scorecardresearch
 

NIA अफसर तंजील अहमद की बेटी ने बताया मर्डर का आंखों देखा हाल

नम आंखों से जिस पिता को अपनी लाडली की डोली विदा करनी थी, उस बेटी की आंखों में आज आंसुओं का समंदर छलक रहा है. पिता के साथ जिस कार में बेटी घूमने जाती थी, उसी गाड़ी में बेटी के सामने पिता को इतनी गोलियां मारीं कि उनकी जान चली गई.

DSP की उनके बीवी बच्चों के सामने ही हत्या कर दी गई DSP की उनके बीवी बच्चों के सामने ही हत्या कर दी गई

नम आंखों से जिस पिता को अपनी लाडली की डोली विदा करनी थी, उस बेटी की आंखों में आज आंसुओं का समंदर छलक रहा है. पिता के साथ जिस कार में बेटी घूमने जाती थी, उसी गाड़ी में बेटी के सामने पिता को इतनी गोलियां मारीं कि उनकी जान चली गई. अपनी आंखों के सामने पिता पर बरसती गोलियां देखने वाली बेटी का बयान सुनने के लिए आपको कलेजा मजबूत करना होगा.

एनआईए अफसर डीएसपी तंजील अहमद की बेटी जिमनीश ने बताया, 'पापा कार ड्राइव कर रहे थे. मम्मी उनके साथ वाली सीट पर आगे बैठी हुई थीं. मैं और भाई पीछे की सीट पर बैठे हुए थे. तभी कुछ लोगों ने हाथ देकर कार रुकवाई. कार रुकते ही वे लोग फायरिंग करने लगे. पापा ने हमें पीछे सीट के नीचे छिपने के लिए कहा. उन लोगों ने पापा को तब तक गोली मारी जबतक की उनकी मौत नहीं हो गई.

NIA में बेहतरीन काम करने वाले DSP तंजील की उनके बीवी बच्चों के सामने ही कार में हत्या कर दी गई. पिता के कत्ल के बारे में बताते हुए बेटी की जुबान कांपने लगती है. तो बेटा कुछ भी कहने से पहले रो देता है. गाड़ी की पिछली सीट पर बैठे बच्चे गोलियों की आवाज सुनकर सहम गए थे. जब-जब पिता की चीखें सुनते थे, तो शरीर में खून जैसे जमने लगा. पिता की मौत हो गई और मां की हालत काफी नाजुक है.

हत्याकांड देख कांप गई बच्चों की रूह
आधी रात को हुए इस हत्याकांड को देखकर बच्चों की रूह भी कांप गई. कभी चीखते. कभी बिलखते. कभी पापा को याद करते इन बच्चों को इंसाफ चाहिए. दिल्ली में शाहीन बाग में इन बच्चों से जांच एजेंसियों ने पूछताछ की है. परिवार के लोगों से भी बातचीत की गई है. ताकि ये मालूम हो सके कि इन मासूमों के पिता और आतंकियों के खिलाफ लंबी जंग लड़ने वाले डीएसपी तंजील के कातिल कौन हैं.

हत्या के दौरान सक्रिय थे कई नंबर्स
बच्चों ने पूरे घटनाक्रम के बारे में बताया है. NIA, STF और ATS की टीमें बच्चों से मिली जानकारी और कुछ फोन नंबर्स की तलाश में हैं. हत्या के दौरान कई फोन नंबर्स सक्रिय थे, जिनमें से कुछ पर शक है. इससे कई सुराग मिलने की उम्मीद है. जांच एजेंसियां बिजनौर में 53 फोन नंबर्स की जांच कर रही हैं. हत्या के दौरान 53 मोबाइल नंबर्स एक्टिव थे. 53 फोन नंबर्स में से कुछ नंबर 1 हफ्ते पहले ही एक्टिव हुए थे.

हत्या की सूचना देने वाले की तलाश
पुलिस को तंजील की हत्या की सूचना देने वाले की भी तलाश है. फोन करने वाले ने अपना नाम आलम बताया था. आलम नाम के शख्स ने डीएसपी की हत्या की सूचना दी थी. इसके बाद में पुलिस ने उस नंबर पर संपर्क किया तो स्विच ऑफ हो गया. पुलिस फोन करने वाले शख्स के नंबर के आधार पर उसे तलाशने की कोशिश कर रही है. क्योंकि उससे भी इस हत्याकांड में सुराग मिल सकता है.

अस्पताल में भर्ती हैं शहीद की पत्नी
इस वारदात के दौरान गंभीर रूप से घायल हुई डीएसपी तंजील की पत्नी को नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया है. उनके शरीर से दो गोलियां निकाल ली गई हैं. डॉक्टर्स ने उन्हें निगरानी में रखा है. कई गोलियां लगने की वजह से आंतों में तकलीफ है. डॉक्टरों को उम्मीद है कि वो जल्द बेहतर हो सकेंगी. तंजिल की पत्नी वारदात के वक्त पति के बराबर में बैठी थीं. फोर्टिस अस्पताल की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें