scorecardresearch
 

शर्मनाक: कोरोना मरीज को गुरुग्राम से लुधियाना तक ले जाने के एंबुलेंस चालक ने वसूले 1.20 लाख

साइबर सिटी गुरुग्राम में एम्बुलेंस चालक द्वारा आपदा को अवसर में बदलने का शर्मनाक मामला सामने आया है. एम्बुलेंस चालक द्वारा कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों से किराए के नाम पर एक लाख बीस हजार रुपए वसूले जाने का आरोप लगाया गया है.

प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो पीटीआई) प्रतीकात्मक तस्वीर ( फोटो पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आपदा को अवसर में बदलने का शर्मनाक मामला
  • एंबुलेंस वाले ने मांग लिए 1.20 लाख
  • प्रशासन ने दिया कार्रवाई का आश्वासन

साइबर सिटी गुरुग्राम में एम्बुलेंस चालक द्वारा आपदा को अवसर में बदलने का शर्मनाक मामला सामने आया है. एम्बुलेंस चालक द्वारा कोरोना संक्रमित मरीज के परिजनों से किराए के नाम पर एक लाख बीस हजार रुपए वसूले जाने का आरोप लगाया गया है. गुरुग्राम से मरीज को लुधियाना तक ले कर जाने के लिए एम्बुलेंस चालक द्वारा यह रकम वसूली गई है. आपदा के समय अवसर तलाशे जाने से मरीज के परिजन काफी आहत हैं और उन्होंने इसकी शिकायत जिला प्रशाशन से की है. 

एंबुलेंस वाले ने मांग लिए 1.20 लाख

वहीं परिजन इस बात से भी काफी नाराज हैं कि उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा जारी किए गए हेल्प लाइन नम्बरों पर कई बार फोन किया, लेकिन किसी ने उनका फोन नही उठाया. ऐसे में वह अपने मरीज को एम्बुलेंस चालक की मनमानी के बाद लुधियाना ले कर गए और वहां उन्हें दाखिल करवाया. आपदा को अवसर में बदलने का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी साइबर सिटी में अनेक एम्बुलेंस चालकों पर मनमानी करने के आरोप लगे हैं. वही इस पूरे मामले में एम्बुलेंस एसोसिएशन के प्रधान ओर पूर्व प्रधान की माने तो एम्बुलेंस चालक सेवा भाव से कार्य कर रहे हैं. अगर किसी ने ऐसा किया है तो उसके खिलाफ वे खुद ही मामला दर्ज करवाएंगे. वहीं जिला प्रशासन ने भी इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है.

क्लिक करें-आजतक के स्टिंग ऑपरेशन का असर, दिल्ली में अब एंबुलेंस वाले नहीं वसूलेंगे मनमाने दाम 

दिल्ली में एंबुलेंस वाले नहीं वसूल पाएंगे मनमाने दाम

आपदा को अवसर में बदले जाने का शर्मनाक मामला सामने आने के बाद एम्बुलेंस यूनियन ओर जिला प्रशासन ने कार्रवाई का आश्वाशन तो जरूर दिया है,लेकिन देखना होगा कि जिला प्रशासन इस आपदा के समय को अवसर बनाने वालों पर कब तक नकेल कस पाते हैं. अभी के लिए तो पूरे देश में ही कुछ लोग सिर्फ अपनी जेबें भरने में लगे हुए हैं. उन्हें सिर्फ लोगों की मजबूरी का फायदा उठाना है और उन्हें चूना लगाने का काम करना है. दिल्ली सरकार की तरफ से तो अब एक आदेश भी जारी कर दिया गया है. जोर देकर कहा गया कि कोई भी एंबुलेंस ड्राइवर मनमाने दाम नहीं लगा पाएगा. अब एम्बुलेंस सर्विस के अधिकतम चार्ज पर कैप लगा दिया गया है.

गुरुग्राम में क्यों नाराज एंबुलेंस ड्राइवर?

वैसे एक तरफ एंबुलेंस ऑपरेटर्स पर मनमाने दाम लगाने का आरोप लग रहा है, तो वहीं दूसरी तरफ कुछ एबुलेंस ड्राइवर ऐसे भी हैं जो हड़ताल पर बैठ रहे हैं. उनकी नजरों में सरकार द्वारा जो रेट तय किए गए हैं, उस रेट में किसी मरीज को अस्पताल ले जाना उनके लिए मुश्किल साबित हो रहा है. हाल ही में गुरुग्राम के एंबुलेंस ऑपरेटर्स ने अपनी हड़ताल खत्म की है. उन्होंने मांग रखी थी कि 15 किलोमीटर के लिए 3000 रुपये तय होने चाहिए. सरकार की तरफ से 500 रुपये तो तय कर दिए गए थे, लेकिन एंबुलेंस एसोसिएशन ने इसका विरोध किया था. अब जब प्रशासन से आश्वासन मिल गया है, ऐसे में ये हड़ताल खत्म हो गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें