scorecardresearch
 

'मदरसों में बच्चों को पढ़ाया जा रहा आतंकवाद का पाठ', उदयपुर की घटना पर बोले केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान

राजस्थान के उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की हत्या का मामला NIA को ट्रांसफर कर दिया गया. गृह मंत्रालय ने एनआईए को इस मामले की जांच अपने हाथ में लेने के लिए कहा था. 28 जून को कन्हैयाल की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी.

X
कन्हैया लाल की हत्या के बाद एक और व्यक्ति को मारने वाले थे हत्यारोपित (फाइल फोटो) कन्हैया लाल की हत्या के बाद एक और व्यक्ति को मारने वाले थे हत्यारोपित (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • उदयपुर में कन्हैया लाल की हत्या को बताया जघन्य अपराध
  • एनआईए कर रही मामले की जांच, रिमांड में लेने की कोशिश

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने शुक्रवार को कहा कि उदयपुर में कन्हैया लाल का सिरकलम करने की वारदात बेहद जघन्य है लेकिन मैं इसको लेकर हैरान नहीं हूं. उन्होंने आजतक को दिए इंटरव्यू में बताया कि मदरसों में नफरत फैलाने का पाठ पढ़ाया जाता है, जिसका नतीजा ऐसी घटनाएं हैं. 

उन्होंने आजतक को बताया,"2008 में मैंने देवबंद को लेटर लिखकर कहा था कि यह अच्छी बात है कि आप आतंकवाद के खिलाफ सेमिनार कर रहे हैं लेकिन आप खुद ही अपनी किताबों में बच्चों को इसका पाठ पढ़ा रहे हैं. अब आप बच्चों को यही सब पढ़ाएंगे तो बच्चे कट्टर ही बनेंगे. इससे उग्रवाद-आतंकवाद पैदा होगा. उन्होंने कहा कि ऐसी पढ़ाई करने के बाद अगर इनमें से कोई बच्चा ज्यादा प्रभावित हो जाए और अगर वह यह सब करे तो हैरत नहीं होगी. 

14 साल बाद भी देवबंद ने मुझे नहीं दिया जवाब

केरल के राज्यपाल ने बताया कि मैंने 14 साल पहले देवबंद को खत लिखकर जवाब देने के लिए कहा था. मैंने कहा कि अगर वह मेरे सवालों का जवाब नहीं देंगे तो मैं आर्टिकल लिखकर इस मुद्दे को उठाऊंगा लेकिन आज तक उन्होंने मेरे लेटर का जवाब नहीं दिया. 

मदरसों में पढ़ाई जा रही खास धार्मिक विचारधारा

केरल के राज्यपाल ने जाने-माने पाकिस्तानी स्कॉलर जावेद अहमद गामदी का जिक्र करते हुए कहा कि वह लिखते हैं कि आप जो आतंकवाद देख रहे हैं इसका कारण वह धार्मिक सोच है, जो मदरसों में पढ़ाई जा रही है.

मदरसों में दूसरे धर्म के खिलाफ भरा जा रहा जहर

आरिफ मोहम्मद खान ने जावेद गामदी के हवाले से बताया कि मदरसों में पढ़ाया जाता है कि दुनिया में अगर विधर्म होगा यानी कोई दूसरी तरीके से इबादत करता है तो ऐसे शख्स की सजा मौत है, उसे यह सजा देने का हमारा अधिकार है. 

मदरसों में बच्चों को यह बताया जाता है कि दुनिया में गैर मुस्लिम सिर्फ इसलिए पैदा हुए हैं कि मुस्लिम ही उन पर शासन करें और कोई भी गैर हुकूमत है तो वह नाजायज है. उसे जितनी जल्द हो सके पलटना चाहिए. गामदी ने यह भी कहा कि जब तक यह शिक्षा जारी रहेगी दुनिया में शांति स्थापित करना संभव नहीं है.

मदरसों में धार्मिक शिक्षा पर रोक लगनी चाहिए

राज्यपाल ने कहा कि शिक्षा का अधिकार और यूनाइटेड नेशन्स के डिकलरेशन से स्पष्ट है कि 14 साल की उम्र तक किसी भी बच्चे को स्पेशलाइज्ड शिक्षा (धर्म विशेष की शिक्षा ) नहीं दी जा सकती लेकिन मदरसों में ऐसा किया जा रहा है, जो नहीं होना चाहिए. 

हर समुदाय को दिया जा रहा योजनाओं का लाभ

बीजेपी देश का माहौल बिगाड़ रही है, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि देश में सभी वर्ग-सभी समुदाय के लोगों को हर तरह की योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है क्या ऐसा कहीं हो रहा है कि इस सरकार में किसी खास वर्ग को ही लाभ दिया जा रहा है.

28 जून को दुकान में घुसकर बेरहमी से मार दिया था

28 जून को उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी. हत्या का आरोप मोहम्मद रियाज अत्तारी और गौस मोहम्मद पर है. वारदात के बाद राजस्थान में जगह-जगह बवाल शुरू हो गया था. शाम तक दोनों आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया गया था.

बताया जा रहा है कि कन्हैयालाल के मोबाइल से नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट हुई थी. इसके चलते ही रियाज और गौस मोहम्मद ने उनकी हत्या कर दी थी. बहरहाल दोनों को अजमेर जेल शिफ्ट कर दिया गया है. 

पुलिस ने करा दिया था दोनों पक्षों में समझौता

11 जून को कन्हैयालाल के पड़ोसी नाजिम ने उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया था. पुलिस ने कन्हैयालाल को गिरफ्तार किया था. कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गई थी. इसके बाद कन्हैयालाल ने 15 जून को पुलिस को पत्र लिखकर अपनी हत्या की आशंका जताई और सुरक्षा मांगी थी. इसके बाद कन्हैयालाल और उनके पड़ोसी के बीच पुलिस ने समझौता करा दिया था.

कन्हैयालाल की उदयपुर में भूतमहल के पास सुप्रीम टेलर्स नाम से दुकान है. कन्हैयालाल ने करीब 6 दिन बाद मंगलवार को अपनी दुकान खोली थी. तभी आरोपियों ने उनका गला रेत दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें