scorecardresearch
 

उत्तर कोरियाः वादा निभाएगा किम, बंद हो जाएगी बम की फैक्ट्री!

पिछले दो साल में उत्तर कोरिया ने उस जगह पर पांच परमाणु परीक्षण किए थे. इनमें सबसे ताकतवर हाइड्रोजन बम का परीक्षण भी शामिल था, मगर अब बम बनाने की उसी फैक्ट्री को उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन तबाह करने जा रहे हैं. उत्तर कोरिया के जिस न्यूक्लियर साइट पर किम जोंग उन ने 6 में से 5 परमाणु परीक्षण किए थे उस जगह को 23 से 25 मई के दरम्यान पूरी तरह से नष्ट कर दिया जाएगा. ताकि यहां फिर कभी कोई परमाणु बम ना बनाया जा सके और ये काम बकायदा दुनिया भर की मीडिया के सामने किया जाएगा.

किम और ट्रंप की मुलाकात पर पूरी दुनियाभर की नजरें टिकी हुई हैं किम और ट्रंप की मुलाकात पर पूरी दुनियाभर की नजरें टिकी हुई हैं

पिछले दो साल में उत्तर कोरिया ने उस जगह पर पांच परमाणु परीक्षण किए थे. इनमें सबसे ताकतवर हाइड्रोजन बम का परीक्षण भी शामिल था, मगर अब बम बनाने की उसी फैक्ट्री को उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन तबाह करने जा रहे हैं. उत्तर कोरिया के जिस न्यूक्लियर साइट पर किम जोंग उन ने 6 में से 5 परमाणु परीक्षण किए थे उस जगह को 23 से 25 मई के दरम्यान पूरी तरह से नष्ट कर दिया जाएगा. ताकि यहां फिर कभी कोई परमाणु बम ना बनाया जा सके और ये काम बकायदा दुनिया भर की मीडिया के सामने किया जाएगा.

किम जोंग उन ने पूरा किया वादा!

12 मई को किम जोंग उन ने बयान दिया कि अगर मौसम ठीक रहा तो 23 से 25 मई तक देश के मध्य पुंग्ये-री परमाणु परीक्षण स्थल को नष्ट कर दिया जाएगा. जिस तारीख को किम जोंग उन ने प्योंग-री में अपनी बम फैक्ट्री यानी न्यूक्लियर साइट को खत्म करने का वादा किया था वो घड़ी आ गई. और किम ने अपने वादे के मुताबिक तैयारी भी कर ली है. उत्तर कोरिया की इस बम फैक्ट्री को खत्म होते हुए कैमरे में रिकार्ड करने के लिए. दुनियाभर के पत्रकार नॉर्थ कोरिया की राजधानी प्योंगयांग पहुंच गए है. सभी पत्रकार एक चार्टेड विमान के ज़रिए बीजिंग से उत्तर कोरिया की राजधानी प्योंगयांग लैंड कर चुके हैं. अब मौसम के मिजाज़ पर तय होगा कि दुनिया के लिए खतरा बनी इस बम फैक्ट्री को 23 मई, 24 मई या 25 मई को तबाह किया जाए. और अगर मौसम ने साथ ना दिया तो ये तारीख आगे भी बढ़ भी सकती है.

मिलिट्री ड्रिल से नाराज है किम

अपने मुल्क से विदेशी पत्रकारों को दूर रखने वाला किम जोंग उन इस बार खुद चाहता है कि दुनिया ये देखे कि वो अपने वादे का कितना पक्का है. वहीं दूसरी तरफ वो अमेरिका की हकीकत भी दुनिया के सामने लाना चाहता है क्योंकि एक तरफ तो अमेरिका कोरियाई पेनिनसुला में शांति के लिए किम जोंग उन से ये उम्मीद करता है कि वो अपनी न्यूक्लियर साइट को नष्ट कर दे. वहीं दूसरी तरफ दक्षिण कोरिया के साथ मिलकर ट्रंप की सेना मिलिट्री ड्रिल कर रही है. जिससे किम नाराज़ हो चुका है. लिहाज़ा अगर ट्रंप ने इस ड्रिल को खत्म ना किया और अपने दोहरे रव्वैये में बदलाव ना लाए तो मार्शल किम ट्रंप के साथ होने वाली मीटिंग कैंसिल भी कर सकता है.

उत्तर कोरिया ने किया गुस्से का इजहार

इस सिलसिले में उत्तर कोरिया सरकार की तरफ से गुस्से का इज़हार करते हुए कहा गया कि अगर अमेरिका हमें दरकिनार कर सिर्फ़ एकतरफा ये मांग करता है कि हम अपने परमाणु कार्यक्रम को बंद कर दें, तो हम इस तरह की बातचीत के पक्ष में नहीं हैं. साथ ही अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच होने वाली आगामी बैठक पर भी हम विचार करेंगे.

न्यूक्लियर साइट तक जाएंगे पत्रकार

अगर ऐसा हुआ तो उत्तर कोरिया सिर्फ इस मुलाकात को ही रद्द नही करेगा बल्कि परमाणु साइट को खत्म करने के अपने फैसले से भी पलट सकता है. शायद इसीलिए उत्तर कोरिया ने विदेशी पत्रकारों को साइट के नज़दीक जाने की इजाज़त फिलहाल नहीं दी है. वहीं अमेरिका के साथ ड्रिल कर रहे दक्षिण कोरिया से नाराज़ किम ने पहले पहल पत्रकारों के इस प्रतिनिधि मंडल से दक्षिण कोरियाई पत्रकारों को बाहर कर दिया था. मगर बाद में अब खबर आई की किम प्रशासन ने दक्षिण कोरियाई पत्रकारों को भी प्योंग-री की न्यूक्लियर साइट तक आने की इजाज़त दे दी है.

किम के पास हमेशा रहता है प्लान बी

मार्शल किम जोंग उन ने तो अपना वादा पूरा कर दिया लेकिन अगर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप अपने वादे से मुकरते हैं तो उन्हें ये याद रखना चाहिए कि किम के पास हमेशा प्लान बी मौजूद रहता है. प्योंग-री की साइट को अगर उसने दुनिया भर की मीडिया के कैमरों के सामने तबाह कर भी दिया, तो खुफिया जानकारी के मुताबिक उसके पास एक और न्यूक्लियर साइट है जो दुनिया की नज़र में तो बंद पड़ी है. मगर किम जब चाहे उसे दोबारा शुरू कर सकता है.

उत्तर कोरिया के पास है दूसरी न्यूक्लियर साइट!

ये उत्तर कोरिया की एक और न्यूक्लियर साइट योंगब्योन में मानी जाती है. जिसे 1976 में बनाया गया था. हालांकि अंतर्राष्ट्रीय दबाव में उत्तर कोरिया को 2008 में इस साइट को बंद करना पड़ा. लेकिन 5 साल यानी 2013 में किम जोंग उन ने इस साइट को दोबारा शुरू करने की धमकी भी दे दी थी. 2015 में जनवरी और सितंबर के महीने में इस प्लांट में संदिग्ध गतिविधियां देखी गईं. माना गया कि उत्तर कोरियाई सरकार इसे दोबारा शुरू करने की कोशिश कर रही है. और 2016 में तो बाकायदा आईएईए यानी इंटरनेशनल एटोमिक एनर्जी एजेंसी ने इस प्लांट में प्लूटोनियम प्रोडक्शन पाने की बात कही थी.

बात नहीं बनी तो फिर मंडराएगा विश्वयुद्ध का खतरा

उत्तर कोरिया जब चाहे इस न्यूक्लियर साइट को दोबारा पूरी तरह शुरू कर सकता है. और यहां वो बेहद आसानी से इतना प्लूटोनियम बना सकता है, जिससे कई न्यूक्लियर बम तैयार किए जा सकते हैं. लिहाज़ा जानकार मानते हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ये समझने की भूल ना करें कि वो प्योंग-री साइट को खत्म करा के किम के मंसूबों को रोक पाएंगे. और बातचीत से पीछे हट कर तो मुमकिन है कि डोनल्ड ट्रंप किम को नाराज़ भी कर दें. और इस बार मार्शल को नाराज़ करने का मतलब होगा कि बात सचमुच युद्ध पर आकर खत्म हो. यानी एक बार फिर दुनिया पर विश्वयुद्ध का खतरा मंडराने लगेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें