scorecardresearch
 
क्राइम न्यूज़

सूरत: कोरोना मरीजों के आधार कार्ड से 670 में खरीद कर 12 हजार में बेचते थे रेमडेसिविर इंजेक्शन

रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 1/7

कोरोना वायरस ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है, जहां एक तरफ बीमार लोगों को अस्पताल में इलाज के लिए बेड नहीं मिल रहे हैं. वहीं, कोविड मरीजों के लिए जरूरी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी जमकर हो रही है. सूरत क्राइम ब्रांच की टीम ने 899 रुपये का रेमडेसिविर इंजेक्शन 12 हजार रुपये में बेचने वाले एक गिरोह के छह लोगों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने यह गिरफ्तारी गुप्त सूचना के आधार पर की.

रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 2/7

कोविड मरीजों के लिए जीवनरक्षक कहे जाने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन जिसकी कीमत 899 रुपये है, दवाइयों की कालाबाजारी करने वाले लोग एक इंजेक्शन को ब्लैक में 12 हजार रुपये में बेच रहे हैं. सूरत में कोरोना का जिस तरह से प्रकोप बढ़ रहा है, कोविड के गंभीर मरीजों के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है रेमडेसिविर इंजेक्शन. इसकी भारी कमी देखने को मिल रही है.

रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 3/7

सूरत के पुलिस कमिश्नर अजय तोमर का कहना है कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी के चलते इसकी ब्लैक मार्केटिंग जमकर हो रही है. पिछले कुछ दिनों से पुलिस को गुप्त सूचना मिल रही थी. पुलिस ने नकली ग्राहक बनकर तफ्तीश शुरू की और कड़ियां मिलती गई. इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले लोग मेडिकल स्टोर में आने से पहले ही इसे ब्लैक कर देते थे.

रेमेडीसीवीर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 4/7

इस मामले में पुलिस ने नित्या हॉस्पिटल एंड मेडिकल के मालिक विवेक धामेलिया को गिरफ्तार किया है, जो अस्पताल में भर्ती हुए मरीजों के आधार कार्ड का उपयोग कर डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन देकर अपने ही आदमी को सूरत सिविल हॉस्पिटल भेजकर सरकारी दाम 670 रुपये में यह इंजेक्शन मंगवाता था. फिर जो मरीज डिस्चार्ज हो जाते थे या इंजेक्शन बच जाता था उसे योगेश कवाड नाम का शख्स को 1500 रुपये में बेच देता था. योगेश इस इंजेक्शन को लिम्बायत के गोडादरा इलाके की फ़्यूजन पैथोलॉजी में 4000 में बेचता था.

रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 5/7

इसके बाद पैथोलॉजी चलने वाले शैलेश हड़िया और नितिन हड़िया इसे एजेंट के जरिये 12000 रुपये में बेचते थे. इसी क्रम में पुलिसकर्मी ग्राहक बनकर सबसे पहले पर्वत पाटिया इलाके में एक मेडिकल स्टोर के पास कल्पेश मकवाणा से मिले. मकवाणा ने 70 हजार में 6 इंजेक्शन दिलाने की बात की. मकवाणा के जरिये पुलिस प्रदीप कतरिया के पास पहुंची जो पैथोलॉजी चलनेवाले हड़िया बंधुओ का एजेंट है. एक के बाद एक कड़ियां मिलती गईं और पूरा गिरोह पुलिस के शिकंजे में आ गया. 

रेमडेसिविर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले गिरोह के 6 सदस्य गिरफ्तार
  • 6/7

पुलिस ने इनके पास से 12 रेमडेसिविर इंजेक्शन और 2 लाख 45 हजार रुपये नकद बरामद किए हैं. क्राइम ब्रांच ने इन पर विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

रेमेडीसीवीर इंजेक्शन की ब्लैक मार्केटिंग करने वाले पुलिस की गिरफ्त में
  • 7/7

सूरत के अलावा रेमडेसिविर की कालाबाजारी देश के कई राज्यों में हो रही है. महाराष्ट्र के पुणे में पुलिस ने दो भाइयों को गिरफ्तार किया है जो रेमडेसिवर इंजेक्शन 25,000 रुपये में बेच रहे थे. इससे पहले भी पुणे के फूड एंड ड्रग्स विभाग की मदद से क्राइम ब्रांच की टीमों ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले लोगों के खिलाफ 5 मामले दर्ज कर 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया और 9 बोतल पकड़ी थीं.