scorecardresearch
 

विदेशी फंडिंग, पैसों का लालच, बच्चों-महिलाओं पर नजर...धर्मांतरण रैकेट पर पुलिस के 10 खुलासे

यूपी के नोएडा में धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का पर्दाफाश हुआ है. ये रैकेट पिछले दो साल से चल रहा था और अब तक एक हजार से ज्यादा गैर-मुस्लिमों को इस्लाम में शामिल किए जाने का दावा किया जा रहा है.

पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मोहम्मद उमर और मुफ्ती काजी गिरफ्तार
  • धर्मांतरण के लिए डराने-धमकाने का आरोप
  • आईएसआई फंडिंग के भी सबूत मिलने का दावा

यूपी के नोएडा में धर्मांतरण कराने वाले रैकेट का पर्दाफाश हुआ है. ये रैकेट पिछले दो साल से चल रहा था और अब तक एक हजार से ज्यादा गैर-मुस्लिमों को इस्लाम में शामिल किए जाने का दावा किया जा रहा है. यूपी के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि इस मामले में दो मौलानाओं को गिरफ्तार किया गया है, जिनसे पूछताछ की जा रही है. साथ ही इस पूरे में विदेशी फंडिंग, पैसों का लालच जैसे 10 बड़े खुलासे भी हुए हैं.

1. दो मौलाना गिरफ्तार
इस रैकेट को चलाने के आरोप में मोहम्मद उमर गौतम और मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी को गिरफ्तार किया गया है. दोनों ही दिल्ली के जामिया नगर इलाके के रहने वाले हैं.

2. उमर भी कन्वर्टेड है
पुलिस को जांच में पता चला कि मोहम्मद उमर गौतम पहले हिंदू था, जिसने बाद में इस्लाम कबूल कर लिया. उसके पिता का नाम धनराज सिंह गौतम है. पुलिस को शक है कि उमर के देश में बहुत सहयोगी हैं जो इस पूरे रैकेट को चला रहे हैं.

3. दो साल से चल रहा था रैकेट
नोएडा में धर्मांतरण कराने वाला ये रैकेट पिछले दो साल से चल रहा था. एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि पिछले एक साल में ही 350 लोगों का धर्मांतरण किया गया है और अब तक एक हजार से ज्यादा लोगों को धर्मांतरण किया जा चुका है.

यूपी: पति की मौत के बाद महिला से निकाह कर बदलवाया धर्म, बच्चों का कराया खतना

4. महिलाओं-बच्चों को बनाते थे निशान
उन्होंने बताया कि महिलाओं और बच्चों को अपना टारगेट बनाते थे. जांच में सामने आया कि नोएडा के सेक्टर 117 स्थित नोएडा डीफ सोसायटी समेत कई मूक बधिर स्कूलों के बच्चों का धर्मांतरण कराया जाता था. अब तक 18 बच्चों का धर्म बदला जा चुका था. हैरानी वाली बात ये थी कि इन बच्चों के माता-पिता को उनके धर्मांतरण को लेकर कोई जानकारी भी नहीं थी. 

5. डराते थे, धमकाते थे और लालच देते थे
एफआईआर के मुताबिक, ये लोग न सिर्फ डरा-धमकाकर बल्कि नौकरी और पैसे का लालच देकर भी लोगों का धर्म परिवर्तन करवाते थे. साथ ही, मानसिक दबाव भी बनाया जाता था. इतना ही नहीं, आरोपी समय-समय पर सम्मेलन आयोजित कर सामूहिक धर्म परिवर्तन भी कराते थे.

6. मुस्लिमों से शादी करा देते थे
एटीएस की ओर दर्ज कराई गई एफआईआर में आरोप है के ये लोग अब तक एक हजार से ज्यादा गैर-मुस्लिमों को मुस्लिम धर्म में कन्वर्ट कर चुके हैं. धर्मांतरण के बाद उनकी मुस्लिमों से शादी करा दी जाती है.

7. इस्लाम की तारीफें करते थे
पूछताछ में सामने आया है कि पहले ये लोग कमजोर वर्ग, गरीब, महिलाओं की पहचान करते थे, उसके बाद मोहम्मद उमर और उसके साथी सुनियोजित ढंग से गैर-मुस्लिमों में उनके धर्म के प्रति दुर्भावना और घृणा पैदा करते थे और इस्लाम की तारीफें और फायदा बताकर उन्हें धर्म परिवर्तन के लिए तैयार करते थे.

UP: खुद को पुलिस इंस्पेक्टर बता रचाता था शादी, धर्म बदलने के लिए डालता था दबाव

8. एक संस्था भी चलाता है उमर
एटीएस ने बताया कि उमर और उसके साथियों ने धर्म परिवर्तन कराने का काम करने के लिए इस्लामिक दावा सेंटर (IOC) नाम से एक संस्था भी बनाई थी, जिसका पता दिल्ली के जामिया नगर में दर्ज है. इसके जरिए ही गैर-मुस्लिमों को मुस्लिम में परिवर्तित करने का काम किया जाता था.

9. विदेशी फंडिंग के भी सबूत मिले
इस रैकेट में एटीएस को विदेशी फंडिंग के सबूत भी मिले हैं. एफआईआर के मुताबिक, धर्मांतरण कराने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई और विदेशों से फंडिंग भी होती थी.

10. धर्मांतरण के दस्तावेज भी देते थे
इस मामले में आरोपी पहले तो लोगों का धर्मांतरण कराते थे, उनकी शादी करते थे और उसके बाद उन्हें धर्मांतरण और शादी के दस्तावेज तैयार कर धर्म परिवर्तन को अवैध रूप से कानूनी मान्यता भी दिलाते थे. इस काम में उमर का साथ मुफ्ती काजी देता था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें