दोनों पक्षों को अलग किया. इसके चलते नागरिकों को नुकसान नहीं पहुंचा. इतना ही नहीं जब अस्थाना से पूछा गया कि क्या जहांगीरपुरी हिंसा केस में हो रही एकतरफा कार्रवाई हो रही है. तो उन्होंने जवाब दिया, ''नहीं..हिंसा में शामिल दोनों पक्षों के लोगों को गिरफ्तार किया गया है.''


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें