scorecardresearch
 

हाथरस कांडः अलीगढ़ मेडिकल कॉलेज के दो डॉक्टर टर्मिनेट, रेप सैंपल पर दी थी राय

हाथरस गैंगरेप और मर्डर मामले में सीबीआई की छानबीन जारी है. इस बीच, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में लीव वैकेंसी पर काम कर रहे दो डॉक्टरों को तत्काल प्रभाव से टर्मिनेट कर दिया गया है. एएमयू के वीसी के आदेश से इन दोनों डॉक्टरों को टर्मिनेट किया गया है.

जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के दो डॉक्टर टर्मिनेट (फाइल फोटो-PTI) जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के दो डॉक्टर टर्मिनेट (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • मेडिकल कॉलेज के दो डॉक्टर टर्मिनेट
  • हाथरस कांड में सैंपल पर जताई थी राय
  • डॉक्टर बोले-पता नहीं क्यों टर्मिनेट किया

हाथरस गैंगरेप और मर्डर मामले में सीबीआई की छानबीन जारी है. इस बीच, अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में लीव वैकेंसी पर काम कर रहे दो डॉक्टरों को तत्काल प्रभाव से टर्मिनेट कर दिया गया है. एएमयू के वीसी के आदेश से इन दोनों डॉक्टरों को टर्मिनेट किया गया है.

जेएन मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी और ट्रॉमा में कार्यकारी सीएमओ के पद पर कार्य कर रहे डॉ अजीम और  डॉ ओबैद को यूनिवर्सिटी वीसी प्रोफेसर तारिक मंसूर के आदेश से टर्मिनेट कर दिया गया है.

डॉ अजीम ने हाथरस मामले को लेकर अपनी राय रखी थी. उन्होंने बताया था कि 10 से 12 दिन में अगर सैम्पल कलेक्ट किया जाता है तो उसमें रेप की पुष्टि करना मुमकिन नहीं है. वहीं सोमवार को हाथरस मामले को लेकर सीबीआई की टीम ने भी जेएन मेडिकल कॉलेज में छानबीन की थी. सीबीआई की टीम ने सात घंटे से अधिक समय तक मेडिकल कॉलेज में डॉक्टरों से पूछताछ की थी.

डॉक्टर बोले- पता नहीं क्यों टर्मिनेट किया

वहीं दोनों डॉक्टरों का कहना है कि उन्हें किस वजह से टर्मिनेट किया गया है, इसके बारे में जानकारी नहीं दी गई है. डॉक्टरों ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज में कार्यरत छह डॉक्टरों के कोरोना संक्रमित होने पर उनको ड्यूटी पर बुलाया गया था. उस भयंकर कोरोना संक्रमण के दौर में कोई भी यहां ड्यूटी करना नहीं चाहता था, तब हमने यहां ड्यूटी की.

डॉक्टरों ने कहा कि इसी दौरान ढाई महीने बाद हाथरस कांड हुआ जिसमें हमने मीडिया को कोई इंटरव्यू नहीं दिया. मीडियाकर्मी ने फोन करके फॉरेंसिक संबंधित कोई राय पूछी तो दे दी गई. इस तरह की राय हम डॉक्टर की हैसियत से दे सकते हैं. सोमवार को सीबीआई की टीम भी आई थी. लेकिन सीबीआई टीम की हमसे कोई डायरेक्ट बात नहीं हुई.

देखें: आजतक LIVE TV

डॉक्टरों ने बताया कि आज हमको सीएमओ मेडिकल इंचार्ज डॉक्टर एस.ए.एच. जैदी ने लिखित रूप से अवगत कराया कि एएमयू वीसी ने उनको टेलीफोन पर निर्देशित किया है कि आज से हम दोनों डॉक्टरों की सेवाएं समाप्त की जाती हैं. हम दूसरी जगह से नौकरी छोड़ कर आए और यहां कोविड-19 काल मैं ड्यूटी ज्वॉइन कर अपनी सेवाएं दीं. उस दौरान सेवाएं दीं जब यहां कोई काम करने को तैयार नहीं था.

वीसी से की अपील

डॉक्टरों ने कहा कि किस कारण से हमारी सेवाएं समाप्त की गई हैं, यह हमें बताया जाए? हमारी स्वतंत्रता की आवाज दबाई जाने की कोशिश की जा रही है तो हमने भी वीसी साहब को पत्र लिखा है और वह हमारे भविष्य के हित में सोचेंगे यह हमें उनसे उम्मीद है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें